कैलाश वानखेड़े की कहानी 'उस मोड़ पर'





प्रेम एक ऐसा अहसास है जो हमें आह्लादित कर देता है जो हमें जीने की ऊष्मा प्रदान करता है लेकिन इस प्रेम के आड़े आते हैं मनुष्य द्वारा खींची गयी वे संकीर्ण रेखाएं जो किसी भी प्रकार से तर्कसंगत नहीं कही जा सकती। प्रेम तो वह आतिश है जो इन संकीर्ण रेखाओं को जला कर अपनी अमिट रेखा खींच देता है। जाति, धर्म, सम्प्रदाय, भाषा, परिवेश, और भूगोल   जैसे तमाम अवरोधों की परवाह न करते हुए यह प्रेम अपनी राह ही चलता है इसी प्रेम को केन्द्र बना कर एक कहानी लिखी है युवा कहानीकार कैलाश वानखेड़े ने तो आईये पढ़ते हैं कैलाश वानखेड़े की कहानी 'उस मोड़ पर'

उस मोड़ पर  

कैलाश वानखेड़े

                                                                                           

              बडी हसरत थी लेकिन जब लौटा तो राह सुनसान थी
खामोश हो गये थे पत्ते, हवा के साथ और कमबख्त सूरज भी अँधेरा छोड़ कर चला गया था
           पूजा ने कहा था ,''गला थोड़ा खराब है
''
           ''गला खराब है या दिमाग में उलझन?'' बोल कर चुप हो गया था विकास
.
        पूजा को जवाब सूझ नहीं रहा था
कही दूर लाउडस्पीकर बज रहा था और कोई नहीं बोल रहा था. भीतर कुछ आगे सरका तो, ''फिर बात करते है'' पूजा ने चलते हुए वादा किया था वह अब हफ्ते के सारे दिन गिन कर चुप हो गया था
 
                   सुबह जब तय किया था कि जाना है तब सर्दी जा रही थी लेकिन  विकास ने यकीन न कर पानी गरम किया
नहाते हुए उसके खयालों में भीग गया।  नहाने के बाद विकास को सफ़ेद फूल याद गए खेतों में बेहद नन्हें, मासूम सफ़ेद फूल आ गए, जो सात-आठ साल से इस मौसम में  दिखते रहे है हर साल फूलों का रकबा और उनकी संख्या बढ़ रही है. इन्तजार में सोचता रहा उम्मीद से लेकिन शाम ढलते ही उदासी अपनी जुडवां बहन मायूसी के कपड़े पहन कर आई और उम्मीद से लिपट गई।  हँसी जब विकास से बिछड कर जा रही थी तब विकास को देख रही थी जाते जाते। हँसी चाहती थी उसे अपने पास बुला ले विकास लेकिन पूजा के पास वक्त नहीं था. अब विकास के साथ उम्मीद नही रही. जो उसे आवाज़ देती, रोक लेती, बुलाती। विकास का अपने चेहरे पर हाथ गया न जाने क्या आ गया हाथ में न रिस रीसा था, न खुरदरा, न रंग था न रूप, फिर भी जो लगा था चेहरे पर वह सुबह नहीं था। उस दिन पूजा का गला खराब नहीं था, उसे बात नहीं  करनी थी। उसका रास्ता जुदा था, मैंने उसे परेशान किया। मै गलत था ...वह सोचता रहा और उदास होता गया। यहाँ तक कि नम आँखों से आँसू आने लगे। उसने खुद को समझाया कि ये ठंडी हवा लगने से निकलने वाले आँसू हैं। उसने खुद से झूठ कहा। वह इन्तजार करता  रहा। वह नहीं आई। रात ढली। लगा चकवा के जाने का वक्त हो गया।

              सुबह दिन  समेत चली आई थी। फिर शाम झिझकते हुए रुक गई थी। वह भी ठहर  गया रात आई ठहर गई उसके दामन में, रात गुजर रही है। गुजर गया वक्त। गुजरना ही था उसे जैसे गुजर रहा है अभी.... तमाम शोर और तनाव, थकान के बावजूद पूजा का चेहरा छाया है। पूरे तन पर मन पर सवार है, कहना था कह नहीं पाया। वह समझ जायेगी। इसी सोच में वह निकल गया। कहाँ जाना है? पता नहीं।

                 आकाश में सितारे चाँद, चांदनी निकले। उसी वक्त पूजा का फोन आया। अँधेरा गायब हो गया ठंड के साथ। ''भूल गई थी।'' उसने कहा।
             बात करने का वादा भूल गई? झूठ लगा लेकिन कुछ नहीं कहा।

             ''उस दिन कब निकले?'' बात के लिए जमीन तैयार करने के लिए पूछा पूजा ने।
                ''शाम को''
              ''वह सन्देश .....'' पूजा ने कहा नम हो चुकी आवाज में।
               ''हाँ वो ..'
              अटकता रहा लगातार। दिमाग में चल रहा है, कहना है कह नहीं पाया..  अब भी यही माना कि आँखों से निकलते आँसू का कारण सर्द हवा का चलना  है। आँसुओं को पोंछते हुए विकास बड़ी उलझन में पड़ा। अभी भी उस पर हावी था सुनसान रास्ते के खयालों का असर। उस पर पूजा का  कहना कि भूल गई। ऐसे कैसे हो सकता  है? विकास ने फिर  मान लिया वरना इसी में उलझते तो बात नहीं हो सकती। बातों के बहाने विकास उसकी हँसी सुनना चाहता है  जबकि पूजा विकास की आवाज के साथ बात करना चाहती है।

               हंसते हुए विकास ने कहा उससे ,''डर बुढ़ापे का लक्षण है।''
             ''जरुरी नहीं।'' कहने के लिए कहा पूजा ने लेकिन वह गंभीर हो गई। जो वह उससे कहना चाहता था वही वह विकास से कहना चाहती थी। यह जानते है दोनों। जानते है कि भर गई खेतों में गेहू की बालिया। गुजर गया डराते हुए सूरज का ज़माना। बारिश रुकी रही न जाने किसके इन्तजार में फिर थक हार कर गई। इस तरह महीने, मौसम के साथ पूजा को ले गया था तपते हुए शहर में जबकि वसंत खड़ा है अब भी। वसंत तुम कब तक खड़े रहोगे?
               विकास से पूछा,'' कविता है?''
                    ''ना।'' कहना चाहता था लेकिन जबान से ''हा।'' निकल गया।
                    ''बड़ी अच्छी है।''

            वह चुप हो गया। वह गुस्से से दूर होना चाहता था। रूठना चाहता था। लेकिन उन्हें दरकिनार कर खूब बात की विकास ने। उसकी धड़कन से धडक रहा है उसका  जिया। उसी धडकन से सांस ले रहा है। उसी की सांस लेकर बोल  रहा है। .सुन रही है,  समझ रही है पूजा  भी। लेकिन न उसने कहा न विकास ने। पूजा के पास वक्त चला आया था। वक्त के साथ दबे पाँव अँधेरा आया डर के साथ। बात खत्म होने के बाद देखा दोनों ने डर, जो हवा के साथ चलती उसी तरंग पर सवार है। उन्हीं तरंगों के घोटाले में घोटाला जैसा कुछ लग रहा था। एक बवंडर बनेगा सोचा, सोचने वालों ने और कुछ दिनों तक काले किये मरियल कागज। 



                   जागते ही लगा वह यही कही है मेरे आस पास। मेरे साथ। आँखे नहीं खोली बस अहसास में डूबा रहा। कही दूर से तेज आवाज आई लाउडस्पीकर की लाउड और अहसास भाग गया। आँखे खोली, वह नहीं है। है सिरहाने रखा मोबाइल। सिरहाने वह  होती तो .. तो उसने मोबाइल की स्क्रीन को देखा कही मेरे लिए एसएसएस तो नहीं। जब पूजा की खुली होगी नींद तब  किया होगा याद तो किया होगा एस. एम. एस.। इनबाक्स  में देखा। मैसेज उसे लकी  बता रहा है  कि उसने जीते है दस लाख। बस दस हजार भेजने है उसे फिर मिल जायेंगे दस लाख। पढ कर लगा लोग कितना बेवकूफ समझते हैं। सोचा और लगा कि क्या मैंने किया था एसएमएस? जो वह करेगी? खुद पर हंसा। बेवकूफ...हलकी सी हँसी आई। उचट गई थी नींद। मोबाइल को देखता रहा गोया वह हो उसमें। याद आया। पूजा ने बताया था नया मोबाइल ख़रीदा है। नेट परपज के लिए। कनेक्टेड रहे। वह तो हमेशा ही रहता है इससे क्या? उस नए मोबाइल को ख़रीदे हफ्ता  हो गया  लेकिन नहीं हो पाई वह कनेक्टेड। न उसने फोन किया न एसएमएस में कुछ लिखा न फॉरवर्ड किया गैरों का सन्देश न ही कोरा भेजा। और तो और न मिस कॉल तक नही  किया।

         कुछ तो करे। विकास उम्मीद की रोड बनाता रहा। उस दिन लगा रोड बन न सका। उसी दिन की सुबह ठीक उसी वक्त पूजा ने भी यही सोचा
दोनों के बीच सवा किलोमीटर की उलझी गली की दूरी है फिर भी सोचते रहे। दोनों डरते रहे। दोनों इन्तजार में रहे। दोनों के दिल दिमाग में सुर्ख लाल रंग का अधखिला गुलाब खुशबू महकाता रहा।

               कॉल न आ जाये बज न जाये घंटी। पूजा को लगा खबर न हो जाये घर वालों को। तमाम दूसरे डर सवार होने लगे। लगा  मोबाइल लेकर भाग जाये कही दूर जहा कोई न देखे। न करे कोई खुसर फुसर। न पढने की कोशिश करे उसका चेहरा। न समझ पाये कोई आवाज के उतार चढाव को। न लगा पाए कोई अनुमान कि  इन्तजार में  हूँ कि प्रेम में हूँ। कि डर के आखरी मुहाने पर हूँ।

              बताये कि बात करनी है तुमसे। ढेर सारी बात। संकरी सीढियों से नीचे उतरते हुए  टायलेट में जाने से पहले पूजा ने सोचा कि मोबाइल को सीने से चिपका लू कि अपने पसंदीदा लाल रंग  के नीचे रख लू। तब आएगा उसका फोन। उसके नाम के  कंपन में खुद को देख सकू कि क्या बजेगा उसके भीतर। उसकी देह के अंदर क्या क्या होगा? होगा उसका नाम, जबान से बाहर निकलने के अलावा हर जगह से निकलता है। महसूस करती है, लाल रंग की एक इंची चौड़ाई वाली दो पट्टियों के नीचे गोलाकार में, उसके ठीक उपर वाले हिस्से के भीतर जिसके बारे में बताता है दिमाग, जो सुन्न हो गया कि क्लोरोफाम के अधूरे डोज में डूब गया कि सुबह उठते ही उसके ख्यालों में खो जाती है। हर रोज हर पल  यही सोचती है पूजा। खुश होती है। तभी लाल रंग की पट्टी के नीचे से आया ख़याल कि मोबाईल जब साइलेंट मोड पर हो तब आए फोन तो। तो धडकते दिल में महसूस करेगी उसके नाम के साथ उसका वजूद । वाईब्रेशन पर सीने से कसी हुई लाल रंग के कॉटन रेडरोज के नीचे। और उसने ख़याल को हकीकत में तब्दील कर मोबाईल साइलेंट मोड पर किया। स्क्रीन वाले भाग को पकड़ कर सीने से लगाने के लिए रखते वक्त तब ठोड़ी से दाये हाथ का ऊपरी हिस्सा टकराया। वहां रख लू तो उठते वक्त मोबाईल भी नहीं गिरेगा और अंदर सरकाया।

                      तभी लगा  किसी और का आ जाये फोन तब कैसा लगेगा ..? कई नंबर है मोबाइल में। फोन आयेगा तो होगा वाइब्रेट तब ..तब ..वे भी  उसके वक्ष को स्पर्श करेंगे। उन कमीनों के नाम भी साथ में आयेगें जिनको मोबाईल में सिर्फ इसलिए रखा है कि उनसे पाला पडता है। फिर वह  प्रिंसिपल हो या अकाउंटेट ..जिनकी सूरत नहीं देखना चाहती है, लार टपकाते, ललचाई निगाह से देखते लोगों का  इस तरह देखना कितना वीभत्स लगता है.छि ...वे मेरे सीने पर ..इसी ख़याल से वह  मोबाइल को सीने से निकाल कर दिये के पास छोड़  देती है और टाइलेट में जाती है। बैठते ही लगा कि हर दिन क्यों लगता रहता है कि कही आ न जाए उसका फोन जब कि महीने में एकाध बार ही करता है विकास उसे फोन तब जब वह घर- टाइम  में नही होती है। फिर क्यों सोचती है? इसी सोच में थी कि बजता है मोबाईल कि बढती है धड़कन कि आया होगा उसका कॉल। कोई देख न ले उसका नाम उसका नंबर।

                       झटपट  धो –धुआ कर निकल भागी। हाथ भी धों नहीं पाई साबुन से और झपट पड़ी मोबाइल पर। धत तेरे की... बुदबुदाई देख कर नाम। थोड़ी देर रुक नहीं सकती थी कमबख्त। बाद में कर लेती। इसे तो हमेशा जल्दी रहती है। ये सोनल भी है न। अब दिन भर अजीब सी बैचैनी रहेगी ...बैचैन हो गई।

                       उस दिन जब कहा गया वसंत का उत्सव है। प्रेमाभिव्यक्ति का दिन है। उस दिन कालेज में विकास को नहीं दिखी थी पूजा। उस रात में  उसकी नजर पूजा के घर की  दीवार पर गई। वह दीवार जो दरवाजे के खिलाफ खड़ी की गई। उस मजबूत दीवार के सीने में  बाई ओर एक खिडकी है जो लकड़ी की बनी हुई है, जो कभी नहीं खुलती। धूल आती है सड़क की इसलिए बंद है खिडकी, यह घर के भीतर थोपा हुआ सर्वमान्य तथ्य है। जबकि दरवाजे से आने वाली हवा को रोकने के लिए खिडकी का इस्तेमाल किया जाता है। वह खिडकी वाली सफ़ेद दीवार कोरी है। दीवाल को वाल कहा जाने लगा है आजकल, तकनीकी दौर के सोशल मीडिया में। लेखक, कवि, विचारक सहित जो भी होता है वह पढ़ा लिखा सपने में भी नहीं कहता है कि उसने ‘’खाता’’ खोला है। खोलने के बाद इसे अपनी खता समझता है। जो दीवार पर लिख कर शुद्धता का दावा करता है वह भी कह नहीं पाता है उसने खाता खोलकर दीवार पर देखा/पढ़ा है। उस समय दीवार पर लिखने का खयाल आते ही रोक लेता है विकास खुद को। जमाने को हो जायेगी खबर। जमाने को अगर  पता चल गया कि इस पूजा से प्रेम करता हूँ तो क्या कहेगे लोग। क्या बीतेगी उसके घर वालों पर। कितना बड़ा अपराध है प्रेम करना। प्रेम का सार्वजनिक हो जाना। कितना खतरनाक है प्रेम? प्रेम करना अपराध है या सार्वजनिक हो जाना? जब जमाने को हो जायेगी खबर तब पूजा निकल नहीं पायेगी घर से। लोग कहेंगे, ''देखो, देखो रे ये पूजा प्रेम करती है किसी इंसान से।

            प्रेम ...प्रेम करती है? अपनी मर्जी से मन से। इसके पास कुछ नहीं बचा है। देखो तो सही बाबूलाल की बेटी को। इसका माथा खराब हो गया लेकिन इसके मां बाप क्या भाड़ झोंक रहे थे? कहेंगे लोग और बाबूलाल की बेटी ने किया है प्यार, यह सुन कर पिता का क्या होगा हाल?

                      जिसने जिंदगी में न किया होगा प्रेम। जो असफल हो गया होगा। जो कहीं पर  बोल नही पाया होगा जिंदगी में अपने मन की बात वह बोलेगा। वही बोलता है वही चीखता है उसी की कुंठा निकलती है। उसी विकृतचित्त आदमी के कहने से डरता है जमाना। विकृत चित तय करता है, किसे प्रेम करना चाहिए। किससे प्यार किया जाए और कब? उस लताड़े हुए कुंठित से डरना चाहिए उसे? विकास ने सोचा। पूजा से बात करनी है। जा नहीं सकता। फोन करने की हिम्मत नहीं हो रही है। मैसेज चाह कर भी  नहीं पा रहा है। लौट आई ठंड के साथ उदासी में डूबता जा रहा है।  हर पल याद करते हुए उसे लगा कितने डरपोक होते है लडके? वह चुप है कि चलती हवा रुक गई। जुबान सब समझते है जज्बात की। चंदनदास की गाई गजल में वह खुद को ढूंढता है।

               रात में, पूजा के घर के चक्कर लगाने पर भी विकास को ऐसा कुछ न दिखा जिससे पता चले कि पूजा हो वहां। दिखें, खड़ी हो जाये छत पे। एक नजर देख लू। पूजा से कहना था कि आ जाये बालकनी में। कह नहीं पाया। उम्मीद करता रहा कि करेगी फोन नए मोबाइल से कि किस कम्पनी का है कितने का है, किस रंग का है कितना मेगापिस्कल का है। ये है। वो है। इसी बहाने उसकी आवाज सुन लूँगा। सुन कर उसकी हँसी...महसूस कर लूँगा कि जी लूँगा।

              उस वक्त पूजा कभी मोबाईल को तो कभी घर को देखती है। बंद है दरवाजा। बंद है बिजली। जीरो वाट का बल्ब लेट्रिन में जल रहा है उसकी पीली रोशनी आने के लिए दरवाजा खुला रखा गया है। लेट्रिन के खुले दरवाजे से रोशनी कम, बदबू ज्यादा आ रही है। यह बात उठती है तो पिता गुस्से के साथ निष्कर्ष स्वरुप कहते है, घर में खाना ठीक ढंग से नहीं बन रहा है इसलिए पेट खराब रहता है। माँ और उसके ऊपर आफत न आये। पिता का ख़याल आने से बदबू सहती पूजा चुप है कि जानती है जब तक बल्ब के भीतर का टंगस्टन का तार टूटेगा नहीं तब तक लटका रहेगा रोशनी देने वाला पीला बल्ब।

               क्या करे क्या कहें ? बिस्तर पर लेट गई, आँखें बंद की। वह नजर आया। सुर्ख लाल गुलाब लेकर कहेगा। गोया कि कह दिया उसने कि सुन लिया उसने। उत्तेजना में भर गई। धड़कन तेज हो गई। अपनी छाती पर मोबाइल रख कर महसूस किया उसने। दो सुर्ख लाल गुलाब।

               विकास लगातार चक्कर लगाता रहा। कार्नर से जाता है रास्ता पूजा की गली की तरफ। कार्नर पर है दूकान। मेनरोड और गली दोनों तरफ खुलती  है ‘’न्यू वर्ल्ड इलेक्ट्रानिक्स‘’ दूकान जिसमें झिलमिलाती रोशनी है, टी.वी., डीवीडी, वाशिंग मशीन, फ्रिज, मिक्सर जैसी चीजों के साथ। वह चीजें बेचता है। उसके पास वाली दूकान बंद है जिसका शटर सड़क की तरफ से दिखता है कालेपन के साथ। उस दूकान के पास बिजली का खम्बा  है  जो कभी सुनहरे रंग से रंगा  था वह किसी एक्सीडेंट में कुबड़ा हो गया। खम्बे ने  दूकान  की तरफ मुहँ करके लटका दिए अपने तमाम तार। उसी खम्बे और शटर के बीच बूथ है, जिस पर ‘एस टी डी -फैक्स' काले अक्षर से अंग्रेजी में लिखा है। बूथ बंद है। लगता है कई महीनों से नहीं खुला है।  उसके ऊपर फ्लेक्स टंगा है,‘न्यू वर्ल्ड इलेक्ट्रानिक्स’ की रोशनी से फ्लेक्स के  रंग, चित्र और अक्षर चमक रहे हैं। ‘’शिव-पार्वती, राधा-कृष्ण की पुण्य-भूमि पर पाश्चात्य संस्कृति  वेलेंटाइन प्रतिबंधित है। ‘’पढते ही उसके दिमाग में शिव लिंग आता है। शिव से प्रेम किया था पार्वती ने,पगला गई थी राधा भी, उन्हें दिल में रखते है और तो और पाश्चात्य देशों के आविष्कृत निर्मित सामान घर में लेकिन प्रेमाभिव्यक्ति दिन मना नहीं सकते।




                     दिखते है उसे चप्पल जूते नए फैशन के। जिन्हें किशोर युवा पहनते हैं। ‘’न्यू वर्ल्ड इलेक्ट्रानिक्स‘’ दूकान के बाहर। इस दूकान में जूते चप्पल उतारकर ही जाया जा सकता है। दुकान का काउंटर खाली है। अंदर कोई आदमी नहीं दिखता है। उतारे हुए जूते चप्पल  दिखते  है, वे बताते हैं  कि अंदर इंसान है लेकिन नहीं दिखते इंसान। कहाँ गये इंसान? रंगीन फ़िल्म देखने?

               उसकी नजर पूजा के घर की सफ़ेद कोरी दीवार पर गई। बिजली जा चुकी थी। इन्वर्टर से कई सीएफएल जल रहे है। एक झलक की  बजाय घना अँधेरा देखने को मिला था रास्ते पर धूल से सनी रोशनी है जो गाडियों के शोर के साथ लगातार भाग रही है।  गाडियों के हार्न के शोर में चालक की गालिया /हिदायत /ब्रेक सुनाई नहीं नहीं दे रहे है विकास को। उसी रात ठंड ने जला दिए डॉलर चने के सफ़ेद फूलों को। पाला पड़ गया फसल के साथ दिल में।

               पूजा बताना चाहती थी कि वादे के मुताबिक़ उसने बात क्यों नहीं की। क्यों नहीं हुई मुलाक़ात लेकिन बता नहीं पाई। सो नहीं पा रही थी तब  दीवार के सीने में लगी हुई खिडकी को खोलकर देखने लगी। शहर की सड़कें लेटी हुई हैं।  सड़क सोना चाहती है, लेकिन सर्द हवा लौट कर हत्यारन बनकर सड़क को चूम रही है। लगातार चूमने के रिकार्ड की खबर का असर हो या न हो पूजा ने अपने को सर्द हवा के हवाले कर दिया। सिर गरम है बदन ठंडा। उस रात के शुरुवात में  घर के भीतर का पीला बल्ब टाईलेट में जल रहा था। दूसरे कमरे का  बड़ा सीएफएल बंद कर बोले थे  पूजा के पापा पूजा से, ’’ रुक ...कहाँ गई थी?’’ तब पूजा को लगा पिता सीएफएल बल्ब से कह रहे है जो पैसा बचाता है।

               ‘’ कालेज। और कहाँ?’’ बोला था  पूजा ने  सोचते हुए कि क्या हो गई खबर।
              ‘’ किसके साथ?’’ जवाब नहीं दिया था  पूजा ने। उस खाली वक्त में पिता ने कहा जब घर की मोटी ट्यूबलाईट का स्टार्टर आवाज कर रहा है। उसकी आँखों के नीचे और ट्यूबलाईट के दोनों तरफ़ कालापन बढ़ गया है। बाबूलाल ने ट्यूबलाईट को देखते हुए कहा,’’ अब किसी काम की नहीं है। इसे यू ही जलने दो। बेकार में पैसे खर्च कर सुधारने का मतलब नहीं है। इसके दिन पूरे हो गए है। मन करता है इसे निकाल कर फेंक दूँ।’’ बोलते-बोलते मां को अजीब सी निगाह से देख कर ट्यूबलाईट बंद की। पिता के दिमाग में मोटी ट्यूबलाईट नहीं मां दिखी पूजा को।

        जब कोई ज़वाब नहीं आया तो पिता ने कहा ,’ ये मत समझ कि हमें पता नहीं। सब जानता हूँ मैं। कुछ तो सोचना था कालेज में पढाती है। इतनी उमर हो गई और ये छिछोरापन।’’ फिर भी नहीं बोली पूजा तो बोले  रानी बिटिया के पापा,’’  इतनी समझ तो आनी थी। बराबरी का हो, ऊँचे खानदान का हो यह तो देखना था।’’ पूजा को लगा माँ कुछ न कहे लेकिन सपोर्ट में तो दिखे लेकिन माँ को देख कर लगा वह चुप ही रहेगी तब बोली पूजा ,’’बराबरी ..उंचा खानदान तो आप देख रहे थे। क्या मिला?’’

     ‘’सब कुछ..ठाठ से रे रहे। नाम है समाज में इज्जत है और तू नाक कटवा रही है। इज्जत उछाल रही है। जवानी इतनी चढ़ गई कि अपने से.. अरे कम ज कम जात तो देख लेती..?’’

    ‘’क्या कमाया है आपने? नाम ..इज्जत .दौलत ..ज्ञान..जात? क्या है खुद आपका? सब बाप दादा का है। उनका नाम, इज्जत, आपको बेटे होने के नाते विरासत में मिला है जाति की तरह। ये जात आपकी कमाई है ?’’ पूजा ने कहा खड़े खड़े।
    ‘’तू तो पगला गई है ...अंधी हो गई है। समझाना पड़ेगा। अरे ये मेरे पुण्य है जो मैंने पिछले जनम में कमाया तभी इस जात में जन्मा हूँ..उच्ची ...आई समझ में।’’ निष्कर्ष सुनाने के बाद चैन आया बाबूलाल को।

    ‘’वह पिछले जनम का समय न आपने देखा न मैंने। न ज़माने ने। उसकी बात करने की बजाय जो सभी को दिख रहा है ये वाला जनम। इस जन्म, टाइम की बात करो न। ...‘’पूजा आखरी बहस को पूरा करती हुई बोली। तब गाड़ियों की आवाज आ रही थी और दुकानों की रोशनी सड़कों पर पड़े गड्ढे दिखा रही थी।

     ‘’तेरी तो मतिभ्रष्ट हो गई। ...उस नीच जात वाले के साथ रे रेके।....इसलिए हमारे पूर्वज कहते थे अपने वालो के साथ उठना बैठना चाहिए ताकि पवित्रता बनी रहे और तूने...शरम नी आये मु चलाते।’’ बाबूलाल व्यथित हो गए अपने गुस्से को पीते हुए कि मज़बूरी है। पूजा को चुप कराने के लिए चलाये तरीके सफल नहीं हो रहे।  पूजा ने बिना देर किये कहा, ‘’पूर्वजों को नौकरी करनी पड़ती न तो सब समझ में आ जाती। बिना काम धाम किये खाने पीने को मिले तो मेहनत मजूरी क्यों करे? खाते रहो और बेवकूफ बनाते रहो। ..आप भी वही कर रहे हैं। ...बाप दादा की सम्पति। ....’’ पूजा की बात काटते हुए बोले बाबूलाल, ‘’...तो तेरा मतलब है हम....तू कुछ भी बक लेकिन अब तेरी शादी नहीं होने दूंगा उससे। कम अज कम समाज में नाक तो नहीं कटेगी।’’ बाबूलाल ने फैसला सुनाते हुए पत्नी को देखा जो खामोश थी।

      ‘’विकास में क्या खराबी है?’’ अपना आखरी सवाल जवाब की तमन्ना में पूजा ने रखा माँ-बाप के सामने ताकि तसल्ली हो जाए।

    ‘’ देख..पगला गई तेरी बेटी ...माथा ख़राब हो गया इसका। तूने ही जाना था न इसे। इसकी बात सुन के लग रहा है ये मेरा खून नहीं है। ये पूछे उसमें क्या खराबी है? बता इसे वह नीच जाति का है नीच। ....इसके बाद क्या रह जाता है। उसके साथ शादी करवा के धरम भ्रष्ट करके नरक नी जाना है मुझे। ...हरगिज नहीं होगी उसके साथ शादी।’’

      ‘’ कब तक देखेंगे जाति को। क्या कर लिया आपकी जाति ने?’’ पूजा बोली थी तभी  थोड़ी देर पहले दबाये हुए स्विच का असर हुआ। ट्यूबलाईट जल गई। उस रोशनी में पूजा के पापा ने कहा था, ’’जब पड़ेगी लात तो पता चलेगी जात। आई समझ में.. ? मरते दम तक देखूंगा अपनी जात।’’ पिता ने फिर से ट्यूबलाईट बंद कर दी। कुर्सी की बजाय चारपाई पर बैठ गये थे जहाँ बैठी थी पूजा की माँ।

                     ‘’ मुझे क्यों मार रहे हो जीते जी?’’ पूजा ने कहा और माँ को देखा था।
                      ‘’ हम...हम मार रहे है ? ..या तू मार रही है  हमें जीते जी।’’ पापा ने कहा था  जिसमें ’’मैं ‘’, ‘’हम’’ हो गया। माँ जिसे चलने के लिए सहारा लगता है कि रीढ़ की हड्डी का आपरेशन फेल हो चुका था खुद उठ भी नहीं सकती। जबान सलामत होने पर भी नहीं बोली माँ। जिसकी सहमति पूजा और बाबूलाल अपने अपने लिए चाह रहे है लेकिन वह सहमति नजर नहीं आई। तो बोले बाबूलाल ,’’तू पढ़ाती है तो इसका मतलब नहीं कि बड़ी ज्ञानी हो गई ...अरे है तो औरत जात जिसकी अकल चोटी में ही बंधी होती है इसलिए चलती ही नहीं अकल लेकिन जबान चलती रहती है चबर चबर। ...प्यार से समझाओ तो भी समझ नहीं आ रही।  ..शादी ही करनी है तो कर दूंगा किसी झाड़ से, मंदिर से और नहीं तो अपनी जात के बूढ़े से। ..बूढ़े के अलावा अब कोई नी मिलना तेरको ..आई समझ में...।’’ वे बोलते जा रहे हैं। माँ को देख कर बोलने लगे,’’तू महारानी घर में पड़ी रहती है। काम धाम न कर पर बेटी को तो समझा। लक्छ्न तो देखो इसके।’’ 

     बीमार माँ और पिता को देखते हुए पूजा ने बोलने की बजाय सीढियां चढ़ी  ऊपर जाने के लिए। चढते हुए पहली दफा लगा घर के भीतर संकरी है सीढियां फिर भी चढना बेहद जरुरी है।

              दिन गुजरे लेकिन पूजा बात नहीं कर पाई विकास से। कालेज में अतिथि विद्वान के नियत पीरियड ज्यादा लेने लगी लेकिन मानदेय उस हिसाब से नहीं मिलता। उसने अपनी जिंदगी के पन्ने पलटे जिन्होंने बताया कि उसके साथ ऐसा ही होता आ रहा है। पता नहीं कितने सालों से कालेज की बिल्डिंग की पुताई नहीं हुई है और वह भी नहीं जा पा रही पार्लर।



             विकास  इतवार को इंतजार में ताकता रहा आसमान। आसमान पर सूरज का तानाशाह सा राज था।  कुछ नहीं किया उसने सिवाय इंतजार के। पढ़ा कुछ नहीं। टहलता रहा। मिथकीय चरित्र के साथ संबंध इस  वक्त भी जोड़ा जा रहा है जबकि टूजी में काले बादल छाये हुए है और सुनीता अंतरिक्ष में फिर से जाना चाह रही है तब भी नहीं आई पूजा। अब इंतजार नहीं करना चाहिए, सोचा तो पूजा का चेहरा शब्दों की दृढ़ता के साथ याद आ रहा कि पूजा ने मोबाइल पर संदेश भेजा था हर हाल में आऊंगी, मिलूंगी और ढेर सारी बातें करुँगी।

        अचानक बारिश होने लगी। विकास  बाहर आया। बूंदे छमछम करती हुई चालीस सेकेण्ड में निकल गई। आसमान में सूरज और गर्म हो गया।  कुछ सोचता -महसूस करता, इतने में तो  आँगन के पीली फर्श पर फैली बूंदों की चादर उड़ गई। पता नहीं पूजा को कब छुट्टी मिलेगी। कब आएगी। कब मिलेगा ..कब ..?

               ..अभी अभी पता चला है अवकाश प्रतिबंधित कर दिया गया है।
       मार्च तक चलेगी सर्दी, इस खबर को झुठलाने के लिए तीखी धूप उतर आई थी। कालेज की सीढियो से उतर कर पूजा ने स्कूटी निकाली। स्कूटी पर अपने आपको एडजस्ट करने लगी। लगा उसी वक्त कि उतार दू स्वेटर। लेकिन कहा रखूंगी सोच ही रही थी कि उसकी तरफ आता दिखा विकास। कालेज तक पहुचने के लिए खुद का वाहन या फिर लंबी दूरी की बसें ही है साधन। पैदल है विकास। पूजा हैरानी भरी निगाह से देखती है। धूप का चश्मा पहना है दोनों ने। ये महाशय कार छोडकर पैदल ...। पूजा का चेहरा स्कार्फ से ढंका हुआ है। विकास पहचान नहीं पाता। आगे बढ़ जाता  है। अपने  खिलाफ वाली दिशा की तरफ जाती हुई रूकती है पूजा। धूप के तीखेपन में पलटता है विकास, वही होगी। बुलाती नहीं पूजा। खड़ी है कि धडक रहा है उसका दिल स्कूटी के इंजन की तरह। इंजन उसके दिल के भीतर आ गया। .विकास आता है। . कहती है पूजा, ‘’ छोड़ दू?’’

                              विकास सकपका जाता है। उसे एक बार देखने के लिए आया और ये बोल रही है छोड़ दू। इससे बड़ा क्या हो सकता है जिंदगी में कि उसके साथ एक बार बैठ जाये।

                 ‘’कही छोड़ दू ?’’ दोहराती है पूजा। कहाँ ले जा कर छोड़ देगी ये? खयाल विकास की जबान बंद कर देते है और ‘’छोड़ दे ‘’याद कर पूजा का दिमाग खोल देता है शब्द। . विकास  स्कूटी पर पूजा के पीछे  बैठ जाता है। छोड़ देगी मुझे। .छोड़ देगी ...। इसलिए साथ बैठाया कि छोड़ दे। नहीं कहा इसने ले चलू। छोडना चाहती है ....। छोड़ दू ....। चलती है स्कूटी कि चुप है पूजा। चुप हो कर सोचता है विकास क्या सोच रहा हूँ?.

          ‘’ किधर चले?’’ पूजा बोलती है तब पूजा को धूप को चूमने का खयाल आता है और वह ख़याल को हकीकत में तब्दील करती है। .नीले आकाश में सफेद दुपट्टा लहराता है कि विकास के चेहरे पर आ गये पूजा के बाल जो दुपट्टे की तरह उसके चेहरे पर छा गये।. मानो ओंठो को कस दिया हो उसी दुपट्टे से। .जबान कितनी भी तेज हो वह गोलाकार हो गई थी मुहँ के भीतर। .कहना था जबान को, जो मन कह रहा था। .जिधर  ले जा सकती हो उधर।  .मगर नहीं निकली आवाज। .आवाज राजमार्ग की ढलान से शहर के खिलाफ जाती हुई गाँव की कच्ची सड़क पर चल रही है। स्कूटी के छोटे पहिये में उलझ गई। .पहिये के गले में जाति की बात लगातार लिपट रही थी कि साथ में धूल उसे रंग देने लगी। .पापा को कैसे पता चला कि किस जाति का है विकास? मुझे क्यों नहीं पता? .पूजा को लगा वह खुद से झूठ बोल रही है। कहूँ विकास से कि मुझे नहीं लेना देना इस बात से।
 .
                   पूजा की खुशबू में खो जाता है कि स्कार्फ से बंधे हुए उसके बाल हवा के साथ आते हैं।  .भर लू बाँहों में ...कि तभी ब्रेक लगता है स्कूटी में। .सामने से ट्रक आ रहा है। अपने को बैलेंस करने के लिए विकास का हाथ पूजा की कमर पर चला जाता है। .हटाये हाथ या ...। पूजा तपाक से कहती है ,’’क्या कर रहे हो .?’’ घबराहट में डूबी पूजा कहती है,’’कोई देख लेगा तो ..।’’
                    ‘’..तो ..’’ विकास के मुहँ का ताला पहली दफा खुलता है।

                    चुप है पूजा। चुप हो गया विकास। .अच्छा लगा या बुरा, तय नहीं किया जा सकता पीछे बैठ कर बिना चेहरे को देखे हुए।. पूजा डर गई कि कोई देख न ले कि मेरी कमर पकड़ कर बैठा है कोई पुरुष  ...। विकास ने बिना सोचे समझे पकड़ ली थी उसकी कमर। डर था कि गिर न जाए सड़क पर। . विकास को लगता है सड़क पर गिर जाने के भय से कही अब गिर तो नहीं गया इसकी नजर से?

               यह सड़क  सुनसान होगी, इस अनुमान को झुठलाते हुए लोग आ जा रहे हैं। जा रही हैं पैदल महिलाये जिनके सिर पर छोटी छोटी गठरिया हैं। . कि उसमें होगी चार रोटियाँ।. खाना नहीं खाया पूजा ने।
         ‘’ किसी जगह बैठे ?’’ विकास कहता है। .
         रोटी के बारे सोचती पूजा ने सुन कर कहा,’’ क्या बात करते हो ? रोड कितनी संकरी है?’’

                  ‘’ संकरी रोड? ये पगडंडी है। पगडंडी संकरी ही होती है। चलते रहो तो ये अपनी मंजिल तक पंहुचा देती है। भटकाती नहीं है।.’’  विकास ने पूजा के कान के पास कहा। .विकास की बात नहीं उसकी सांस भीतर तक चली गई। .सिर्फ साँस होती तो निकाली जा सकती है नाक से  मुहँ से लेकिन वह सिर्फ साँस या हवा नहीं थी जो उसके भीतर गई। कुछ था जिसने धड़कन बढ़ा दी जिसने दिमाग को सुन्न कर नए रास्ते पर ले गई ।

                  पगडंडी पर साइकल सवार को देखकर। .पूजा को अपनी साईकिल का पहिया याद आया। .पिछले पहिये के चेन को चलाने वाले कांटेदार व्हील में लिपटे हुए बाल दिखा करते थे। .उसे साफ़ करते हुए कई बार लगा कि इतने सारे बाल क्या उसके है। .इतने सारे बाल निकलते रहे तो  वह एक दिन टकली न हो जाये? कि ये बाल तो उसके अलावा शहर भर की लड़कियों के है जो बिना इजाजत भटकते रहते है। .अपनी मर्जी के बिना अपनी साईकिल में लिपटते बालों की तरह जाति सहित कई चीजें चली आती है।. उड कर आने वाले इन  बालों पर एक एक कर धूल धुआँ तेल ग्रीस और भी न जाने क्या-क्या चिपक कर उलझ जाते है। .इन बालों को साफ़ कर नहीं पाते। .कैंची के कारण तो कोई कंघी से उलझ कर या बाथरूम में से भाग जाते है गीले बाल और चिपक जाते है। .पूजा ने बाए हाथ से लहराते बालों को छुआ।.

                 खेत में चने के पौधे ठंड से झुलसे हुए थे। .कुछ चने के पौधों में सफ़ेद फूल अभी भी है। .चने का खेत. ..विकास को लगा कहे चने के खेत में जोरा जोरी .? चने के खेत में बैठने का भी कहने की बजाय विकास  ने कहा,’’डॉलर चने के पौधे कितनी जल्दी झुलस जाते हैं। .बड़े नाजुक होते हैं।’’
              ‘’कमजोर होते हैं।’’
        ‘’ज्यादा फसल देते है। .डॉलर है तो ज्यादा भाव तो मिलेंगे।  .’’
        ‘’ज्यादा कमाई के चक्कर में खेत के खेत डॉलर चने से भर गये।’’
        ‘’इससे तो अच्छा तो वो रशियन चना था लेकिन उसे  डॉलर ने गायब कर दिया।’’
        ‘’ रशियन से काबुली चना और देशी चने दब गये थे।’’

        ‘’डॉलर ने तो सबको  कहीं का नहीं छोड़ा। . ’’तब पूजा को लगा यही बात उसे बोलनी होती तो वह डॉलर की बजाय पापा बोलती और उसमें जोडती कि उनका दबदबा और रकबा इतना बढ़ गया कि माँ-बेटी के लिए कोई जगह नहीं बची जहाँ वह खिल सके, बढ़ सके। .अपने आपको मजबूती देते हुए बोली पूजा,‘’मुझे तो देशी चने के जामुनी रंग के फूल अच्छे लगते है। ’’बोलते बोलते लड़की जामुनी हो गई कि सोलह बरस की हो गई।.  स्कूटी तेज भगाना चाहती है पूजा लेकिन स्कूटी की अपनी सीमा है और पगडंडी  पर किसी मर्द के साथ जाने पर उठ सकते है सवाल। .बता सकता है कोई घरवालों को। कोई जाकर न बताये तो भी स्कूटी पर चिपकी धूल बता देगी। .धूल देखती हुई पक्की सड़क पाने के लिए नजर दौडाती है कि आगे है प्रधानमंत्री रोड जो राजमार्ग पर ले जायेगा यह  नया रास्ता दिखा चुका उसकी मंजिल।

           राजमार्ग मिल गया प्रधानमंत्री सडक से और स्कूटी को रोककर बाया पैर जमीन पर टिका कर फैसले के साथ विकास को विदा किया।
           विकास के पास है अब सब कुछ। .उसे लगता है जी लेगा वह उम्रभर, इस सफर के सहारे।. इस अहसास के साथ कि पूजा उसे लेकर चली है। चाहती है उसे इतना कि तमाम डर के बाद भी चली साथ साथ। उसे राजमार्ग से नहीं मतलब उसे भली लगी पगडंडी।
 
                  पूजा ने अपने भीतर प्रियंका को देखा। खुद को कैटरिना महसूस किया। मुक्त होने के अहसास के साथ घर की  ओर चलती रही। फाटक बंद है। रेल आने वाली है। यह रोड का छोटा सा टुकड़ा कच्चा है। नुकीले पत्थर टायर पंचर कर न दे, उड़ कर न लग जाये कोई पत्थर, इस रूटीन आशंका के साथ  ही पापा याद आ गये। .बहुत प्यार करते थे पापा। पापा बचपन से अभी तक कहते थे मेरी रानी बिटिया के लिए राजा लाऊंगा। लंबा चौड़ा, हृष्ट पुष्ट, गोरा सजीला होगा। जब निकलेगा सड़क पर तो दस लोग देखेंगे, पूछेगे, किसका दूल्हा है तब कहेंगे लोग पूजा का है। .कौन पूजा? अरे वह बाबूलाल है न उसकी बेटी। .लेकिन राजा नहीं मिला ।राजा की तलाश यात्रा में पापा को किसी का खानदान पसंद नहीं आता। .कभी लड़के का रोजगार तो कभी उसके बाप का व्यवहार। .कभी ‘’ राजा ‘’के बाप का इतिहास या उसके माँ की चरित्रगाथा। .किसी का घर बड़ा नहीं होता किसी का व्यापार। .बड़े घर, राजा की चाह, दान दहेज की बडबडाहट में शादी की उम्र निकाल दी रानी की।.

        अभी रेल नहीं आई। राजा की याद छोड़ पटरी देखती है पूजा, स्कूटी बंद कर इंतजार में है विकास के संदेश का, साथ में जा कर एप्लीकेशन देना है, स्पेशल मैरीज कोर्ट में। समय पर पहुँचने के लिए लगता है विकास को फोन करे। बढती गाडियाँ, उनका शोर, फाटक से नीचे निकलते है लोग अपनी दुपहिया लेकर निकलना चाहा लेकिन झुकने का सोचकर कभी नहीं निकली। पटरी पर रेल के पहियों को देखना सुखद लगता। .भागते पहिये हमेशा उसे आकर्षित करते रहे। .पहिये नहीं चल रहे अभी पटरी पर लेकिन दिमाग के भीतर यह सवाल काफी लंबा हो गया कि पापा ने किसका किया इंतज़ार? उम्र निकलने का? सवाल से भरी हुई रेल में जवाब स्पष्टता से दिखा पूजा को। .धूल उडाती हुई रेल पूरी ताकत लगाकर दौड़ रही है। .रेल का भोंगा बजता जा रहा है। .पूजा ने कान पर हाथ लगाये उसके भीतर रेल धडधडाती हुई जा रही है।.

              रेल के आखरी डिब्बे के जाते ही परिचित आदमी आया। .फाटक अभी खुला नहीं। .वह आदमी इंतजार में था कि रेल जाये तो संदेश दे। .फाटक पूरी तरह खुल गया पूजा के दिमाग की तरह तब भावविहीन चेहरे वाले आदमी ने संदेसिया बनकर कहा, ’’तुम्हारी माँ ने पंखें से लटक कर जान दे दी। अस्पताल में है।’’ पूजा कुछ कह न सकी और पलटी अस्पताल के लिए।
 .
        अस्पताल में बाबूलाल का रो-रो कर बुरा हाल है।  .वह पुलिस ,पत्रकार डॉक्टर से हाथ जोड -जोड़कर कह चुके, बीमारी से तंग आकर बापड़ी मर गई। .दवाइयाँ खा–खाकर परेशान हो गई थी।. ऊपर से लड़की की शादी न होने से डिप्रेशन में थी। .उसका तो  बुढापा खराब हो गया। .अब तो रहम करो। .शरीर की चीरफाड कर पीएम करोगे तो नरक मिलेगा उसे। .आप लोगों को क्या हासिल होगा।. समझ क्यों नहीं रहें आप लोग? मत करो पोस्टमार्टम. मत करो।.’’

               खुसर-पुसर और चेहरे के हाव-भाव बता रहे कि सहानुभूति की हवा लगने लगी लोगों को और छोडो डाक साब बिचारी बुढिया की चीर-फाड़ से क्या मिलेगा? शब्द आकार लेने की प्रक्रिया में आ गये लेकिन सबसे पहले कौन बोले? इस सवाल के साथ  लोगों के पैर पीछे पड़ने लगे। .हमें कोई आपति नहीं है जो भी करो, कहा डॉक्टर ने और मरीज देखने शुरू कर मरते हुए सवाल को पुलिस के भरोसे कर दिया। आप ही बताओ इसका इलाज। हेड कांस्टेबल के बूते से बाहर था उसका इलाज। उसने मोबाइल से बात की, ’’ सर बुढिया का आदमी और पत्रकार, सारे लोग नहीं चाहते पीएम। बूढी औरत है। .अच्छे घर की है.अपने को क्या? लिखवा लेता हूँ सबसे नहीं चाहते पीएम ...जी सर ..सर ...बीमार और इतनी उमर ..नहीं .लगता नहीं आगे कोई प्राब्लम आएगी ..जी ..जी ..ठीक है ..हाँ वह कर लेता हू .जी हो जायेगा .सर ..सर ..।’’


             बाबूलाल ,डॉक्टर और हेड कांस्टेबल ने राहत की साँस ली।
 .
          पूजा सुनती है फैसला और देखती है राहत से भरे चेहरों को। .उसे लगा वह पिता का नहीं अपराधी का चेहरा देख रही है। .डाक्टर, हेड कांस्टेबल और बिखरते लोगों के बीच वह अकेली खड़ी है, जिसे मौत स्वाभाविक नहीं लगती है। ‘’पीएम तो होगा
.पोस्टमार्टम तो करना पड़ेगा मेरी माँ का.‘’ कस्बे के अस्पताल में स्कूटी को बंद किये बिना कहा पूजा ने। उसके दोनों पैर टिके हुए है जमीन पर। 


सम्पर्क-
ई-मेल :  kailashwankhede70@gmail.com
मोबाईल : 09425101644

टिप्पणियाँ

  1. सशक्त प्रेम कथा !भाषा कौशल कथाकार से अधिक कवि होने को प्रमाणित करता है। वानखेड़े जी ,मुबारकबाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहानी अंतःमन को स्‍पर्श करती है. यह कहानीकार की प्रतिभा है कि कहानी की मा्ंग के अनुरूप कथानक के अंत की दुविधा को अप्रत्‍याशित घटना के रूप में बनाए रखा है. मन के उदगार कलम की पेहरन से कागज़ पर उतर आना दिखाई पडता है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी कहानी .. समाज का कुरूप चेहरा दिखाती एक खूबसूरत कथा !

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहानी दो तिहाई हिस्से तक अच्छी है लेकिन अंत थोड़ा अप्रत्याशित है. यह हम मान लें कि उसका पिता जो कि लगभग हर दूसरे पिता जैसा है उसकी वजह से उसकी माँ जो शायद हर दूसरी माँ जैसी हो होगी, आत्महत्या कर लेती है !!

    मेरी राय में ऐसे अंत के कुछ लक्षण तो कहानी की शुरुआत में आने ही चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रंगनाथ जी ,पूजा इसे आत्महत्या नहीं मानती.अस्वाभाविक मौत.इसलिए पीएम की बात करती है ...वही अगर ट्यूबलाईट वाला प्रसंग देखे तो शायद बात कुछ सुलझे.

      हटाएं
  5. कैलाश भाई अपनी कहानियों में जो तनाव रचते हैं वह अंतिम पंक्ति तक पढवा ले जाता है. एक घनीभूत सामाजिक प्रतिबद्धता के साथ उन्होंने यह कहानी रची है. मेरी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. कैलाश मुझे बहुत अच्छी लगी कहानी. बहुत दिन बाद पढ़ सकी इसके लिए माफी चाहती हूं लेकिन आज ही समय मिल पाया शांति से पढ़ने का. पहली बार में अंत थोड़ा अप्रत्याशित सा लगा. दूसरी बार फिर से पढ़ूंगी.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें