शेखर जोशी से नवीन जोशी की बातचीत

 




विगत 4 अक्तूबर 2022 को प्रख्यात कथाकार शेखर जोशी का निधन हो गया। शेखर जी ऐसे कहानीकार रहे हैं जिनकी कई कहानियां पाठकों के बीच काफी ख्यात हैं। शेखर जी नई कहानी आंदोलन के एक मजबूत स्तम्भ थे। उनके निधन के साथ ही नई पीढ़ी के रचनाकारों की पीढ़ी का अन्त हो गया। शेखर जी ने अपने विशेष अंदाज से नई कहानी आंदोलन की पहचान को प्रभावित किया है। पहाड़ी इलाकों की गरीबी, कठिन जीवन संघर्ष, उत्पीड़न, यातना, प्रतिरोध, उम्मीद और नाउम्मीदी से भरे औद्योगिक मजदूरों के हालात, शहरी-कस्बाई और निम्न वर्ग के सामाजिक-नैतिक संकट, धर्म और जाति में जुड़ी रुढ़ियाँ— ये सभी उनकी कहानियों के मुख्य विषय हैं। शेखर जोशी की प्रमुख प्रकाशित रचनाएँ इस प्रकार हैं। कोसी का घटवार (1958), साथ के लोग (1978), हलवाहा (1981), नौरंगी बीमार है (1990), मेरा पहाड़ (1989), डागरी वाला (1994), बच्चे का सपना (2004), आदमी का डर (2011), एक पेड़ की याद (2015), प्रतिनिधि कहानियाँ। हाल ही में आजकल ने शेखर जी पर केन्द्रित एक विशेषांक प्रकाशित किया। इस विशेषांक के लिए रचनाकार नवीन जोशी ने शेखर जी का लम्बा साक्षात्कार लिया था जिसे आजकल ने अपने दो अंकों में श्रृंखलाबद्ध रूप में प्रकाशित किया था। एक तरह से शेखर जी का यह अन्तिम साक्षात्कार था। आइए आज पहली बार पर हम पढ़ते हैं शेखर जोशी से नवीन जोशी का साक्षात्कार “हम अपनी पारी खेल चुके- ईमानदारी से, कोई अफसोस नहीं”।


 

शेखर जोशी से बातचीत


हम अपनी पारी खेल चुके- ईमानदारी से, कोई अफसोस नहीं


नवीन जोशी


10 सितम्बर,1932 को ओलिया गांव (अल्मोड़ा, उत्तराखण्ड) में जन्मे शेखर जोशी को छोटी उम्र में ही मां के निधन के बाद सुदूर कीकर (राजस्थान) में मामा के पास जाना पड़ा था। पहाड़ों की सुरम्य गोद से सीधे मरुभूमि में जा पहुंचे बालक शेखर के भीतर पहाड़, प्रकृति और वहां के लोग अपनी सुंदर, मधुर लेकिन कठोर यथार्थ के साथ रचे-बसे रहे। कालांतर में वे आजीविका के क्रम में दिल्ली होते हुए इलाहाबाद पहुंचे। साहित्यिक संस्कार उन्हें बचपन में ही ननिहाल से मिल गए थे जो दिल्ली में न केवल विकसित हुए, बल्कि वहां होटल कर्मचारियों के संगठन के सम्पर्क में आने के बाद जीवन के यथार्थ और निम्न एवं मध्य वर्ग की जद्दोजहद से उनका सीधा साक्षात्कार हुआ। 1955 में जब वे इलाहाबाद के ईएमई कारखाने में तैनात हुए तो तब हिंदी साहित्य के सबसे सक्रिय, सचेत और समृद्ध इस शहर ने उनके भीतर के कहानीकार को पूरी तरह उत्प्रेरित कर दिया। उधर, कारखाने में दिन भर की कठिन नौकरी ने उन्हें श्रमिकों और कल-कारखानों की उस दुनिया से गहन रूप से जोड़ दिया जिसका कोई आत्मीय स्पर्श हिंदी कहानी को तब तक हुआ न था।



इस तरह पहाड़ और कारखाने, श्रमिक और निम्न-मध्य वर्ग का आत्मीय किंतु संघर्ष एवं अंतर्विरोधों से भरा संसार उनकी रचना-भूमि बना। पहाड़ के विविध पक्षों पर लिखने वाले उनसे पहले और बाद में भी कई साहित्यकार हुए, हालांकि उनके जैसा पहाड़ अन्य लेखकों की रचनाओं से अछूता ही रहा, लेकिन श्रमिकों और कारखानों के यथार्थ पर यादगार कहानियां लिखने वाले हिंदी में वे अकेले ही हुए। इन विषयों पर आज भी नहीं लिखा जा रहा या उल्लेखनीय कहानियां सामने नहीं आ रहीं। उस्ताद,’ ‘बदबू,’ ‘सीढ़ियांऔर मेण्टल जैसी कहानियां वे 1960 तक लिख चुके थे। आज छह दशकों से भी अधिक समय बीत जाने पर भी ये कथाएं न केवल याद की जाती हैं, बल्कि अक्सर उद्धृत की जाती हैं।



शेखर जोशी जी ने अपेक्षाकृत कम कहानियां लिखीं लेकिन सीधी-सरल भाषा, चमत्कारविहीन मौन-सी शैली और दमदार कथ्य ने उन्हें हिंदी कहानी के शिखर पर पहुंचाया। उपन्यास उन्होंने एक भी नहीं  लिखा। यदा-कदा कविताएं और संस्मरण अवश्य वे लिखते रहे। नब्बे वर्ष की उम्र में भी उनकी रचनात्मक सक्रियता जारी है। आंखों की असाध्य बीमारी के कारण पढ़ना अत्यंत कठिन हो गया है और लिखना कागज पर अंगुलियों के सहारे कलम घसीट कर ही हो पाता है। हाल में उनकी दो पुस्तकें, ‘मेरा ओलिया गांव’ (पहाड़ में बिताए बचपन की स्मृतियां) और पार्वती’ (कविता संग्रह) प्रकाशित हुए हैं। अपने वरिष्ठ साथी लेखकों के बारे में उनके संस्मरणों की एक किताब प्रकाशनाधीन है। स्मृति उनकी बहुत अच्छी है। विभिन्न जीवन प्रसंग ही नहीं, अपनी तथा प्रिय कवियों की कविताएं वे बिना अटके सुना जाते हैं।



यह बातचीत लखनऊ में जून-मध्य में होनी तय थी लेकिन कुछ स्वास्थ्य समस्या के कारण उन्हें पुणे में बेटी के पास ही रुक जाना पड़ा। फोन पर सुनने की समस्या थी इसलिए सवाल उन्हें लिख कर भेजे गए जिनके जवाब उनकी बेटी कृष्णा पंत ने फोन पर रिकॉर्ड करके लौटाए। इस प्रस्तुति में बराबर का श्रेय कृष्णा का भी है।  

 


नवीन जोशी : कारखानों और श्रमिक वर्ग के जीवन के बारे में कहानियां लिखने की तरफ ध्यान कैसे गया?


-      जब मैं अक्टूबर 1955 में इलाहाबाद में पहली बार कहानी पत्रिका के सम्पादक श्री भैरव प्रसाद गुप्त से मिला, तब कहानीका वार्षिकांक प्रकाशित हो चुका था। कहानीके वार्षिकांक इतने महत्त्वपूर्ण होते थे कि इन विशेषांकों के लिए लेखक अपनी श्रेष्ठ कहानी रखे रहते थे। इन विशेषांकों के कारण कहानी विधा केंद्र में आ गई थी। तो, भैरव जी ने मुझसे कहा कि नया विशेषांक देख लिया हो तो अपनी पाठकीय प्रतिक्रिया भेजना। मैंने विस्तृत पत्र लिखा, अलग-अलग कहानियों पर, जो मुझे अच्छी लगी थीं, अपनी राय दी। फिर मैंने एक टिप्पणी ये की कि इस विशेषांक में जो कमी खलती है, वह ये कि लेखक जहां उच्च वर्ग के ड्राइंग रूम, मध्यम वर्ग की गृहस्थी, खेती-किसानी और निम्न वर्ग की झोपड़ियों तक पहुंच जाता है और वेश्याओं के कोठों में जाने में भी नहीं हिचकता, वहां एक वर्ग को वह छोड़ देता है। ये केवल इस विशेषांक की बात नहीं, हिंदी कथा साहित्य में इस वर्ग की अंतरंग कहानियां बिल्कुल नहीं। वह वर्ग है औद्योगिक क्षेत्रों में काम करने वाले कामगारों का, उस परिवेश का, उनकी बोली-बानी का और उनके आपसी व्यवहार का। भैरव जी बहुत स्पष्ट वक्ता थे। उन्होंने थोड़े ऊंचे स्वर में कहा- तुम दूसरों को बहुत नसीहत दे रहे हो। तुमने बताया कि चार साल तक हर तरह के कारीगर के साथ में तुमने ट्रेनिंग पीरियड में काम सीखा है। अब भी तुम दिन के आठ घण्टे उनके सम्पर्क में रहते हो। तो, तुम खुद क्यों नहीं लिखते इस बारे में? मुझे लगा कि भैरव जी बहुत सही बात कह रहे हैं। तब मैंने औद्योगिक जीवन की जो पहली कहानी लिखी उसका शीर्षक था- उस्ताद। तब तक जो स्थानीय मित्र हो गए थे, उन लोगों को सुनाई, दुष्यंत, मार्कण्डेय, कमलेश्वर, अमरकांत, वगैरह। उन लोगों को बहुत अच्छी लगी कहानी क्योंकि एक बिल्कुल नई दुनिया थी, नया परिवेश था, नई भाषा थी।

 

 

उसी बीच में उपेंद्रनाथ अश्क द्वारा सम्पादित साहित्य संकलन संकेतमें मेरी दाज्यूकहानी छपी थी। अमृत राय जी ने वह कहानी पढ़ी होगी। उन्होंने भी बाल्कृष्ण राव जी के साथ मिलकर हंसका एक साहित्य संकलन निकालने की योजना बनाई थी। उनके आग्रह पर मैंने उत्साह में अपनी उस्तादकहानी उनको भेज दी। फिर मैं गांव चला गया। कुछ दिन बाद गांव में ही मुझे अमृत राय जी का पत्र मिला। आप दाद देंगे अमृत राय जी के साहित्य विवेक की और उनकी सम्पादकीय पारखी दृष्टि की कि, उन्होंने मुझे लिखा था कि शेखर, तुम्हारी कहानी पढ़ी, अच्छी है लेकिन मैं तुमसे उससे भी अच्छी कहानी की अपेक्षा करता हूं। मुझे बुरा नहीं लगा, बल्कि मुझमें एक प्रेरणा जैसी जगी कि देखो कोई सम्पादक मुझसे और अच्छी कहानी की अपेक्षा कर रहा है। मैंने गांव में ही बैठकर एक कहानी पूरी की जिसका शीर्षक बदबूथा और अमृत राय जी को भेज दी। हफ्ते भर के अंदर अमृत राय जी का छोटा-सा पत्र आया कि शेखर अच्छी कहानी के लिए बधाई। इसे प्रेस में दे दिया है। तो, इस तरह से इस क्षेत्र की कहानियों को लिखने की मेरी शुरुआत हुई।


नवीन जोशी - वह आक्रामक ट्रेड यूनियन और श्रम नीतियों के विरुद्ध असंतोष का दौर भी था। यह पक्ष कहानीकारों  से क्यों छूटा, जबकि किसानों और गांवों के बारे में काफी लिखा जा रहा था?

-         

     जहां तक मैं समझता हूं, इसका कारण यह था कि जो वर्ग लेखन की ओर प्रवृत्त हो रहा था उसका कल-कारखानों के लोगों से आपसी सम्पर्क बिल्कुल नहीं था। अगर वो किसानों के बारे में, गांव के बारे में, खेती के बारे में लिख रहे थे तो वह भी शहर में रहने के बाद उस नॉस्टेल्जिया को रिपीट कर रहे थे जो उन्होंने अपने गांवों में रहते हुए देखा था। दूसरा, ऐसा नहीं है कि हड़ताल, वगैरह के बारे में लिखा नहीं जा रहा था लेकिन एक सतही तौर पर लाल झण्डा दिखा के, इंकलाब जिंदाबाद करते हुए। आपको याद होगा कि भीष्म (साहनी) जी की कहानी भाग्य रेखामें ज्योतिषी को हाथ दिखा रहा है कोई आदमी और ज्योतिषी उसके बारे में काफी नकारात्मक बातें बता रहा है। तभी सामने से एक जुलूस निकल रहा है श्रमिकों का और नारेबाजी हो रही है। तो, जो आदमी हाथ दिखवा रहा है, वह ज्योतिषी से कहता है, जरा फिर से देखो। तो, सांकेतिक रूप में लेखक की श्रमिकों के प्रति पक्षधरता दिखती है लेकिन जो मैं कहना चाह रहा था वो ये कि फैक्ट्री के अंदर का माहौल, वहां की बोली-बानी, काम करने के तौर-तरीके, ईर्ष्या-द्वेष, ये चीजें नहीं आ रही थीं, चूंकि सम्पर्क नहीं था कोई। मेरा सौभाग्य यह था कि मैं परिस्थितियोंवश उस तरह की जिंदगी में शामिल हो गया था।  

 

   


नवीन जोशी : कुछ आलोचकों ने लिखा कि आपकी कहानियों के श्रमिक आंदोलन नहीं करते, हड़ताल नहीं करते, ट्रेड यूनियन का जिक्र बहुत कम होता है, मालिकों और पूंजीपतियों से टकराव के प्रसंग नहीं आते। आप क्या कहेंगे?


-      दो तरह के समीक्षक होते हैं। एक, जो लाउड कथन के पक्षधर होते हैं और उनको ऐसा लगता है कि पाठक इतना जागरूक नहीं है कि अंडरटोन में लिखी गई कहानियों को समझ सके। और, मेरा मानना ये था कि बिना बहुत लाउड हुए जो शोषण हो रहा है, जो संघर्ष हो रहा है, जो जय-पराजय हो रही है, उसको मैं चित्रित कर सकूं। तो, हो सकता है कि कुछ लोगों का ऐसा सोचना हो कि मैं बहुत वोकल नहीं हूं। और, मैं होना भी नहीं चाहता था क्योंकि मैं बहुत ही अण्डरटोन में बात कर के अपने कथ्य को सम्प्रेषित करना चाहता था। 

 


 


नवीन जोशी : आपके बाद भी इस तरह की कहानियां नहीं या बहुत कम लिखी गईं। आज तो श्रमिकों का हाल किसानों से भी बुरा है, फिर भी कथाकार उस बारे में लगभग नहीं लिख पा रहे। आपको क्या कारण लगते हैं?


-         मेरे बाद (श्रम जगत के बारे में) लिखने वालों में दो प्रमुख नाम हैं, एक इजराइल और दूसरे सतीश जमाली। इन दोनों का सम्पर्क औद्योगिक परिवेश से रहा या वे वहां के कारीगरों के सम्पर्क में रहे। इजराइल तो पार्टी वर्कर थे और ट्रेड यूनियनों से भी जुड़े रहते थे। उन्होंने इस परिवेश की कहानियां लिखीं। सतीश जमाली खुद फैक्ट्री में काम करते थे। वैसे अनुभव थे उनके तो उन्होंने वैसी कहानियां लिखीं। शायद जयनंदन ने भी ऐसी कुछ कहानियां लिखीं। शकील सिद्दीकी एचएएल फैक्ट्री में काम करते थे। उनकी रचनाओं में भी यह परिवेश अंकित है। मूल कारण यही है कि लेखकों का इस क्षेत्र से सीधा सम्पर्क नहीं रहा या बहुत कम रहा।

 

 

नवीन जोशी : आपकी कहानियों का जो क्राफ्ट है, सीधा, सरल, बहुत कम कहने और अधिक असर डालने वाला, व्यंग्य का पुट लिए हुए, वह आपने सायास अपनाया या आपके व्यक्तित्व और स्वभाव से वह निकला

 

-    आप भी अनुभव करते होंगे कि हमारे पहाड़ी ग्रामीण जीवन में जो आपसी वार्तालाप होते हैं, उसकी एक अपनी तरह की शैली होती है। उसमें व्यंग्य भी होता है, मितकथन भी होता है और कहावतों के माध्यम से बात कही जाती है। आपने पढ़ी होगी मेरी किस्सागोकहानी, उसमें इस तरह का वातावरण है। तो, यह मुझे अपने संस्कारों से मिला है। दूसरा यह है कि मैंने बहुत अकादमिक पढ़ाई नहीं की है लेकिन स्वाध्याय से मैंने बहुत अच्छा साहित्य, देसी-विदेशी, पढ़ने का और समझने का और उसके क्राफ्ट को जानने का प्रयत्न किया है। तो, जो ये मेरा विवेक है वह बहुत कुछ मेरे अपने अध्ययन से और मेरे जीवन के अनुभवों से आया है।  

 

 

नवीन जोशी : आप कैसे लिखते हैं यानी कई ड्राफ्ट बनाते हैं या मन ही मन लिख कर फाइनल करते हैं? एक कहानी आम तौर पर कितनी बैठकों में पूरी होती थी?

-     जब मैं किसी विषय पर लिखना चाहता हूं तो मानसिक रूप से मैं उसको गूंथता हूं और उसमें क्या बढ़ाना है, क्या घटाना है, यह सब मैं अपनी कल्पना में सोचे रहता हूं। तो, प्राय: मैंने अपनी कहानियां एक ही सिटिंग में पूरी की हैं क्योंकि बहुत लम्बी कहानियां नहीं हैं मेरी। जो सबसे अधिक समय लेने वाली कहानी थी, वह 'कोसी का घटवार' थी जो मैंने दो या ढाई दिन की बैठक के बाद पूरी की थी। मेरा लिखने का एक और तरीका था, कहानी लिखने से पहले बहुत सारे कविता संकलन पास में रखता था और उन कविता संकलनों को, अपने प्रिय कवियों को पढ़ता था। उसके बाद मैं गद्य की ओर अग्रसर होता था। तो, इससे पता नहीं कैसे मेरे दिमाग में एक ऊर्जा होती थी।  

 

 

नवीन जोशी : आप दिल्ली में कुछ वर्ष रह कर इलाहाबाद आए। उस दौर में दोनों शहरों के साहित्यिक माहौल में क्या फर्क था? इलाहाबाद के माहौल के बारे में बताइए, जो तब हिंदी साहित्य का सबसे बड़ा केंद्र था।

-     मेरा दिल्ली का पहला प्रवास सन 1951 से ले कर 55 तक रहा। तब वहां की जो साहित्यिक गतिविधियां थीं, बहुत महत्त्वपूर्ण नहीं थीं। जो बड़े लेखक थे, जैसे जैनेंद्र जी, मैथिलीशरण गुप्त थे, रामधारी सिंह दिनकर थे, ये लोग ज्यादा मिक्स-अप नहीं होते थे। जैनेंद्र जी के घर में शनिवार समाजकी साहित्यिक मीटिंगें होती जरूर थीं। बाद में दिल्ली जो साहित्य का केंद्र बनी वह अज्ञेय जी, श्री नरेश मेहता, रघुवीर सहाय, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, श्रीकांत वर्मा जैसे कवियों और निर्मल वर्मा, रामकुमार, भीष्म साहनी जैसे कहानीकारों के कारण बनी। गीतकार कवियों का वर्चस्व था जो कि कवि सम्मेलनों में, कवि गोष्ठियों में सस्वर पाठ करते थे। गोपाल प्रसाद व्यास जैसे हास्य-कवि थे और लोगों को काफी हंसने-हंसाने का मौका मिलता था। उन लोगों की संगत के कारण मैंने भी कुछ कविताएं लिखी थीं लेकिन मेरी कविताएं कुछ भिन्न होती थीं। उसमें एक कथातत्व रहता था जैसे

    मैं मंदिर में जाता हूं/ उस ईश्वर को शीश नवाने जो पत्थर का गुमसुम बुत है/ कृपण कृपा से धनवानों की/ धाम बना जिसका अद्भुत है/ मैं जाता हूं याचक बन कर/ वैभव पूर्ण जीवन पाने / मैं जाता सौदागर बनकर/ चांदी के सिक्कों के बदले अपने पापों का भुगतान चुकाने... 

 

     तो, गीतकारों की प्रेम कविताओं से हटके इन कविताओं को लोग खूब पसंद करते थे और तालियां देते थे। अगर मैं दिल्ली में ही रह जाता तो तालियां ही बटोरता रह जाता।

 

मेरा सौभाग्य था कि जब हमारी ट्रेनिंग खत्म हुई तो पता चला कि मेरे ट्रेड के चार लोगों के लिए इलाहाबाद में वेकेंसी है। मेरा मुख्य उद्देश्य था कि इस साहित्यिक शहर में पहुंचकर कुछ सीखना, कुछ पढ़ना। राजनीतिक रूप से भी वह जागृत शहर था। इलाहाबाद आना इतना शुभ हुआ... पर्वतीय जन विकास समिति नाम की हमारी सांस्कृतिक संस्था दिल्ली में थी, उसके बुलेटिन के वार्षिकांक के लिए नंद किशोर नौटियाल ने, जो सम्पादक मण्डल में प्रमुख थे, कहा था- शेखर तुम कहानियां लिखते हो, तो ऐसी कहानी लिखो जिसमें नायक होटल में काम करता हो। तो, मैंने दाज्यूकहानी लिखी थी। जब मैं इलाहाबाद पहुंचा तो एक दिन भैरव जी के कमरे में अचानक कमलेश्वर भी आ गए, जो साहित्यिकीका संयोजन करते थे, जो प्रगतिशील साहित्यकारों की गोष्ठी होती थी। भैरव जी ने उनसे कहा कि ये भी कहानीकार हैं, इनकी कहानी भी तुम एजेण्डे में रखो। तो, अगले महीने कमलेश्वर ने मेरी का कहानी का पाठ रखा। श्रीपत जी के घर पर, ड्रमंड रोड में, बहुत बड़ी मीटिंग थी, हिंदी और उर्दू के लोगों की सम्मिलित रूप से। वहां मैंने डरते-डरते दाज्यूकहानी का पाठ किया। और, ‘दाज्यू कहानी को लोगों ने इतना सराहा कि अश्क जी ने कमलेश्वर से कहा कि ले लो। मैं समझा नहीं और कमलेश्वर ने पाण्डुलिपि मेरे हाथ से ले ली। बाद में पता चला कि अश्क जी एक साहित्यिक संकलन संकेतनिकाल रहे हैं, उसमें वह कहानी देंगे। तो, संकेत में भी 'दाज्यू' कहानी छपी और खूब चर्चित हुई। उसके बाद फिर अमृत राय जी और बाल कृष्ण राव, जो सी वाई चिंतामणि जी के सुपुत्र और आईसीएस अधिकारी थे, इस्तीफा देकर स्वतंत्र लेखन के लिए इलाहाबाद में बस गए थे, उनके संयुक्त सम्पादन में हंसका भी एक साहित्यिक संकलन निकलने वाला था। जैसा कि पहले बता चुका हूं, उसके लिए बदबू लिखी। उसके बाद तो सिलसिला चल निकला। कहानीपत्रिका के माध्यम से भैरव जी ने मुझसे तगादा कर-कर के कहानियां लिखवाईं। अगले विशेषांक में उस्तादछपी। उसके अगले विशेषांक में कोसी का घटवारछपी। तो, इस तरह से मुझे ऐसी जगह मिली जहां अपने अग्रजों से और फिर अपने समकालीनों से बहुत कुछ सीखने का मौका मिला।

 

एक बहुत अच्छा संयोग यह हुआ कि व्हीलर बुक स्टाल के मालिक, सम्भवत: अनुकूल बनर्जी,  ने, स्टाल में रखे-रखे जो किताबें खराब हो जाती थीं, पुरानी पड़ जाती थीं, उनका एक विक्रय केंद्र सिविल लाइंस में रखा। महीने में एक बार स्टॉक आता था। जैसे ही स्टॉक आता था, साहित्यिक रुचि के विद्यार्थी, प्रोफेसरान, लेखक टूट पड़ते थे। मैंने सस्ते दामों पर जॉन स्टेनबैक की पूरी श्रृंखला, काफ्का की 'द कैसल', और भी बहुत सी किताबें वहीं से लेकर पढ़ीं। उन दिनों मास्को से जो साहित्य आता था, अनूदित साहित्य, मुख्य रूप से सोवियत यूनियन की भाषाओं का, बहुत सस्ते में वो किताबें मिलती थीं। उसके दो सेण्टर थे- एक, यूनिवर्सिटी रोड पर और एक जॉनस्टनगंज में। मास्को से प्रकाशित पुस्तकों में चेखव, तुर्गनेव, मैक्सिम गोर्की, आस्त्रोवस्की, चंगेज आइत्मातोव के उपन्यास, माइकोवस्की, नाजिम हिकमत और निकोला वाप्सरोव की कविताएं पढ़ने का सुयोग मिला। इससे कुछ वर्ष पहले नेमिचंद्र जैन ने सिविल लाइन्स में  आधुनिक पुस्तक भण्डारखोलकर लोगों में अच्छी, सार्थक साहित्यिक पुस्तकें पढ़ने की नींव डाली थी। हम लोग आपस में बातें करते थे, जो अग्रज लोग हैं उनकी बातें सुनते थे, इससे अच्छी समझ बनती थी। तो, इस तरह इलाहाबाद का माहौल था। निराला जी हालांकि बहुत स्वस्थ नहीं थे, लेकिन वहां थे। महादेवी जी थीं, पंत जी थे, फिराक साब थे और अमृत राय, भैरव प्रसाद गुप्त, उपेंद्र नाथ अश्क, शमशेर बहादुर सिंह और परिमल ग्रुप में जगदीश गुप, जयदेव नारायण साही, रामस्वरूप चतुर्वेदी, लक्ष्मीकांत वर्मा। नए लेखकों में दुष्यंत, मार्कण्डेय, कमलेश्वर, अमरकांत भी आ गए थे, ज्ञान प्रकाश, उमाकांत मालवीय... तो, ऐसा गहमागहमी का माहौल रहता था। शनीचरी ग्रुपकहलाता था हमारा, शनिवार को नियमित रूप से मिलते थे। परिमल ग्रुप के लोग भी अक्सर, और शनिवार को तो जरूर ही कॉफी हाउस आते थे। अलग-अलग टेबल्स में बैठते थे। तो, पूरा शहर साहित्यिक माहौल में रंगा हुआ था। बहुत अच्छी फिल्में पैलेसथिएटर में, जो फीरोज गांधी के चाचा जी का था, इतवार को दिखाई जाती थीं। हमने बहुत सी बांग्ला पिक्चरें, अंग्रेजी पिक्चरें, और हिंदी की भी क्लासिक पिक्चरें पैलेसथिएटर में ही देखीं। नाटक भी अक्सर होते रहते थे। फिर, काम करते हुए ट्रेड यूनियन में सम्पर्क हुआ और मैं अपनी ब्रांच का सेक्रेट्री बना। तो, सारे शहर की ट्रेड यूनियनों से सम्पर्क होने लगा। उसका भी बहुत कुछ असर रहा। तो, ये सब प्रेरक चीजें थीं इलाहाबाद में। और, जो साहित्यिक लोगों के आपसी सम्बंध होते थे वो इतने मधुर होते थे, इतने आत्मीय कि मुझे याद है कि सन साठ (1960) में हमारी शादी हुई थी और उसी वर्ष संस्कृत के विद्वान कमलेश दत्त त्रिपाठी जी की भी शादी हुई और एक और सज्जन की भी, जो कि श्रीकृष्ण दास जी की बहन के पुत्र थे। श्रीकृष्ण दास जी बहुत बड़े साहित्यिक पत्रकार थे। तो, उनके घर में तीनों जोड़ों को बुलाया गया और कल्पना कीजिए कि कोई रिश्तेदारी नहीं, कोई कुछ नहीं, लेकिन निस्संतान श्रीकृष्णदास जी ने और सरोज भाभी ने तीनों बहुओं की गोद भरी, अक्षत और हल्दी से और सबको एक-एक साड़ी दी। तो, ये कहां मिलता! प्रकाश चंद्र गुप्त जी, जो कि बहुत बड़े आलोचक थे, प्रोफेसर थे अंग्रेजी के, हेड ऑफ डिपार्ट्मनेट थे। उनकी पत्नी बहुत ही स्नेहिल थीं। उन्होंने हम पति-पत्नी को खाने के लिए बुलाया। मेरी पत्नी बिंदास किस्म की थीं। जो चीज अच्छी लगी, खूब मन से खा रही थीं, तो मैंने इशारे से उनको टोका। मिसेज गुप्ता ने डांटकर कहा- शेखर, मैं देख रही हूं, बहू को खाने दो ढंग से। तो, अब सोचिए कि ये माहौल, ये आत्मीयता कैसे संस्कार दे गई हम लोगों को! अश्क जी के घर में हम लोगों की बैठकी होती थी और अश्क जी हर नए लेखक से उसकी रचना सुनके सोचते थे कि वो भी उस तरह की चीज लिखें। बहुत ज़िंदादिल आदमी थे। ... ऐसा वातावरण था...। मासिक गोष्ठियां होती थीं और उनमें ऐसी खिंचाई होती थी कि रचना के रेशे-रेशे को तार-तार किया जाता था। लेकिन कोई दुर्भावना नहीं होती थी। साहित्यिक विवेक उससे जागता था। तो, वह स्वर्ण युग था इलाहाबाद का।  

 


 

                   

नवीन जोशी : परिमल और प्रगतिशील खेमों के रिश्तों पर कुछ बताइए।

-     प्रगतिशील और परिमल खेमों में जो प्रमुख विभाजन था, वो वैचारिक था। प्रगतिशील खेमे वाले मार्क्सवादी दृष्टिकोण के होते थे और परिमल वाले प्राय: या प्रच्छन्न रूप से मार्क्सवाद के विरोध में। अधिकांश लोग उसमें से लोहियावादी थे। और, दूसरा फर्क शिल्प के बारे में था कि उनका रुझान कलावादी होता था। प्रगतिशील लोग सामान्य जन से जुड़ने के लिए एक तरह की आमफहम भाषा और सीधे-सरल कथ्य को प्रीफरेंस देते थे। कुछ ऐसी संस्थाएं थीं जो कि परिमल वालों को बहुत प्रश्रय देती थीं। जैसे, शीतयुद्ध के जमाने में अमेरिका की मॉरल रिआर्मामेंट नाम की संस्था थी, उसका वरदहस्त इनके ऊपर रहता था। प्रगतिशीलों के बारे में लोगों को एक भ्रम था कि इनको रूस जो है, वो प्रश्रय देता है, और आर्थिक रूप से भी। जो कृतियां साहित्यिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण होती थीं उसको दोनों पक्ष आदर की दृष्टि से देखते थे।

 

'परिमलमें नए लेखकों को अपनी ओर आकर्षित करने का बड़ा आग्रह रहता था। जब मैंने 'दाज्यू' कहानी पढ़ी और उसकी चर्चा हुई तो 'परिमल' की ओर से मुझे अपनी ओर खींचने की कोशिश हुई। जगदीश गुप्त, जो 'नई कवितानिकालते थे, उसमें लक्ष्मीकांत जी ने मुझसे कविताएं लेकर छापीं। धर्मवीर भारती ने अपनी पत्रिका निकषमें मेरी कहानी नरु का निर्णयप्रकाशित की। लेकिन हमारा दिल्ली से रंग कुछ दूसरा बदल गया था, इसलिए 'परिमल' की ओर उतना आकर्षित नहीं हुए। कोशिश ये रहती थी मेरी कि चाहे वो प्रगतिशील खेमे का हो, चाहे परिमल खेमे का, अगर कोई रचना अच्छी है तो उसे बिना किसी पूर्वग्रह के पढ़ा जाय और मैंने एक मीटिंग में हिंदी साहित्य सम्मेलन में ये बात कही थी कि हम बहुत सी चीजों को पढ़ने से वंचित रह गए पूर्वग्रह के कारण और दूसरे खेमे के लोग भी वंचित रह गए होंगे।

     

नवीन जोशी :  इलाहाबाद में 1957 में हुए लेखक सम्मेलन के बारे में बताइए कि क्या उद्देश्य था, कितनी भागीदारी थी, उसका क्या प्रभाव पड़ा?

 

-     दिसम्बर 1957 में तीन दिन का एक अखिल भारतीय अभूतपूर्व सम्मेलन हुआ था। इसका आयोजन इलाहाबाद के प्रगतिशील लेखकों ने किया और बनारस से आयोजन समिति में जुड़े डॉ नामवर सिंह और केदारनाथ सिंह। आमंत्रित लेखकों को सूचित कर दिया गया था कि हम आपके आवास की व्यवस्था नहीं कर पाएंगे। भोजन की व्यवस्था अवश्य हम करेंगे। बहुत बड़ी संख्या में लोग अपने खर्चे पर अपने आवास की व्यवस्था करके, मित्रों के यहां, इधर-उधर, सम्मिलित हुए थे। तब नए कवि के रूप में श्रीकांत वर्मा, मुक्तिबोध जी के साथ आए थे। मोहन राकेश, राजेंद्र यादव, कमलेश्वर, मार्कण्डेय, शिवप्रसाद सिंह और बनारस से बहुत से नए विद्यार्थी और साहित्य में रुचि रखने वाले शामिल थे। सम्मेलन का उद्घाटन एनी बेसेण्ट हाल में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी ने किया था। उसके बाद संगीत समिति के विभिन्न कक्षों में विभिन्न विधाओं के रचनाकारों की बैठकें हुई थीं। जैसे, कहानी विधा पर गोष्ठी की सदारत यशपाल जी ने की थी। कवियों की गोष्ठी अलग हुई थी। नाटक वालों की गोष्ठी अलग हुई, आलोचना वालों की अलग। इसके प्रमुख सूत्रधार अमृत राय थे। उनमें बड़ी संगठन क्षमता थी और उनका साहित्यकारों के बीच में सम्मान था.. उन्होंने ही तय किया कि किस-किस को आलेख भेजने के लिए लिखना है, निमंत्रण तो सभी को भेजा गया था। गोष्ठी का विषय था स्वाधीन भारत और साहित्यकार उसका परिपत्र भी अमृत जी ने ही ड्राफ्ट किया था। आयोजन समिति में बारह लेखकों का उल्लेख था जिनमें प्रकाश चंद्र गुप्त, भैरव प्रसाद गुप्त, अमृत राय, बनारस से नामवर जी, केदारनाथ सिंह, मार्कण्डेय, अमरकांत, कमलेश्वर, शेखर जोशीएक-दो नाम भूल रहा हूं। अश्क जी तब वहां नहीं थे, इतना मुझे याद है। हो सकता है कि शमशेर जी का नाम रहा हो, श्रीकृष्ण दास जी और श्रीपत राय जी का नाम रहा हो। इतना बढ़िया सम्मेलन हुआ था कि कोई चण्डीगढ़ से आ रहा है, कोई कहीं से, अपनी व्यवस्था करके। कुछ उसमें विनोद पक्ष भी रहा। जैसे, बाहर बातचीत के दौरान विद्यासागर नौटियाल ने कहा कि मैं यशपाल जी से पूंछुंगा कि आपने पर्वतीय नारी को लेकर इस तरह की (खराब धारणा वाली) कहानियां क्यों लिखीं लेकिन गोष्ठी में वे चुप रहे। उधर, संस्कृत के विद्वान वाचस्पति गैरोला जी, जिनका हिंदी साहित्य से कोई लेन-देन नहीं था, अचानक उठ खड़े हुए और उन्होंने कहा कि अध्यक्ष महोदय, आपने पर्वतीय नारी की मान-मर्यादा के विरोध में कहानियां क्यों लिखीं? यशपाल जी भौंचक्के रह गए। सवाल उठाने के बाद गैरोला जी वहां से गायब हो गए थे। तो, अध्यक्षीय भाषण में यशपाल जी ने कहा कि एक सज्जन ने अभी मुझसे कुछ प्रश्न पूछा था, तो कुछ चीजें ऐसी हैं जो मैंने प्रत्यक्ष देखीं हैं और मैंने उनका वर्णन कर दिया, वगैरह। एक चुटकुलेबाजी रही ग्राम-कथा को लेकर। शिवप्रसाद सिंह और मार्कण्डेय ग्राम-कथा वाले लोग थे। कुछ शहरी कथा वाले लोग हो गए। तो, ग्राम कथा बनाम शहरी कथा की बात हो गई। तब कमलेश्वर ने कहा कि कस्बे की कथा भी है। वो मैनपुरी कस्बे के थे। तो, ये विनोद पक्ष रहा।

 

हमारी बड़ी उपलब्धि ये रही कि मुक्तिबोध जो शमशेर जी के यहां टिके हुए थे, हम सब नए लेखक रात में उनके पास पहुंचे और उनसे कविताएं सुनाने के लिए कहा। तब उनकी अंधेरे मेंकविता नहीं लिखी गई थी, शायद ब्रह्मराक्षससुनाई थी। उनका जो चित्र बीड़ी फूंकते हुए बहुत प्रकाशित होता है, वह प्रत्यक्ष देखा हमने। उनका कविता पाठ अपने-आप में इतना स्पष्ट था कि कहीं कोई समझने में अड़चन नहीं आई। नहीं तो पढ़ते हुए मुक्तिबोध को थोड़ी कठिनाई होती थी। अद्भुत था वो...। मुझे जिम्मेदारी दी गई थी कि मैं कवि गोष्ठी का संचालन करूं। मेरे लिए यह बड़ी समस्या थी, नया-नया साहित्य के क्षेत्र में आया था। तो, मैंने नागार्जुन जी, जो पटना में थे, उनको पत्र  लिखा। नागार्जुन जी का तत्काल उत्तर आया कि अभी रात के बारह बजे हैं, मैं विद्यापति  समारोह से लौटा हूं। मैं आऊंगा, जरूर आऊंगा। वो आए और मैंने कवि गोष्ठी के संचालन का भार जो है उनको सम्भला दिया। दुष्यंत मुरादाबाद में थे, नहीं आ पाए। उन्होंने कहा था कि प्रयोगवादियों और गीतकारों को एक साथ मत मिलाना। तो, इस तरह से हम लोगों की भागीदारी रही और खूब आनन्द आया। जो बनारस से ग्रुप आया था, विश्वनाथ त्रिपाठी, अक्षोभ्येश्वरी प्रताप, विजय मोहन, विद्यासागर नौटियाल, ये सब हम लोगों के समकालीन थे, तो खूब हंसी-मजाक, साहित्यिक चर्चा होती थी। कोशिश ये रही कि जो आलेख आए हैं उनका भी प्रकाशन किया जाए लेकिन फिर सम्भव नहीं हुआ। नंद दुलारे बाजपेई जी सागर यूनिवर्सिटी में हेड ऑफ डिपार्टमेण्ट थे। वे आ नहीं पाए लेकिन सागर से यूनिवर्सिटी के छात्र और समवेतपत्रिका के युवा सम्पादक अशोक बाजपेई आए थे। वे बहुत प्रसन्न हुए थे कि उनको बुलाया गया। तो, वह एक ऐतिहासिक सम्मेलन था। प्रगतिशीलों के इस आयोजन में परिमल वालों ने भी पूरी तरह से सहयोग दिया और भाग लिया था। 

 

 


 

नवीन जोशी :  आपकी पहली कहानी कौन सी थी और कब लिखी गई? और, आखिरी कहानी कब और कौन सी लिखी थी? अब कहानियां लिखने का मन नहीं करता? हाल के वर्षों में कविताएं ही लिखने का क्या कारण है?

 

-         मेरी पहली कहानी राजे खत्म हो गए’ 1952 या 53 में लिखी गई जो समासपत्रिका में दिल्ली से प्रकाशित हुई थी, 1955 में। दूसरे विश्व युद्ध में हमारे पहाड़ों से हजारों युवा फौज में चले गए थे। एक बार जब मेरी उम्र ज़्यादा से ज़्यादा दस साल रही होगी, हमको अल्मोड़ा जाना था। अल्मोड़ा पैदल रास्ते से सोलह मील होता था और हवलबाग तक मोटर रोड से ही जाना होता था। तो हम चले पैदल। जहां-जहां बस्ती थी, देखा कि फौजी जवान अपनी चुस्त वर्दी में खड़े हुए हैं, गाड़ी की प्रतीक्षा में। और, उनको विदा देने के लिए उनके परिवार की बहुत सी महिलाएं भी वहां थीं। उनमें माएं होंगी, बहनें होंगी, भाभियां होंगी, किसी-किसी की पत्नी भी होगी। जैसे ही गाड़ी आती, फौजी चट से गाड़ी के अंदर बैठ जाता और जैसे ही गाड़ी चलती थी, जो रुलाई फूटती थी, इतनी दर्दनाक कि मेरे बाल मन में वह अमिट रह गई। और, ये एक जगह नहीं हुआ। हवलबाग तक कई जगह इस तरह के दृश्य देखे। तो, उस कहानी में मैंने एक चरित्र बुढ़िया का लिया था जो अपने बेटे का इंतजार कर रही है। वह इस भ्रम में है कि बेटा ज़िंदा है और आएगा लेकिन बेटा पता नहीं कब शहीद हो चुका है। गांव में एक मंत्री जी आए हुए हैं। उन्होंने दही खाने की इच्छा व्यक्त की। लोग दही लेने के लिए बुढ़िया के पास पहुंचे। बुढ़िया ने बड़ी खुशी से दही की हाँडी उनको पकड़ाई और कहा- मंत्री आए हैं ना, कभी राजे भी आएंगे। और हां, मेरा राजा भी आएगा। जो नैरेटर है उसमें वो कहता है कि मैंने (बुढ़िया से) कहा नहीं लेकिन राजे खत्म हो गए हैं। एक तरह से यह कहानी मेरी प्रसिद्ध कहानी कोसी का घटवार का बीज है।

 

और, अंतिम मेरी कहानी जो है, मुझे जहां तक ख्याल है वागर्थमें प्रकशित हुई थी, वो थी छोटे शहर के बड़े लोग। ये छोटा शहर मेरे दिमाग में भवाली था। वह विनोदपूर्ण ढंग से कही हुई कहानी है, जिसमें एक मछली वाला है, एक मूंगफली वाला है। मछली वाले के टाट से पानी बहकर मूंगफली वाले के बोरे में जाता है। एक दिन मूंगफली वाला मछली वाले की सीट को तोड़-फोड़ देता है। अब बड़ी सनसनी हो जाती है, क्योंकि मछली वाला बड़े नशेड़ी किस्म का आदमी और मुसलमान है। और, ये हिंदू है। एक महिला है जो मंथरा की तरह से सब घरों में जाकर कहती है- हो गया, वहां भी हो गया, अयोध्या हो गया वहां! मुसलमानों ने रामपुर फोन कर दिया है। वहां से गुंडे आ रहे हैं। किस सन में लिखी थी याद नहीं। तो, तनाव हो गया है कस्बे में। मुसलमान हाजी की दुकान में जमा हो जाते हैं। वह (मछली वाला) जब आता है तो देखता है और समझ जाता है कि किसकी कारस्तानी है। तभी हाजी जी जोर से कहते हैं- अरे किसी ने गाड़ी का नम्बर नोट किया या नहीं किया? ये साले टिंचरी पीकर गाड़ी चलाते हैं और बैक करने में तोड़ दिया इसका...' सुनकर लोग मुस्करा रहे हैं और वह समझ रहा है कि यह सब मनगढ़ंत है, मामला दूसरा है लेकिन वह कुछ कर नहीं पाता। तो, ये थे उस छोटे कस्बे के बड़े लोग!

 

अब कहानियां लिखने में दिक्कत ये है न, कि वाक्य विन्यास लम्बा होता है और आपको दोबारा उसको देखना पड़ता है। दिमाग में आती तो हैं कहानियां लेकिन उसको सहज ढंग से लिख नहीं पाता हूं। कविता में ऐसा है कि छोटे-छोटे वाक्य होते हैं और एक लय होती है। और, अभ्यास है थोड़ा-बहुत।





नवीन जोशी :  साठ-पैंसठ साल बाद भी आपकी कहानियां खूब पढ़ी और याद की जाती हैं। दाज्यू’, ‘कोसी का घटवार, बदबू, जैसी कहानियां बार-बार उद्धृत होती हैं। कम लिखने के बावजूद यह विरल उपलब्धि है। इसकी क्या वजह आपको लगती है?

 

-      वजह, तो ये हो सकता है कि मैंने बहुत ध्यान से साहित्यिक कृतियों का अध्ययन किया है, देसी-विदेशी रचनाकारों के शिल्प के बारे में और कथ्य के बारे में। दूसरी सबसे बड़ी बात कि मेरा एक वैचारिक आधार रहा है। कॉमर्शियल राइटिंग करके पैसा कमाने की प्रवृत्ति मेरी नहीं रही। मैं लघु पत्रिकाओं का लेखक रहा हूं। और, एक चीज है कि परकाया प्रवेश में कुछ दक्षता मुझमें रही है। दूसरे के मन को पढ़ने में मैं समझता हूं कि कुछ योग्यता है। और, बचपन से ही बहुत दुखी परिवेश में जीवन बीता, कम उम्र में मातृविहीन हो गया, अपने आत्मीय परिवेश से विस्थापन करने को विवश हुआ। इससे संवेदनशीलता गहरी हुई।... जो भी मैंने लिखा है वह किसी उद्देश्य को लेकर लिखा है। मन में ये भी था कि समाज में किस तरीके से परिवर्तन हो। और तो मैं कुछ नहीं कर सकता, लिख कर ही सामाजिक स्थितियों की विवेचना कर सकता हूं। लोगों को मेरी कहानियां सार्थक लगी हैं तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है।





नवीन जोशी :  कभी राजेंद्र यादव ने कहा था कि शेखर जोशी की कहानियों का उचित से अधिक मूल्यांकन हुआ है’- आप क्या कहना चाहेंगे?

 

-      जिस तरह की कहानियां हम लोग लिख रहे थे, उसको नई कहानी का दौर कहा गया और जब चर्चा होती थी तो अमरकांत, शेखर जोशी और मार्कण्डेय ...। तो, एक प्रोफेशनल राइवलरी भी इसमें कहीं थी। दूसरा, राजेंद्र यादव शुरू से बहुत महत्वाकांक्षी लेखक थे। जैसे, शुरुआत में ही वे अज्ञेय के नाम खुलापत्र जैसा लिखते थे, लोगों की नज़र में आने के लिए और अपने लेखन में भी बहुत कुछ पच्चीकारी करते थे। राजेंद्र यादव और कमलेश्वर नई कहानी आंदोलन के स्वयं-भू नेता बने हुए थे। मोहन राकेश को भी वे अपने साथ लेते थे लेकिन मोहन राकेश उतने मुखर नहीं थे। ये लोग आत्म प्रचार और अपने को स्थापित करने के लिए बहुत कुछ करने की कोशिश करते थे। हमारे पास कोई साधन भी नहीं थे, इन लोगों के पास प्रचार-साधन थे। वैसे, परस्पर मैत्री हम लोगों की रही और राजेंद्र यादव जब भी दिल्ली से या आगरा से कलकत्ता जाते थे तो रास्ते में इलाहाबाद में रुकते थे। तब मैं बैचलर था और उनका अड्डा मेरा ही कमरा होता था। उनकी बड़ी मजेदार चिट्ठियां आती थीं। जब उन्होंने हंस शुरू किया तो मैंने कोई ताजी कहानी नहीं लिखी थी, कैथरीन मैंसफील्ड की एक बहुत अच्छी कहानी अनुवाद करके उनको भेजी थी। उन्होंने लिखा कि हंसमें दूसरी तरह की कहानियां देना चाहता हूं, इसलिए इस कहानी को नहीं छाप रहा हूं। बाद में ये सोचकर कि कहीं वो ये यह न सोचे मैं उनसे नाराज़ हो गया हूं, मैंने आशीर्वचनकहानी, जो मेरी प्रिय कहानी है औद्योगिक जीवन की, उनको भेजी और वो उन्होंने प्रकाशित की और अगले अंक में उस पर एक बहुत सकारात्मक टिप्पणी रमेश उपाध्याय से लिखाई। तो, उससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि ... बड़े-बड़े लेखक भी एक-दूसरे के बारे में ऐसी बातें कर जाते हैं।    



नवीन जोशी :  नए कहानीकारों को पढ़ पाते हैं आप? भाषा-शैली ही नहीं, शिल्प भी अब बहुत बदल गया है। नए-नए प्रयोग हो रहे हैं?  

 

-         मेरे पास बहुत सी पत्रिकाएं कम्पलीमेट्री रूप में आती थीं। बाकी को मैं खरीदकर पढ़ता था। मुझे हमेशा नए से नए लेखक के बारे में जानने की बहुत उत्सुकता रहती थी। एक दौर तो ऐसा था जब लखनऊ से शिव वर्मा जी के सम्पादन में नया पथ प्रकाशित होता था, तब उनके आदेश पर मैं गत मास का साहित्यनाम से कॉलम लिखा करता था। उसके लिए भी मैं बहुत सी कहानियों, पत्रिकाओं को पढ़के उनकी अच्छी रचनाओं की चर्चा करता था। कभी-कभी मैं उसमें अपनी भी तारीफ कर लेता हूँगा। मैंने शिवदा से कहा था कि ये किसी को मालूम नहीं होना चाहिए कि मैं ये कॉलम लिखता हूं। उसे मैं सौम्य दृष्टिनाम से लिखता था। मुझे लगता है, शिवदा ने यशपाल जी को बता रखा होगा क्योंकि एक बार यशपाल जी ने एक स्थानीय लेखक की किताबकी मुझसे बार-बार प्रशंसा की। मैं समझ गया कि यशपाल जी मुझसे उस कहानी का उल्लेख करवा चाहते हैं। अब एक तो पत्रिकाएं कम उपलब्ध होती हैं, दूसरा मेरी आंखों की रोशनी बहुत साथ नहीं देती। मैग्नीफाइंग लेंस से जिनको जरूरी समझता हूं, पढ़ लेता हूं। तो, उत्सुकता बनी रहती है कि आखिर क्या नया लिखा जा रहा है। अकेलापन भी हो गया है। ऐसे साथी भी नहीं हैं कि जिनसे नए साहित्य के बारे में चर्चा की जा सके।  

 


 

        

नवीन जोशी :  आपकी पीढ़ी के, बल्कि आपके साथ के बहुत ही कम रचनाकार अब सक्रिय हैं। किनसे बातचीत हो जाती है? इलाहाबाद कितना याद आता है और पुराने साथी?

-      दुर्भाग्य से मेरी उम्र के अधिकांश लोग अब इस दुनिया में नहीं हैं। जो बहुत थोड़े-से लोग बचे हैं, जैसे डॉ विश्वनाथ त्रिपाठी। बहुत कम साथी ऐसे हैं जिनसे मैं बात कर सकूं। ये भी है कि बात करने के लिए समकालीन साहित्य के सम्बंध में उसका अध्ययन पूरी तरह से हो जो कि अब नेत्र विकार के कारण सम्भव नहीं है। जो लोग बाद की पीढ़ी के हैं, जैसे कवि हरिश्चंद्र पाण्डे, संतोष चतुर्वेदी, आप हैं, तो उनसे कुछ साहित्यिक चर्चाएं हो जाती हैं। मैं जानने की कोशिश करता हूं कि क्या नया लिखा जा रहा है, क्या पढ़ा जा रहा है। अब ये है कि हम अपनी पारी खेल चुके। कोई अफसोस नहीं। जो कुछ भी हमने किया, ईमानदारी से किया। किसी तरह की महत्वाकांक्षा नहीं रखी, बल्कि एक मिशन के रूप में उस काम को अंजाम दिया।

 

बहुत याद आते हैं कुछ लोग। मार्कण्डेय का एक चुम्बकीय व्यक्तित्व था। वो मुझ पर बहुत भरोसा करते थे। सपने में वो बहुत आते हैं। अमरकांत के साथ बिल्कुल पारिवारिक सम्बंध थे। इलाहाबाद शहर, जहां मैं पचास साल रहा हूं, वो सपनों में बहुत आता है। खास तौर से 100- लूकर गंज, जो टंडन का हाता कहलाता था। उस हाते के बीच में एक पुराना बंगला था। उसके आधे हिस्से में मकान मालिक रहते थे और आधे में मैं रहता था। और, तीन तरफ छोटे-छोटे क्वार्टर बने हुए थे, निम्न मध्यम वर्गीय लोगों के लिए। वहां बड़ी पारिवारिकता थी। सब याद आता है। इधर मैंने एक लम्बी कविता लिखी है 100-लूकरगंज की स्मृति में। प्रतीक रूप में मैंने पहाड़ी गांवों की बाखई’ (मकानों की लम्बी कतार) को लिया है। बाखईमें इतना खुलापन, इतनी सहकारिता, सहभागिता, सुख-दुख का साझापन रहता है। बाखई वाला गांवकविता वास्तव में 100-लूकर गंज की ही प्रतीक है।        



नवीन जोशी :  आप सुबह से शाम तक की कारखाने की नौकरी को लेखन के लिए बाधा मानते थे लेकिन क्या वही आपकी एक बड़ी रचनात्मक पूंजी नहीं बनी?

 

-         हां, इस नौकरी में मुझे बहुत रचनात्मकता मिली। हर दिन नया कुछ सृजित करना। जो हम लोगों ने दक्षता हासिल की थी ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग की, उसका अध्याय सन 62 की लड़ाई के बाद खत्म हो गया था। चीन के साथ मुठभेड़ में हमारे जो रिवर्सेज हुए, उसकी जब इंक्वायरी हुई, तो पाया गया कि हमारी विदेशी गाड़ियों की फ्लीट, जिनके कल-पुर्जे अब दुर्लभ थे, की कमजोरी भी इसकी वजह थी। तो, रातों-रात तय हुआ कि अब व्हैकिल रिपेयर नहीं होंगे। स्वदेशी गाड़ियां खरीदी जाएंगी और उस पर अपनी सेना की रिक्वायरमेंट के हिसाब से बॉडी बिल्ड की जाएगी। तो, रिपेयर वर्कशॉप को हम लोगों ने प्रॉडक्शन यूनिट में बदला और वो इतना प्रेरक था...। नई मशीनें मंगाई गईं, लगाई गईं और वर्कर्स, जवानों को एक प्राइवेट कम्पनी में ट्रेनिंग के लिए भेजा गया। वो वहां से सीख के आए, बड़ी-बड़ी मशीनें, जिनमें 8x10 की बड़ी-बड़ी चादरें, दस गेज की, बारह गेज की, चौदह गेज की, कटती हैं, उनको कैसे ऑपरेट करना है, ब्रेक प्रेस है, पावर प्रेस है, बेंडिंग कैसे करनी है। ये कमाल लोगों का था कि जो लोग बढ़ई थे, इलेक्ट्रीशियन थे, फिटर थे, वो लोग भी इन मशीनों पर काम करने लगे और एक भी एक्सीडेंट नहीं हुआ। अलग-अलग गाड़ियों की चेसिस बनती थी, बॉडी बनती थी, ऐसे कि आप उनको खोल के फिर जोड़ सकें, फोल्डिंग करके। तो, इतना सृजनात्मक था, हर चीज, कि देख के तबीयत प्रसन्न हो जाती थी। ये जरूर है कि पढ़ने-लिखने के लिए समय नहीं मिला लेकिन काम में ताजगी रही। ट्रेनिंग के दौरान प्राप्त मिकैनिकल ड्रॉइंग की शिक्षा अब काम आई। ऊपर से प्राप्त ड्रॉइंग का खुलासा करके मैं प्रोटोटाइप बनवाता था। तब प्रॉडक्शन शुरू होता था। दूसरी बात मैंने जिन लोगों के साथ मैकेनिक के रूप में काम किया था, उस पीढ़ी से आत्मीय सम्बंध थे। उसके बाद जो नई पीढ़ी आई, अपने बच्चों की तरह से हमने उनकी रुचियों के हिसाब से, उनके मित्रों के ग्रुप के हिसाब से उनकी प्लेसिंग की। तो, वो बहुत आदर देते थे। ऐसे-ऐसे काम किए गए और ऐसी उपलब्धियां रहीं कि बयान नहीं किया जा सकता। ये बड़ा सृजनात्मक सुख था मेरी एक कहानी है 'गलता लोहा', कुछ लोग इसे डी-क्लास होने की कहानी समझते हैं लेकिन मेरी दृष्टि में यह कहानी उस सृजन सुख की है जो एक चित्रकार को अपनी कलाकृति की पूर्णता पर और एक शिल्पकार को अपने शिल्प की पूर्णता पर मिलता है। वो ब्राह्मण पुत्र जो है, वो अपने रिश्तेदार के साथ पढ़ाई करने के लिए गया था लेकिन रिश्तेदरों ने उसे आईटीआई में काम सीखने भेज दिया। तो, उसने लोहारी काम भी सीखा। जब वो गांव आया तो उसके पिता ने कुछ औजार उसे लोहार के यहां तेज करवाने के लिए दिए। तो, वो लोहार को काम करते हुए देखता रहा। लोहार एक सरिया को मोड़कर गोल छल्ले का रूप देने की कोशिश कर रहा था लेकिन वो सफल नहीं हो रहा था। इसने उसको हटा के अपने हाथ में औजार लेकर उसको कर दिया। ये लोहार के लिए बड़ी एम्बेरेसिंग पोजीशन थी कि एक ब्राह्मण उसके साथ काम कर रहा है लेकिन ब्राह्मण को जातिवाद की चिंता की बजाय एक सृजनात्मक सुख मिल रहा था। खैर, अंतत: मैंने समय से आठ साल पहले लिखने-पढ़ने के लिए ही रिटायरमेंट लिया लेकिन मैं उस वर्कशॉप के वातावरण को, उसकी आत्मीयता को कभी नहीं भूल पाया। नॉर्मल होने में मुझे समय लगा। लेकिन मुझे आराम मिला और जो लिखना-पढ़ना छूट गया था, वह हुआ। संगठन (जनवादी लेखक संघ) में पदाधिकारी होने के कारण मुझे घूमने को भी मिला। दूसरे लेखकों से भी सम्पर्क साधने का मौका मिला, लिखने के लिए प्रेरणा मिली और बहुत कुछ लिखा भी।  

 

नवीन जोशी :  अतीत और वर्तमान के प्रसंगों को लेकर तो कहानियां लिखी जाती हैं। क्या भविष्य की सम्भावित सामाजिक स्थितियों के बारे में भी कहानियां लिखी गईं?

-         कई लेखकों ने काल्पनिक पात्रों और उपकरणों को लेकर भविष्य के बारे में रोचक फैंटेसी लिखी हैं। यदि लेखक की दृष्टि समाज-सापेक्ष हो तो कभी अनायास ही उनकी रचना में भविष्यवाणी-सी हो जाती है। जैसे, सन 1925 में मतवालापत्रिका में प्रकाशित प्रेमचंद की कहानी गमीको लें। उस जमाने में लोगों के भरे-पूरे परिवार होते थे लेकिन प्रेमचंद की कहानी का नायक अपने परिवार में तीसरे बच्चे के आगमन पर मित्रों को पत्र द्वारा सूचित करता है कि मेरे घर में गमी हो गई है। प्रकारांतर से प्रेमचंद परिवार नियोजन की आवश्यकता पर उस कालखण्ड में संकेत करते हैं। आलोचक डॉ सत्य प्रकाश मिश्र ने कहीं लिखा था कि बंगाल में टाटा द्वारा नैनो मोटर कारखाने के लिए अधिगृहीत की गई जमीन को लेकर किसानों की पीड़ा को लेखक ने आखिरी टुकड़ा’ (यह शेखर जी की कहानी है- सम्पादक) में 35 वर्ष पूर्व व्यक्त कर दिया था।  

 

          

नवीन जोशी :  आखिरी सवाल। गीतांजलि श्री के उपन्यास रेत समाधिको अन्तर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार मिला है। आपकी प्रतिक्रिया?

-         हिंदी की एक लेखिका को एक अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार मिला, इस बात का बहुत संतोष है। उस भारी भरकम उपन्यास को, मैंने उसका अंग्रेजी संस्करण देखा है, मेरी पोती ले आई थी, नेत्र विकार के कारण पढ़ने की हिम्मत नहीं हुई। मैंने उसका कथा सार और लेखिका और अनुवादिका के बारे में जानने की कोशिश की। बहुत अच्छा लगा कि अनुवादिका डेजी रॉकवेल पहले भी कई हिंदी उपन्यासों के अनुवाद कर चुकी हैं और स्वयं चित्रकार हैं, लेखिका हैं। अश्क जी की गिरती दीवारें’, भीष्म साहनी का तमसका उन्होंने अनुवाद किया है। जहां तक पुरस्कार की चयन समिति की रुचि का प्रश्न है, क्या तमस जैसे उपन्यास को अपने समय में ये पुरस्कार नहीं मिलना चाहिए था, जिस कोटि का वह है? पश्चिमी जगत में तो लोलिताजैसे  उपन्यास को भी उछाला जाता है। मैं ये नहीं कह रहा हूं कि गीतांजलि श्री के उपन्यास में कुछ असामाजिक बात होगी। उसमें एक अस्सी साल की बुढ़िया है, उसके पति की मृत्यु हो जाती है तो वह डिप्रेशन में चली जाती है। फिर उसकी मित्रता एक ट्रांसजेण्डर व्यक्ति से हो जाती है। फिर वो पाकिस्तान जाती है। पठनीयता की दृष्टि से बहुत रोचक होगी पुस्तक लेकिन जिन  मूल्यों के लिए हम साहित्य को देखते हैं, उसमें वह कहां तक खरी उतरती है, ये मैं कमेण्ट नहीं कर सकता, चूंकि मैंने पढ़ा नहीं उपन्यास। मैं चाहता हूं कि पुस्तक और सामाजिक स्वीकृति पाए।     

 

  

 

 

नवीन जोशी

 

सम्पर्क


मोबाइल : 9793702888

.....       

टिप्पणियाँ

  1. नमस्ते दाज्यू
    जब आप यह साक्षात्कार ले रहे थे, आप से चर्चा हुई थी । आज शेखर जोशी जी इस दुनिया में नहीं हैं । यह उनका आख़िरी, पर महत्वपूर्ण साक्षात्कार है ।
    बहुत कुछ सीखने को मिला🙏🏻
    सादर बधाई आपको ।
    अनुपमा

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मनोज शर्मा की कविताएँ

प्रगतिशील लेखक संघ के पहले अधिवेशन (1936) में प्रेमचंद द्वारा दिया गया अध्यक्षीय भाषण

मार्कण्डेय की कहानी 'दूध और दवा'।