राजीव उपाध्याय की कविताएँ


राजीव उपाध्याय

जन्म:   29 जून 1985 ,बाराबाँध, बलिया, उत्तर प्रदेश 
शिक्षा: एम. बी. ए., पी-एच. डी. (अध्ययनरत) 
संप्रति: अध्यापन (दिल्ली विश्वविद्यालय) एवं सहायक सम्पादक (मैना)

लेखन: कविता एवं अर्थशास्त्र
 
प्रकाशन: कविताएँ अटूट बंधन, मेरी चौपाल, प्रतिलिपि, युवाघोष (-मैगजीन), स्वयं शून्य, कविता संसार, हेलो भोजपुरी, दी भोजपुरी, आखर भोजपुरिका में प्रकाशित। आर्थिक आलेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। टीवी एवं रेडियो पर कार्यक्रम।

आज हम बाजारवाद के युग में हैं। ऐसा नहीं कि बाजार पहले नहीं था। निश्चित रूप से वह पहले भी था लेकिन आज उसका स्वरुप पहले से कहीं अधिक भयावह हैबाजार के लोभ और लालच कुछ इस तरह के हैं कि हम चाह कर भी उसके प्रलोभन से बच नहीं पातेवह ख़ुद में गुलज़ार रहता है बिना इस बात की फ़िक्र किए कि तमाम ऐसे लोग भी हैं जो इधर आने की हिम्मत तक नहीं जुटा सकते। तमाम ऐसे लोग हैं जिनके लिए रोटी और कपड़ा की जरूरतें ही प्रमुख हैं तरह-तरह के ब्रांडों और चकाचौंध की उनके लिए कोई अहमियत नहीं फिर भी बाजार तो बाजार है उसे इन सब से क्या लेना-देना? उसके अपने कायदे क़ानून हैं। युवा कवि राजीव उपाध्याय बाजार की इस असलियत को जानते हैं। इसीलिए बेबाकी से लिखते हैं - "कीमत ही यहाँ हर बात में/ है मायने रखती/ बिकता यहाँ है सब कुछ/ हर कोई किरदार है।/ बाज़ार तो बाज़ार है॥" ऐसे ही अंदाज वाले युवा कवि राजीव की कुछ नयी कविताएँ पहली बार पर प्रस्तुत हैं। तो आइए पढ़ते हैं राजीव की कुछ नयी कविताएँ   

बाज़ार तो बाज़ार है


बाज़ार तो बाज़ार है
जो खुद में ही गुलज़ार है
उसे क्यों कर फर्क पड़ता
गर कोई लाचार है।
बाज़ार तो बाज़ार है॥

कीमत ही यहाँ हर बात में
है मायने रखती
बिकता यहाँ है सब कुछ
हर कोई किरदार है।
बाज़ार तो बाज़ार है॥

तुम बात कोई और आ कर
यहाँ ना किया करो
कीमत बिगड़ती जाती है
और हर कोई तलबगार है।
बाज़ार तो बाज़ार है॥

अजनबी है


रहता हूँ शहर में जिस
अजनबी है।
कभी कहीं
तो कभी कहीं है॥

हालात है ये
कि ना कोई जानने वाला
और ना ही
सड़कें पहचानती हैं।
रहता हूँ शहर में जिस
अजनबी है।

हर तरफ शोर ही शोर है
और चकाचौंध भी
पर मनहूस सी खामोशी कोई
भारी है सीने में;
जो जीने का सबब भी देती है
और मरने की वजह भी;
और यूँ कर के बेखौफ हूँ
फिर भी मगर
डर कहीं ना कहीं है।
रहता हूँ शहर में जिस
अजनबी है॥

जान-पहचान के लोग
और गलियाँ सारी
जो सुनते थे मुझको;
खामोश हो गए हैं
कि मुलाकात अब होती नहीं;
और गाहे-बाहे
जो पड़ते कभी सामने
तो फेरते हैं मुँह
जैसे कोई अजनबी।
रहता हूँ शहर में जिस
अजनबी है।

कुछ इस तरह से
दो छोरों के बीच
नदी बन बहता जा रहा हूँ
जिसमें कोई रवानगी नहीं;
बस हड़बड़ी है एक
कि छोर दोनों एक हो जाएं
या मैं खो जाऊं कहीं।
बस इतने में ही सिमटी
ये जिन्दगी है।
रहता हूँ शहर में जिस
अजनबी है॥

कुछ आँसू


मिरी आँखों से कुछ आँसू
ऐसे भी रिसते हैं
जो किसी को दिखते नहीं
और शायद
अब उनका कोई मतलब भी नहीं।

पर इतना यकीन
मुझको मेरे
आँसुओं के बह जाने में है
कि साँसे भी मेरी
कई बार फीकी पड़ जाती हैं
और मेरे होने की वजह भी
उन आँसुओं तक चली आती है।

दोस्ती दुश्मनी का क्या?


दोस्ती दुश्मनी का क्या?
कारोबार है ये।
कभी सुबह कभी शाम
तलबगार है ये॥

कि रिसालों से टपकती है ये
कि कहानियों में बहती है ये।
कभी सितमगर है ये
और मददगार भी है ये॥

इनके होने से आपको
जीने की वजह मिलती
और इस तरह
चेहरे के आपके
सरमाएदार हैं ये॥


जब आदमी नज़र आता है


कि उम्र सारी
बदल कर चेहरे
खुद को सताता है
जब जूस्तजू जीने की
सीने में जलाता है;
उम्र के
उस पड़ाव पर
आ कर ठहर जाना ही
सफ़र कहलाता है
आदमी
जब आदमी नज़र आता है।

तुम्हारी खुशबू


तुमने मुझसे
वो हर छोटी-छोटी बात
वो हर चाहत कही
जो तुम चाहती थी
कि तुम करो
कि तुम जी सको
पर शायद तुमको
कहीं ना कहीं पता था
कि तुमने अपनी चाहत की खुश्बू
मुझमें डाल दी
वैसे ही जैसे जीवन डाला था कभी
कि मैं करूँ;
और इस तरह
शायद वायदा कर रहा था मैं तुमसे
उस हर बात की
जिससे जूझना था मुझे
जहाँ तुम्हारा होना जरूरी था;
पर तुम ना होगी
ये जान कर शायद इसलिए
तैयार कर रही थी मुझे।

पर तब कहाँ समझ पाया
कि माथे पर दिए चुम्बन
बालों को मेरे सहलाने
टकटकी लगा कर देखने का
मतलब ये था
कि हर शाम की सुबह नहीं होती
कि कुछ सुबहें कभी नहीं आतीं।

ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?


ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?
देता नहीं जवाब, है मौन मुस्करा रहा
नाम पूछा, पता पूछा
आने की वजह पूछा
कुछ ना बोला मुस्कराता रहा
चुपचाप मगर कुछ बताता रहा।
ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?

जानना जब हो गया जरूरी
हाथ लगा कर छूकर देखा
पर हाथ ना आया कुछ भी;
भ्रम होने लगे कई
निराकार हो वो गाने लगा
पर जब आँख खुली तो मैंने पाया
आइने संग मैं खड़ा था।
ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?


सम्पर्क- 

914, जनता फ्लैटस, जी टी बी इन्क्लेव,  
दिलशाद गार्डेन दिल्ली - 110093


संपर्कसूत्र - rajeevupadhyay@live.in

दूरभाष संख्या: 9650214326


(इस पोस्ट में प्रयुक्त पेंटिंग्स वरिष्ठ कवि विजेन्द्र जी की हैं.)

टिप्पणियाँ

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (24-11-2015) को "रास्ते में इम्तहान होता जरूर है, भारत आगे बढ़ रहा है" (चर्चा-अंक 2170) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें