कुमार मंगलम का आलेख 'कविता के घर में गद्य की सेंध'

 

विष्णु खरे


हर कवि कविता को अपनी तरह से कुछ न कुछ समृद्ध जरुर करता है। भाषा, शिल्प, कथ्य, बिम्बों का प्रयोग, शब्द खासकर देशज शब्दों का प्रवाहपूर्ण प्रयोग वे तमाम आयाम हैं जिससे कविता सुरुचिसम्पन्न बनती है। मुक्त छन्द की कविता ने हिन्दी कविता को वह अनन्त आसमान प्रदान किया है जिसमें वह मुक्त भाव से उड़ान भर रही है। विष्णु खरे अपनी ढब के अनूठे कवि हैं। अपनी कविता में उन्होंने गद्य का इस्तेमाल कुछ इस तरह किया है कि वह एक नए शिल्प को रचती हुई दिखाई पड़ती है। ऐसा नहीं कि यह करते हुए विष्णु खरे को आलोचनाएं न झेलनी पड़ी हों, बल्कि वे तो आलोचनाओं के केन्द्र में ही रहे। फिर भी विष्णु जी अपनी राह चलते रहे। युवा कवि कुमार मंगलम ने विष्णु खरे की कविताओं की पड़ताल करते हुए एक आलोचनात्मक आलेख लिखा है। आज पहली बार पर प्रस्तुत है कुमार मंगलम का आलेख 'कविता के घर में गद्य की सेंध'

 

 

 

कविता के घर में गद्य की सेंध 

 

कुमार मंगलम


समकालीन काव्य परिदृश्य में विष्णु खरे एक ऐसे कवि हैं,  पाठक प्यार और नफरत के परिधि पर पढ़ता है। विष्णु खरे के प्रशंसक और आलोचक दोनों  सामान मात्रा में मौजूद हैं। किन्हीं के लिए वे अतिशय पूजनीय बन जाते हैं और किन्हीं के लिए अकवि के हद तक जाने वाले रचनाकार। उनकी कविताओं में बीच का रास्ता नहीं है। कविता को गद्य के आकाश तक पहुँचाने वाले कवि विष्णु खरे का मूल्यांकन हिंदी के आलोचकों ने एक खास तौर के पूर्वग्रह के साथ किया है। विष्णु खरे की कविताओं को पढ़ते हुए ऐसा लगता है जैसे कविता ने गद्य के घरौंदे में सेंध लगाई हो। आठवें दशक के प्रमुख कवि विष्णु खरे ने अपनी कविताओं के माध्यम से एक अलग तरह के सम्प्रेषण की राह को खोजा, जो कई अर्थों में नागरीय होते हुए भी नागरीय नहीं थी और उसके साथ ही लोक तत्वों से बोझिल भी नहीं थी। मिथक, आम शहरी और कस्बाई जीवन के निकट यथार्थ की ये कवितायेँ अपने शिल्प और रूप में एक नया रचाव कर रही थी। अपनी परम्परा से संवाद करते हुए भी ये कवितायेँ वास्तव में एक तोड़फोड़ साबित हो रही थी। इनकी कविता जटिलता के आयतन में रहते हुए भी सम्वादधर्मी थी। उपभोक्तावादी संस्कृति के प्रसार के साथ-साथ ही विष्णु खरे की कवितायेँ विकसित हो रही थी। इस वजह से कविता में संप्रेषणीयता और बोधगम्यता के सवाल में एक विपर्यय पैदा होता है क्योंकि कविता उपभोग की वस्तु न हो कर संवेदना की विषयवस्तु है। समय के जटिल होते चले जाने के कारण कविता भी जटिल हो रही थी। विष्णु खरे की कविता भी इसी जटिलता की साधना से उत्पन्न हुई कविता है। विष्णु खरे की कविता यथार्थ के परदे में ढके होने से पैदा न हो कर यथार्थ के अति उजागर होने से पैदा हुई है। विष्णु खरे की कविताओं में डोमाजी उस्ताद किसीअँधेरे में नहीं मिलता बल्कि वह हमारे बीच में हम सब के साथ मिला हुआ चरित्र है। यही वजह है कि यहाँ फैटेसी और बिम्ब एकमेक हो गए। निम्नलिखित कविता में जिस डोमाजी उस्ताद का चित्र उभरता है, वह हमसे ओझल नहीं है, बल्कि हममें से ही कोई एक है। वह हमारे बीच ही रहता है और उचित समय देख कर हमलावर हो जाता है। 


और थर्राते हुए पीछे देखते हैं

तो देखते हैं कि फिर एक साथी यकायक ग़ायब हो गया है

सिर्फ एक गूँजती हुई बर्फ़ीली चीख़ डूबती है

और भयावह फुसफुसाहटों विक्षिप्त अट्टहास

और खिसकते पैरों की चिपचिपाहट की ध्वनि

गहरी होती जाती है और कुछ देर बाद आती है

छीन-झपट की आवाज़, तिकोने दाँतों से तोड़ी जा रही

गोश्त और खून लगी हड्डियों के तड़खने की आवाज़

हमारे दिलों पर मौत की दस्तक और धैर्यहीन हो जाती है।


 


विष्णु खरे की कविताओं से गुजरते हुए किसी खास वैचारिक आग्रह से अधिक मानवीय संवेदना के स्वर अधिक मुखर दिखाई देता है। इसमें विष्णु खरे समकालीन जीवन के त्रासद अनुभव, अकथ या आमतौर पर नहीं कहे जाने वाले विषय को कविता विषय बनाते रहे हैं। इनकी कविताओं में साम्प्रदायिकता, धार्मिक कट्टरता, फासिस्ट मनोवृतियों के साथ-साथ समकालीन भारतीय राजनीति के पेचीदगी का वृतांत आख्यान रूप में आता है लेकिन एक सजग कवि होने के नाते उसमें भी काव्यात्मकता का पुट मौजूद रहता है। गुंग महलकविता में वे जिस कलात्मकता से गद्य के घरौंदे में रहते हुए और बेहद अकथ बिम्ब से अपने सामयिक संवेदना को विष्णु खरे छूते हैं, वे इससे पहले अकविता के दौर में ही संभव था। 

 

 

अब बच्चों की आँखें निकल आयी थीं

उनके कँपते बदन ऐंठ रहे थे वे मुँह से झाग निकालने लगे

कुछ ने दहशत में पेशाब और पाख़ाना कर दिया

फिर वे दीवार के सहारे दुबक गये एक कोने में पिल्लों की तरह

और उनके मुँह से ऐसी आवाज़ें निकलने लगीं

जो इनसानों ने कभी इनसान की औलाद से सुनी न थीं।” 

 

 

विष्णु खरे की कविताओं में विवरण बहुत ही प्रमुखता से मौजूद है। इन कविताओं में विचार पक्ष बोझिल और हावी है। इस शैली की वजह से कई बार कवितापन की हत्या हुई है। कविता में तुरंतेपन का आग्रह भी कई बार कविता को एक घटना के विवरण और अखबारी ख़बर के रूप में तब्दील कर देता है। इन कविताओं में विवरण को एक रचनात्मक टूल्स के रूप में इस्तेमाल किया गया है। इस शैली की वजह से कविताओं से कला-पक्ष गौण हुआ है। विवरण की अधिकता में काव्य-रस बाधित तो होता है लेकिन काव्य-तत्व सुरक्षित रहता है। लम्बी गद्य कविता में भी कविता के तत्वों की रक्षा विष्णु खरे अपनी कविताओं में कर ले जाते हैं। कई बार तो अखबारी रिपोर्टिंग शैली की कवितायेँ भी विष्णु खरे ने विवरण के आग्रह में लिखी हैं फिर भी कविता के अंत में बौद्धिकता का जामा पहन कर उसे कविता में बदलने की शैली भी इन कविताओं को अलग से रेखांकित करवाती हैं। ऐसी ही एक कविता है- जर्मनी में एक भारतीय कंप्यूटर विशेषज्ञ की हत्या पर वह वक्तव्य जो वर्तमान भारत सरकार देना चाहती है पर दे नहीं पा रही।

 

 

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कतिपय अज्ञात परस्पर ग़लतफ़हमियों के कारण

जर्मनी सरीखे देश, जहाँ भारतीय संस्कृति, अध्यात्म, दर्शन, परंपरा

आदि को विश्व में पहली बार पहचाना गया और

महान आर्य जाति के वैश्विक अंतर्संबंधों को खोजा तथा स्वीकारा गया,

के मूलवंशियों एवं कुछ भारतवंशियों के बीच छिटपुट अप्रिय घटनाएँ घटीं

जहाँ हम पूर्णरूपेण आश्वस्त हैं कि जर्मन सरकार,

जिससे हमारे पारंपरीण मैत्रीपूर्ण संबंध है-” 

 

 


 

 

कविता में विवरण का इस्तेमाल कविता को बहुआयामी और विश्वसनीय बनाती है। अगर कविता में विवरण सूचनात्मक रूप को छोड़ कर संवेदनात्मक संरचना में तब्दील हो जाये तो वह एकांगी नहीं रह जाता। विष्णु खरे इस मामले में अपनी कविताओं के माध्यम से एक ट्रेंड स्थापित करते हैं। उनकी कविताओं में जो भी विवरण मौजूद हैं वे संवेदनात्मक संरचना के घेरे में ही आते हैं। अथवा यूँ कहें वे विवरण को संवेदना के कसौटी पर कसते हैं। विष्णु खरे की कविताओं में प्रयुक्त मिथक को अति विशिष्ट नज़र से देखा जाना चाहिए। प्रयोगवादी और नयी कविता के कवियों ने मिथकों को अपना काव्य-विषय बनाया, बनाया पर उनका स्वर कहीं न कहीं मिथकों के कथा-सूत्र से सहमति और प्रशंसात्मक ही रहा, लेकिन विष्णु खरे के यहाँ ये मिथक सूक्ष्म आलोचनात्मक दृष्टि के साथ अभिव्यक्ति पाते हैं। इस तरह की कविताओं में साम्बवती, अग्निरथोsवाच, वृन्दावन की विधवाएं, महाभारत युद्ध के बाद लापता हुए 24165 लोग, सत्य, जनमेजय का सर्पसत्र इत्यादि कविता को रखा जा सकता है। द्रौपदी के विषय में कृष्णशीर्षक कविता में महाभारत के मिथक की आलोचनात्मक व्याख्या प्रस्तुत करती है और विष्णु खरे के काव्य-वैभव को विस्तार देती है। आचार्य क्षेमेन्द्र ने व्यास को भुवनोपजीव्य और वाल्मीकि को सर्वोपजीव्य कवि कहा है, ऐसे में विष्णु खरे महाभारत की पीठिका में समकालीनता के रकबे में कविता को सम्भव बनाते हैं, जो सर्वथा उचित और अनुकरणीय है।

 

 

हर बार जब लौटा तो जानता था कि जो कुछ तुमने कहा

उसे लोग स्तुति या पुकार कह कर निस्सार कर देंगे

तुम पाँच योद्धा पतियों की साध्वी पत्नी

मैं सहस्त्रों गोपियों तथा पटरानियों का संदिग्ध भोक्ता

राधा के मुग्ध प्रेम की अनेक कथाओं का नायक

 

 

जिसका उल्लेख-मात्र मुझे बाद में संकोच और झुँझलाहट से भर देता था।” 

 

 

इसी कविता में जब वे महाभारत के प्रसंगों में मस्तिष्क के सैकड़ों टुकड़े कर देने वाले कथन की बात करते हैं तो महाभारत के बहाने अपने समय के महाभारत का पीछा करते हैं। वे महाभारत के बहाने अपने समय को देखते हैं। उनके लिए आज का रामराज, रामराज के भेस में महाभारत की पृष्ठभूमि तैयार करने वाला राज्य है, जहाँ दो परिवारों, दो समाजों अथवा दो विचारों का द्वंद्व युद्ध होना निश्चित है। वे कौरव और पांडवों के हवाले दो के बायनरी में विभाजित हुए समाज को देखते हैं। आप चाहें तो इस दो की बायनरी को हिन्दू-मुस्लिम के बायनरी में व्याख्या कर सकते हैं। 

 

 

विष्णु खरे की कविताओं पर लिखते हुए मंगलेश डबराल लिखते हैं कि, टेबिल पहली कविता है जिसे विष्णु खरे की बदली हुई कविता का प्रस्थान-बिंदु माना जा सकता है। यह लम्बी कविता एक सरहद, एक सीमान्त है जिसके बाद उनकी कविता का नया देश और काल आरम्भ हुआ।”  मंगलेश जी विष्णु खरे की कविताओं में निबंध सरीखा गद्य शिल्प, सपाटबयानी, गैर-भावुक संवेदना, भाषाई वस्तुपरकता और कहानी और कविता के दायरों के विलयन की प्रक्रिया को विष्णु खरे की कविता की संवेदना और स्वभाव के रूप में देखते हैं। यहाँ उनका मूल्यांकन सटीक है। टेबिल, दोस्त, कार्यकर्ता, मुकाबला, देर से आने वाले लोग, इकबाल, सिंगल विकेट सीरीज, जिल्लत, होनहार इत्यादि कविता में उपरोक्त बातों की पुष्टि होती है। लेकिन लालटेन जलाना जैसी कविताओं में वे बेहद नौस्टैल्जिक हो जाते हैं। हालाँकि उनकी यह बेहद प्रशंसित कविता है। इसे डबराल जी जीवन के रूपक में देखते हैं, लेकिन यह आम जीवन में घटने वाला एक बहुत सामान्य दृश्य है। इस कविता की दार्शनिक व्याख्या कविता पर अतिरिक्त बोझ लादने जैसा ही है। लालटेन जलाना जैसी कविता कस्बाई स्मृति की एक याद भर है, जिसे कविता में संजोया गया है। सिंगल विकेट सीरीज हिंदी कविता के क्षितिज पर एक नवाचार प्रयोग है। बेटी, स्त्री, पिता, हिंजड़े आदि पर विष्णु खरे की कविता रेखांकित की जाने वाली कविता है। मध्य वर्ग की मौलिक उद्भावनाओं को अपनी कविता में जिस शिद्दत से विष्णु जी ने जगह दिया है, वह समकालीन कविता संसार को समृद्धि देने वाली कविता है। विष्णु जी की साफगोई और सपाटबयानी कविता  में कई बार खलती भी है। अगर शुद्धतावादी नजरिये से न भी देखा जाये तो कुछ क्रिया-व्यापार भद्र व्यक्ति को सामाजिक रूप से नहीं कहना चाहिए। विष्णु जी अपने जीवन और काव्य-संसार दोनों में इसका अतिक्रमण कर जाते हैं। विष्णु जी शब्दों के बेहद सजग उपयोगकर्ता हैं। विष्णु जी की कविताओं के शिल्प की चाहे जितनी आलोचना की जाये, मगर उनके शब्द-संसार और अर्थ-संसार का सानी हिंदी में बहुत कम रचनाकार ही होंगे। विष्णु खरे को चाहे आप प्यार करें या उनकी आलोचना करें लेकिन वे अपनी कविताओं के माध्यम से एक ऐसी लकीर खींच गए हैं, जिनसे आने वाली पीढ़ी हमेशा सीख लेती रहेगी। उनकी रचनाओं में मौजूद जीवद्रव्य हमेशा ही एक ट्रेडमार्क और ट्रेंड की तरह आने वाली पीढ़ी पर फ्लैश करेगी। उन्होंने कविता के पारम्परिकता को बचाते हुए अपनी कविताओं के माध्यम से समकालीन कविता के परिसर को व्यापक किया है। ये कवितायेँ मुक्तिबोध, रघुवीर सहाय, चंद्रकांत देवताले की परम्परा की कवितायेँ हैं। इन कविताओं में कस्बाई, शहरी आम जनजीवन के सहज चित्र, उसकी आलोचना और मध्यवर्गीय दोमुहेपन की स्पष्ट व्याख्या मौजूद है। विष्णु खरे ने कभी लिखा था कि कविता में आदमी के अस्तित्व और उसके सामने खड़े सारे संकटों को ले कर चिंता और प्रतिबद्धता, मानव होने के रोमांचक मामले में गहरी दिलचस्पी, जीवन और रिश्तों के अनंत वैविध्य के प्रति उत्सुकता और इन सबको अपनी भाषा और शैली में कह पाने की क्षमता होनी चाहिए। विष्णु खरे की कविताओं को पढ़ते हुए इस बात की सनद हमेशा मिलती रही है। 

 

 

 

विष्णु खरे की कविता में जीवन के सभी राग-रंग मौजूद है। ये कवितायेँ बहुआयामी हैं, इनका स्वर समकालीनता की तरह विविध और बहुरंगी हैं। विष्णु खरे की कविता में जीवन के पुनर्वास के रंग मौजूद हैं। गहरी जिजीविषा और जीवन को कविता में देखने के ललक में कई बार गद्य का स्वर यहाँ आता है, लेकिन उस गद्य के आग्रह में भी कवितापन को जिलाए रखने वाले कवि हैं विष्णु खरे और इस बात को सेतु समग्र : विष्णु खरे को पढ़ते हुए सहज ही जाना जा सकता है। सेतु प्रकाशन ने बहुत ही सुरुचिपूर्ण ढंग से इसे प्रकाशित किया है। इस संग्रह में भूमिका के रूप में चर्चित कवि मंगलेश डबराल ने विष्णु खरे की समग्र कविताओं की सम्यक व्याख्या की है। यह भूमिका विष्णु खरे की कविताओं को समझने में मदद करती है, यह एक प्रकार से कविताओं की पूर्वपीठिका है। हिंदी के प्रकाशन जगत के लिए यह शुभ संकेत है कि इस संकलन में अशुद्धियाँ नहीं के बराबर हैं, उर्दू के शब्द भी मानक प्रयोग के साथ प्रकाशित हुए हैं, शब्दों की एकरूपता पुस्तक पढ़ने के आस्वाद को बढ़ाती है। इस संकलन की सबसे बड़ी सीमा यह है कि कविताओं का क्रम संग्रह या प्रकाशन के अनुरूप नहीं है। इस संकलन से विष्णु खरे के काव्य-व्यक्तित्व का कविताओं के अनुरूप मुल्यांकन तो हो सकेगा लेकिन अगर कविताओं के विकास-क्रम से उनका मूल्यांकन करने की कोशिश करें तो यह इस संकलन से यह संभव नहीं है तथापि इस पुस्तक के माध्यम से विष्णु खरे का निरपेक्ष और समग्र मूल्यांकन में आगे के अध्येताओं को मदद जरुर मिलेगी।



(मंगलम आजकल इग्नू से हिन्दी में शोध कार्य कर रहे हैं।)

 

 





सम्पर्क


मोबाइल : 8840649310

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रगतिशील लेखक संघ के पहले अधिवेशन (1936) में प्रेमचंद द्वारा दिया गया अध्यक्षीय भाषण

कुँवर नारायण की कविताएँ

मार्कण्डेय की कहानी 'दूध और दवा'।