प्रतुल जोशी की कहानी


प्रतुल जोशी
किसी भी समाज के चलने के अपने नियम और अपने कायदा-क़ानून हुआ करते हैं। लेकिन जिन्दगी अलबेली होती है। वह तो अपने ही तरीके से ही चलना पसन्द करती है। प्रतुल जोशी ने ज़िंदगी के इस अलबेले तरीके को जानने-समझने की कोशिश की है इस कहानी में। तो आइए पढ़ते हैं प्रतुल जोशी की यह कहानी 'दूसरी शादी'।  

दूसरी शादी 

प्रतुल जोशी 

बारात को सुबह आठ बजे तक तैयार हो जाना था। ऐसा एक दिन पहले सब लोगों ने तय कर लिया था। इस के चलते मैंने अपने मोबाइल में सुबह पांच बजे का अलार्म लगा लिया था। रात की व्हिस्की की खुमारी अभी उतरी नहीं थी। मोबाइल के अलार्म की चीख और बारात में सही समय पर पहुॅचने की चेतावनी के बीच मजबूरी में बिस्तर छोड़ना पड़ रहा था। अक्तूबर के आखि़री हफ़्ते में पहाड़ों की तलहटी में बसे इस क़स्बेनुमा शहर में ठंड ने गुलाबी दस्तक दे दी थी।

बाहर अभी अंधेरा ही था। लेकिन अंधेरे के भीतर से वह कालिमा ग़ायब दिख रही थी जिससे अंधेरे की पहचान होती है। थोड़ी देर में बची खुची कालिमा का स्थान लालिमा को लेना था। कमरे का दरवाज़ा खोल कर एक चक्कर गेस्ट हाउस का लगाता हूँ। कहीं कोई हलचल नहीं। सभी दरवाज़े बंद पड़े हुये थे। लगता है गेस्ट हाउस के वेटर और चैकीदार देर रात सोए थे। कमल की काॅकटेल पार्टी ही ग्यारह बजे तक चली थी। कैंटीन के स्टाफ ने उसके बाद खाना बगैरह खाया होगा। इसलिए अभी तक सब गहरी नींद में हैं। ‘‘चाय’’ बार-बार चाय का विचार दिमाग में कौंध रहा है। क्या गेस्ट हाउस के बाहर कहीं चाय मिल सकती है? गेस्ट हाउस की कैंटीन में ताला पड़ा है, वरना चाय तो मैं कैंटीन में ही बना लेता। कुर्ते पाजामे के ऊपर एक हल्का सा स्वेटर डाल कर निकल पड़ता हूँ चाय की खोज में।

देश के दूसरे शहरों की तरह सड़कों पर सुबह-सुबह पौ फटने से पहले बहुत से बुज़ुर्गों को देख रहा हूँ। इन बुज़ुर्गों को जब भी माॅर्निंग वाॅक करते देखता हूँ एक ही बात याद आती है। लगता है सबके दिमाग़ में सेन्चुरी मारने की इच्छा है। कम से कम सौ साल जीने का सपना लिये यह बुजु़र्ग माॅर्निंग वाॅक पर निकलते होंगे। कुछ अकेले हैं तो कुछ दो-तीन के समूह में धीरे-धीरे चल रहे हैं। कुछ रिटायर फ़ौजियों जैसे दिख रहे हैं। उनके चलने में फ़ौजी अनुशासन की झलक दिख रही है। लेफ्ट राइट लेफ्ट जैसी पदचाप। किसी ने मुझे बताया था कि यहाँ बहुत से रिटायर फ़ौजियों ने अपने घर बना रखे है। इन लोगों के पैतृक आवास पहाड़ों में हैं। लेकिन पहाड़ में अब कोई नहीं रखना चाहता। इसलिए इस शहर में पिछले कुछ वर्षों में हज़ारों नये मकान बन गये हैं। सामने से औरतों का एक झुंड भी आता दिखता है। तेज़ तेज़ क़दमों से चलती हुयी औरतें पास से गुज़र जाती है। दो सलवार सूट में हैं तो बाक़ी साडि़यों में। लगता है यह सब गृहणियां हैं। उनमें से कोई स्कूल टीचर नहीं है। अगर स्कूल टीचर होतीं तों दीप्ति की तरह किचन में होतीं और अपने बच्चों और पति का खाना बना रहीं होतीं। अधेड़ से ले कर नई उमर की औरतें इस झुण्ड में दिख जाती हैं। सबके अंदर गज़ब की स्फूर्ति है। उनके पास से गुज़रने पर भी कोई सुगंध हवा में नहीं है। मैं औरतों की देहगन्ध का बेहद शौकीन हूँ। लेकिन सुबह की हल्की ठण्डी हवा में औरतों के झुण्ड के पास से गुज़र जाने के बाद भी कोई गन्ध नहीं मिलती। इनके पति अभी बिस्तर में पड़े होंगे। जैसे सुबह दीप्ती किचन में होती है और मैं बिस्तर पर पड़े-पड़े चाय की प्याली का इंतज़ार करता हूँ।

गेस्ट हाउस से लगभग 2 किमी0 दूर निकल आया हूँ। यह क़स्बेनुमा शहर धीरे-धीरे जाग रहा है। सड़कों के किनारे कूड़े के ढेर अब हर एक फर्लांग पर नज़र आते है। इस सड़कों पर झाडू लगाने वाला कोई नहीं दिख रहा है। एक दुकान के नीचे कुछ मज़दूरनुमा लोग एक समूह में बैठे हैं। इनकी कुल संख्या चार है। ईंटों के चूल्हे पर लगता है भोजन तैयार किया जा रहा है। यह सारे दृश्य वैसे ही हैं जैसे मैं अपने शहर में देखता हूँ।

‘‘यहाँ कहीं चाय मिलेगी।’’
मैं अपने पास से गुज़रते हुये एक अधेड़ उम्र के शख़्स से सवाल करता हूँ। उनके हाथ में छड़ी है लेकिन उसका इस्तेमाल शायद वह कुत्तों से निपटने के लिए करते हैं। क्यूंकि बिना छड़ी का सहारा लिये वह तेज़ी से क़दम बढ़ाते हुये मेरे पास से गुज़र रहे थे।

‘‘थोड़ी दूर पर सिविल हाॅस्पिटल है। लगभग आधा किलोमीटर। आप इसी रास्ते पर सीधे चले जायें। वहां चाय मिल जायेगी।’’ नपे-तुले शब्दों में उत्तर देकर वह आगे बढ़ जाते हैं। शायद उनको निर्धारित समय में एक निश्चित दूरी तय करनी है। इसीलिए वह अपने लक्ष्य में कोई व्यवधान नहीं चाहते। मैं सोच रहा था शायद वह मुझसे पूछते ‘‘इस शहर में नये आये लगते हो। कहां से आये हो? क्या करते हो? किस सिलसिले में आना हुआ?’’ और फिर मैं त़फ्सील से अपने बारे में बताता। ‘‘मैं कौन हूँ, क्या करता हूँ? इस शहर में क्यूं आया हूँ?’’

सुनो! शहर के सभी बाशिन्दो सुनो। मैं तुम्हारे शहर में पहली बार आया हूँ। मैं तुम सबको अपने आने का उद्देश्य बताना चाहता हूूँ। मैं तुम सबको अपने बारे में बताना चाहता हूँ। मैं अल्लसुबह से ही उस हर शख़्स को बताना चाहता हूँ जो मुझे पहली बार मिल रहा है।

लेकिन अंकल जी टाईप के उन महानुभाव ने मेरी सदिच्छा पर पानी फेर दिया था। मैं अकेले ही तेज़ तेज़ क़दमों से सिविल हाॅस्पिटल की तरफ़ चाय पीने के लिये चल पड़ता हूँ। सुबह की चाय के लिये इतनी मेहनत मैंने अपने जीवन में कम ही बार की थी।  
 
यह मेरे जीवन में दूसरी बार था कि मैं किसी की दूसरी शादी में शरीक हो रहा था। एक बार वर्षों पहले गुडि़या दीदी की शादी में दो बार शामिल होना पड़ा था। पहली शादी टूटने के बाद, बड़ी मुश्किल से पड़ोस की गुडि़या दीदी की दुबारा शादी हो पायी थी। आर्य समाज मंदिर में संपन्न उस शादी में मुझे गुडि़या दीदी के भाई की भूमिका निभानी पड़ी थी। लेकिन तब मैं बहुत छोटा था और लड़की वालों की तरफ से था। इस बार दूल्हे के साथी के रूप में बारात में जा रहा था।

पांच साल में कमल की यह दूसरी शादी थी। पांच साल पहले जब शादी हुई थी तो कमल के पिता जी जीवित थे। कमल एक सरकारी इंश्योरेंस कंपनी में सहायक प्रशासनिक अधिकारी बन चुका था। यूं तो उसका ख़्वाब भी अपने हम उम्र दोस्तों की तरह आई0ए0एस0 बनने का था, लेकिन कई इम्तेहान देते देते अततः उसको सहायक प्रशासनिक अधिकारी का पद ही हासिल हो पाया था। पे स्केल बढि़या था। कंपनी की तरफ से अच्छा मकान भी मुहैया कराया गया था। हमारे अंकल जी शिक्षा विभाग में सेक्शन आॅफिसर थे। घर में खुशी का माहौल था। कमल की नौकरी लगने से सभी खुश थे। कमल की शादी के प्रस्ताव भी आने लगे थे। सब कुछ ठीक था। बस एक समस्या थी कि कमल की लंबाई सामान्य से कुछ कम थी। इस बात का कमल को फ्रस्टेशन भी था। अब कमल के लिए कोई भी रिश्ता आता तो सबसे पहले लड़की की लंबाई की जांच होती। इस चक्कर में कई अच्छे रिश्ते हाथ से निकल गये। अंकल आंटी कमल की शादी उससे लम्बी लड़की से करने के पक्ष में राज़ी न थे। हम लोग कहते ‘‘कर ले यार! अपने से लम्बी लड़की से कर ले। खुद हाईहील के जूते पहन लेना। उसको स्लिपर पहना देना।’’ या फिर मज़ाक करते ‘‘अबे तेरी बीबी लम्बी होगी तो बच्चे भी लंबे पैदा होंगे।’’

कमल हम दोस्तों की बातें सह लेता। कभी रिएक्ट न करता। लेकिन अंकल आंटी उससे लम्बी लड़की से उसकी शादी करने को तैयार न थे। बड़ी खोजबीन के बाद कमल के लिए आखि़र एक रिश्ता पक्का हो गया। लड़की ने बी0ए0 किया था और फिर इंटीरियर डिजाइनिंग का कोई कोर्स। बारात कानपुर से आगरा गयी थी। पूरी दो बस भर कर बाराती गये थे। एक मारवाड़ी धर्मशाला में बारात के ठहरने का इंतज़ाम किया गया था। शायद अप्रैल का महीना था। गर्मी अभी पूरी तरह से शुरू नहीं हुयी थी। तीन भाई बहनों में कमल सबसे बड़ा था। फिर बहन थी पिंकी। उससे चार साल छोटी। फिर टुन्नु था। टुन्नू यानी तन्मय। इंजीनियरिंग के थर्ड ईयर का छात्र। बारात के एक किलोमीटर के रास्ते में जमकर डांस हुआ था। कमल के दोस्तों में हम लोगों ने तो डांस किया ही। कमल के पिता जी के सहकर्मियों, चाचाओं और मौसाओं ने भी ख़ूब धमाल मचाया था। मर्द तो मर्द, औरतों ने भी खू़ब ठुमके लगाये थे।

लेकिन पिछले पांच सालों में कमल की जिंदगी में तूफ़ानी परिवर्तन हो गये थे। शादी के कुछ दिनों बाद, अचानक एक दिन अंकल जी हार्ट अटैक के चलते इस दुनिया से विदा हो गये थे। कमल के लिये यह भारी धक्का था। उन दिनों वह राजस्थान के अलवर शहर में पोस्टेड था। पिता जी की अचानक मृत्यु से वह टूटा था, उधर प्रियंका से भी उसकी नहीं बन रही थी। प्रियंका इंटीरियर डिजायनिंग का अपना काम कमर्शियल स्केल पर करना चाहती थी लेकिन कमल इसके लिये राज़ी न था। अंकल की डेथ के बाद कमल ने शराब की शरण ले ली थी। रोज़ घर में झांय झांय होती। नौबत मारपीट तक आ जाती। आखि़र एक दिन प्रियंका कमल को बिना बताए आगरा चली आयी थी। कमल ने बहुत कोशिश की मनाने की पर वह टस से मस न हुई।

अंततः शादी के दो साल के भीतर ही कमल का तलाक हो गया था। पिछले साल कमल ट्रांसफर लेकर हिमालय की पहाडि़यों की तलहटी में बसे क़स्बेनुमा इस शहर में आ गया था। अपने परिचितों और नाते रिश्तेदारों से दूर इस शहर में उसे और उसके अतीत को जानने वाला कोई नहीं था।

कमल की बारात में गिने चुने लोग ही थे। बारात को लगभग दो सौ किलोमीटर दूर एक पहाड़ी क़स्बे में जाना था। लगभग डेढ़ सौ किलोमीटर का रास्ता प्लेन था और पचास किलोमीटर पहाड़ी रास्ता। अब की बार बसें नहीं थी। दो इनोवा, एक स्काॅर्पियों में कुल पन्द्रह बाराती आ गये थे। दूल्हे के लिये एक अंबेसडर भी कर ली गयी थी। तैयारी करते न करते दस बज गये थे, जब हमारी गाडि़याँ हाईवे पर थीं।’’ कमल की शादी में मैं दुबारा जा रहा हूँ’’ बस यही एक ख़याल मेरा पीछा नहीं छोड़ रहा था। कितनी शादियों में मैं शामिल हुआ हूँ। लेकिन फिर भी इस संस्था से मेरा विश्वास क्यूं उठता जा रहा है?

मैं रश्मि के बारे में सोचने लगता हूँ। क्या उसकी शादी सफल है?  पिछले साल जब उसका पति पोस्टिंग में कश्मीर में था तो रश्मि ने क्या गुल नहीं खिलाए थे। एक दूर का रिश्तेदार, भाई बन कर उसके घर में हमेशा पड़ा रहता था। दीपक जब भी छुट्टी में घर आता तो वह भैया ग़ायब हो जाता। लेकिन रश्मि की बेटी पुई ने एक दिन अपनी तोतली ज़बान में कह दिया था, ‘पप्पा, दब आप यहां नहीं रहते हो तो पप्पू मामा आते हैं। दब आप आते हो तो वह नहीं आते।’’ पुई के इस रहस्योद्घाटन से तो दीपक के घर में जैसे भूचाल आ गया था। रश्मि और दीपक की ऊँची-ऊँची आवाज़ों को आस-पड़ोस के लोगों ने कई दिनों तक सुना। रश्मि ने साफ कह दिया था कि वह दीपक के माँ-बाप के साथ नहीं रहेगीं और कि पप्पू को वह अपना सगा भाई जैसा मानती है। उन दोनों के बीच में भाई-बहन का रिश्ता है। थोड़े दिन बाद दीपक कश्मीर से वापस लौट आया था। लेकिन रश्मि अब अपने उस भैया के साथ बेधड़क घूमती थी। दीपक हम लोगों से कटा-कटा रहता था। रश्मि के हाव-भाव और पहनावे में भी ज़बर्दस्त परिवर्तन आ चुका था। केवल साड़ी और सलवार कमीज़ पहनने वाली रश्मि अब मिडी और जींस टाॅप में नज़र आती। यूं रश्मि को मैं भी मन ही मन पसंद करता था। लेकिन दीपक से दोस्ती की बदौलत, उससे दोस्ती का ही रिश्ता था। रश्मि के भैया से मुझे जलन होती। कभी शाॅपिंग माॅल या मार्केट में दोनों टकरा जाते तो मैं जल्दी से बच कर निकलने की कोशिश करता। वैसे दीपक में कोई कमी नहीं थी। वह बहुत सौम्य और शिष्ट था। लेकिन उसका रंग थोड़ा ज्यादा ही सांवला था। दूसरे माँ-बाप निपट देहाती थे। वह बहू से पर्दा करने की उम्मीद भी करते थे। कभी-कभी गांव से दीपक के यहां आ जाते तो रश्मि बहुत असहज महसूस करती। रश्मि के पिता सरकारी डाॅक्टर थे और उसकी छोटी बहन लंदन में रहती थी। रश्मि को शादी के कुछ सालों बाद लगने लगा था कि उसके माँ-बाप ने जल्दबाज़ी में शादी कर दी। उसे जैसा पति चाहिए, वह दीपक नहीं है। पता नहीं उसे पप्पू में क्या दिखा था कि वह उसकी दीवानी हो गयी थी। लेकिन एक दिन रश्मि से अचानक मुलाकात ने मेरे सामने दूसरा ही पहलू उपस्थित कर दिया। मैं आॅफिस से लौट रहा था। शहर के सबसे बड़े चैराहे की ट्रैफिक बत्ती हरी होते ही मैंने अपनी मोटर साइकिल चौराहे के पार की तो सड़क के बांयी तरह सवारी का इंतजार करती रश्मि दिख गयी। रश्मि ..... आज अकेले। उसने मुझे देख लिया था। हमेशा रूमानियत से भरपूर रश्मि का चेहरा आज बेहद बुझा-बुझा दिख रहा था।

‘‘अरे रश्मि आप?’’ मैंने जानबूझ कर मोटर साइकिल  उसके क़रीब लगा दी थी। ओह, अच्छा हुआ आप दिख गये। बहुत देर से सवारी का इंतजार कर रही थी लेकिन कोई सवारी नहीं मिल पा रही थी। सब आॅटो भरे हुए आ रहे हैं। ’’ रश्मि ने बड़ी बेतकल्लुफ़ी से अपनी बात रखी थी।

‘‘चलिये, आपको घर तक छोड़ देते हैं।’’ मैं अपनी महिला सहकर्मियों को लिफ्ट देने के लिए आॅफिस में ख़ासा चर्चित था।

रश्मि आराम से मेरी मोटर साइकिल की पिछली सीट पर बैठ गयी थी। भीड़-भाड़ वाला रास्ता पार करने के बाद हम लोग थोड़े कम भीड़-भाड़ वाले रास्ते पर थे कि रश्मि ने पीछे से कहा ‘‘सुनिए। आप कहां मुझे घर तक छोड़ने जायेंगे। बस अगले चौराहे पर उतार दीजिए। मुझे वहां से कोई सवारी मिल जायेगी।’’

रश्मि आज बिना भैया के अकेले टहल रही है, यह बात मुझे पच नहीं रही थी। उसका हल्का सांवला रंग, बड़ी-बड़ी आँखें और पतले होंठ मुझे हमेशा से आकर्षित करते रहे थे। इतनी जल्दी मैं उसे छोड़ना नहीं चाहता था। मोटर साईकिल को थोड़ा किनारे रोक कर मैने प्रस्ताव रखा कि अगर हम लोग किसी रेस्तरां में बैठ कर एक कप चाय पी लेते।

‘‘आपको घर पहुॅचने में देर होगी?’’ रश्मि के इस प्रश्नवाचक वाक्य में मुझे सहमति का स्वर सुनाई पड़ रहा था। ‘‘अरे, अब आपसे रोज़-रोज़ थोड़े ही मुलाकात होती है। चाय पीने में कितना वक्त लगता है।’’ मैंने अपने को अत्यंत सहज बनाते हुये जवाब दिया।

थोड़ी देर बाद हम दोनों एक रेस्तरां में टेबल शेयर कर रहे थे। मेरी वर्षों की अभिलाषा पूरी हो रही थी। वर्षों से मैं यह ख़्वाब संजोए था कि कभी रश्मि से अकेले मिलूंगा और हम लोग किसी होटल या रेस्तरां में बैठेंगे। लेकिन पिछले वर्षों में पप्पू भैया की एन्ट्री और दीप्ति की शिकारी निगाहों से यह संभव होता नहीं दिख रहा था। रश्मि को उसके प्रति मेरे झुकाव की जानकारी थी। फेसबुक में उसके मैसेज बाॅक्स में उसके कपड़ों और प्रोफाइल फोटो की तारीफ मैं यदा-कदा कर देता था। ‘‘आपकी फ़ोटो पिछले दिनों अख़बार में देखी थी।’’ चाय के कप को बड़ी शाइस्तगी के साथ अपने होंठो के करीब ले जाते हुए रश्मि ने बातचीत का सिलसिला शुरू  किया था।

‘‘वह विदेशी लड़कियों के साथ।’’ सांस्कृतिक कार्यक्रमों के कुशल संचालक के रूप में, मैं पिछले वर्षों में शहर में स्थापित हो चुका था। मेरी भारी आवाज़ हिन्दी, अंग्रेज़ी और उर्दू में धारा प्रवाह बोलने की क्षमता और संचालन के दौरान चुनिंदा शेरों के पढ़ने और उस पर आॅडिएन्स से तालियाँ पिटवा लेने की क्षमता के चलते कार्यक्रम के सफल होने की गारंटी रहती। इस कारण शहर के लगभग हर महत्वपूर्ण कार्यक्रम के संचालन के लिए आयोजकों की पहली पसंद मैं ही हुआ करता था।

    ‘‘अरे, वह उजबेकिस्तान वाला कार्यक्रम।’’ मैने बड़ी लापरवाही से कहा।

    ‘‘उजबेकिस्तान की लड़कियां बहुत सुन्दर होती हैं।’’ रश्मि बात को दूसरी दिशा में ले जा रही थी। मैं उसके वर्तमान प्रेम संबंध के बारे में जानने को उत्सुक था।

    ‘‘हुंह। वाकई। लेकिन सुंदर तो हिन्दुस्तानी लड़कियां भी होती हैं। फिर सुंदरता सिर्फ देह की ही नहीं होती। मन की सुंदरता का भी अपना एक आकर्षण होता है। इसीलिए कई बार कम सुन्दर लड़कियों से बेहद खूबसूरत लड़के प्रेम करते हैं।’’ अपनी बातों में दार्शनिकता का पुट लाते हुये मैं किसी तरह प्रेम के मूल विषय पर आना चाहता था।



रश्मि ने मेरी बात का कोई उत्तर दिये बिना चाय की दूसरी चुस्की ली। मुझे लग रहा था कि हमारी बातचीत यूं ही खत्म हो जाएगी और मेरी जिज्ञासा का समाधान नहीं हो पाएगा। लगातार संवाद बनाए रखने की गरज से मैंने बात की रूख दीपक की तरफ मोड़ दिया।
    ‘‘और दीपक के क्या हाल-चाल हैं?’’
    ‘‘ठीक हैं पिछले एक हफ्ते से बच्चों के साथ गांव गये हैं। अपने मदर-फादर से मिलने।’’
    ‘‘यानी आप अकेली हैं आजकल घर में।’’
    ‘‘जी’’।

रश्मि का संक्षिप्त उत्तर मुझे अत्यंत बेचैन कर रहा था। मुझे लग रहा था कि पप्पू भैया के बारे में मुझे अब पूछ ही लेना चाहिए। नहीं तो मुझे मेरी जिज्ञासा का उत्तर कभी नहीं मिलेगा। ऊपर से अत्यंत सहज दिखते हुए मैंने पूछ ही लिया, ‘‘आपके तो एक ब्रदर भी थे न! क्या नाम था उनका?’’

रश्मि को समझ में आ रहा था कि यह प्रश्न मैं क्यूं कर रहा हूँ। मैंने एक बाज़ी खेली थी और अब उस बाज़ी के परिणाम की प्रतीक्षा थी मुझे।

‘‘पप्पू से अब मेरे कोई रिलेशंस नहीं हैं। उसने शादी कर ली है। और वह भी मुझे बिना बताए। उसके लिये मैंने घर परिवार से कितना झगड़ा किया। पिछले चार साल से हम लोग लगभग हर दिन साथ-साथ रहते थे। साथ-साथ उठते-बैठते, खाते-पीते थे। लेकिन उसने इन सब की कोई परवाह नहीं की।’’

रश्मि का चेहरा हल्के सांवले रंग से लाल रंग में तब्दील हो रहा था। मुझे मेरे प्रश्न का उत्तर मिल गया था। मैं भीतर ही भीतर खुश भी हो रहा था कि पप्पू अब रश्मि के जीवन से हट चुका था। मूड को बदलने के लिहाज़ से मैं रश्मि को उसके अतीत में ले जाना चाहता था।

    ‘‘तुम फिर से थियेटर में क्यूं नहीं एक्टिव होती हो। थोड़ा चेंज हो जाएगा।’’ मैं आप से तुम पर उतर आया था।
    ‘‘मैं भी ऐसा ही कुछ सोच रही हूं। आप थोड़ी हेल्प करेंगे तो अच्छा रहेगा।’’
    ‘‘बिल्कुल।’’
    पप्पू भैया के स्थान पर मैं अपने को फिट करने की तैयारी में था कि इसी बीच दीप्ति का नंबर मोबाइल पर लगातार जल-बुझ रहा था।
    ‘‘चलिये। बड़ा अच्छा लगा। आपसे आज बहुत दिनों बाद मुलाकात हुई।’’ मैंने जल्दी-जल्दी बातों को समेटा।

    मुझे ध्यान आया कि शाम को हमें एक शादी में जाना था और दीप्ति से मैंने वायदा किया था कि समय पर घर पहुँच जाऊँगा।

लगातार तीन घंटे तक चलने के बाद हमारी इनोवा हाईवे से उतर कर एक सुसज्जित ढाबे में प्रवेश कर रही थी। जैसे देश के विभिन्न हिस्सों में हाईवे के किनारे तमाम आधुनिक ढाबे पिछले वर्षों में अस्तित्व में आ गये थे, वैसे ही यह ढाबा भी था। नाम तो ‘‘हाईवे ढाबा’’ था लेकिन किसी थ्री स्टार होटल से कम नहीं दिख रहा था।

    ‘‘आप क्या लेंगे दद्दा?’’ टुन्नु ने बार में सजी बोतलों की तरफ इशारा करते हुये पूछा। ‘‘ओनली बियर।’’ मैं प्रायः दिन में शराब नहीं पीता हूँ।
    ‘‘चलिए दद्दा आपके साथ हम भी बीयर ले लेंगे।’’

ना-ना करते हुए भी दो बोतल बीयर मैंने अंदर कर ली थी। बारात में कमल के दोस्तों में मैं ही अकेला था। मैं वीके और सतीश की भी आशा कर रहा था लेकिन आखि़री समय में वह नहीं आये। मेरे अलावा बाक़ी सब कमल के रिश्तेदार थे।

लंच के बाद गाडि़याँ फिर हाईवे पर थीं। यह स्टेट हाईवे था। इसलिए बहुत ट्रैफिक नहीं था। इनोवा की पिछली सीट पर मैंने खिड़की के बगल वाली सीट हथिया ली थी। दो बीयर की बोतलों ने अपुन को उन्नत अवस्था में पहुंचा दिया था। नींद के झोके आ रहे थे। दूसरी शादी। मेरे सामने एक तस्वीर उभरने लगती है।

‘‘छोटी दीदी का सब ठीक ठाक चल रहा है?’’ मुझे कतई यह अंदाज़ा नहीं था कि एक पंक्ति का यह प्रश्न जाॅय से मेरे संबंध हमेशा-हमेशा के लिए समाप्त कर देगा।

‘‘नहीं। वह अब भी बिल्कुल खुश नहीं हैं। एक रिटायर्ड कर्नल से उनकी दूसरी शादी हुई थी। शादी के बाद से वह कलकत्ते में रह रही हैं। लेकिन इस दूसरे पति से भी उनकी नहीं बनती।’’ सिगरेट को जल्दी-जल्दी पीते हुये जाॅय ने मुझे यह सूचना दी थी।

    ‘‘तुमसे एक रिक्वेस्ट है कि तुम मेरी पत्नी के सामने छोटी दी का जि़क्र कभी भूल कर भी नहीं करना।’’
    जाॅय के शब्दों ने मुझे  भीतर तक हिला दिया था। तो क्या जाॅय ने अपनी पत्नी को छोटी दी के बारे में कुछ नहीं बताया था?

    जाॅय और मैं दोनों बचपन से यूनिवर्सिटी तक साथ पढ़े थे। लगभग चालीस साल पहले जाॅय अपनी मां और दो बहनों के साथ हमारे मुहल्ले के पास वाले मुहल्ले में आ कर रहने लगा था। यह सत्तर के दशक के प्रारम्भिक वर्ष थे। हम दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे। कभी-कभी साथ खेलने के लिए जाॅय हमारे मुहल्ले में मेरे घर आ जाता। बातों-बातों में हमारी माता जी और अड़ोस-पड़ोस की चाचियां भी जाॅय से उसके पिता जी के बारे में जरूर पूछ लेती।

    ‘‘तुम्हारे पापा कहां रहते हैं?’’

    ‘‘आंटी वह मुरादाबाद में रेल में नौकरी करते हैं।’’ जाॅय बड़े भोलेपन से बताता। मुझे अपनी माँ और अड़ोस-पड़ोस की चाचियों का जाॅय से प्रश्न पूछना थोड़ा अटपटा लगता। मैं जाॅय के घर जाता तो जाॅय की मम्मी और दोनों बहनें बड़ी गर्मजोशी से मेरा स्वागत करतीं। लेकिन जाॅय के पापा मुझे कभी उसके घर नहीं मिलते। अपनी माँ के प्रश्न से मुझे एक अलग कि़स्म के संदेह की बू आती।

‘‘आखिर क्यूं हमेशा जाॅय से उसके पापा के बारे में पूछा जाता है?’’ बड़े होने तक यह प्रश्न मेरे दिमाग के किसी कोने में चिपटा पड़ा था। धीरे-धीरे यह बात समझ में आने लगी कि जाॅय की मम्मी, अपने पति को छोड़ कर हमारे मुहल्ले के क़रीब, अपने एक दूर के रिश्ते के भाई के पड़ोस में एक छोटे से किराये के मकान में रहने के लिए आ गयी थी। वह शहर के एक प्रतिष्ठित, लड़कियों के स्कूल में टीचर थीं। लम्बी, चौड़ी, आकर्षक व्यक्तित्व वाली आंटी के तीन बच्चों में जाॅय सबसे छोटा था। अपनी दोनों बहनों के साथ उसका उम्र का फ़ासला भी काफ़ी था। सबसे बड़ी बहन बेहद सुंदर थीं। अपनी माँ की तरह लम्बी, हृष्ट पुष्ट और लंबे घने बालों वाली बड़ी दी मुझे जाॅय की तरह ही प्यार करती। लेकिन छोटी दी को मैं हमेशा भुनभुनाते हुये पाता। उनकी चिढ़ और स्थायी खीज मेरी समझ से बाहर रहती।

उन दिनों तलाक जैसी चीज़ का प्रचलन समाज में न के बराबर था। आंटी के तलाक की ख़बर शायद हमारे मुहल्ले की महिलाओं को लग गयी थी। इसीलिए जब भी जाॅय हमारे घर आता, माँ से लेकर अड़ोस-पड़ोस की महिलाऐं उससे, उसके पिता की स्थिति जानने को उत्सुक रहते।

जाॅय शायद ऐसी भाग्य रेखाऐं लेकर पैदा हुआ था कि उसे ज़िंदगी के हर क़दम पर परेशानियों का सामना करना था। प्राइमरी स्कूल में साथ-साथ पढ़ने के बाद मिडिल स्कूल में भी हम लोगों ने साथ ही पढ़ाई की थी। नवीं कक्षा में हम पहुंचे ही थे कि एक दिन जाॅय ने बताया कि आंटी की तबियत बहुत खराब है। उससे बाज़ार में मुलाक़ात हुई थी। जाॅय के चेहरे पर हवाईयाँ उड़ती नज़र आ रही थीं। वह अपनी माँ के लिये कुछ दवाईयां खरीदने आया था। दो दिन बाद ही आंटी का देहावसान कैंसर की लम्बी बीमारी के बाद हो गया था।

शायद अपने होश संभालने पर मैंने पहली बार किसी शव को देखा था। आंटी का शव छोटे कमरे के फर्श पर रखा था। दोनों बेटियों ने शव को कस कर पकड़ रखा था। उनकी चीत्कार से पूरा मुहल्ला कांप रहा था। वह अपनी मां का शव किसी को उठाने की इजाज़त नहीं दे रही थीं। आस-पड़ोस की महिलाओं के बहुत समझाने पर भी वह टस से मस नहीं हो रही थीं। बड़ी दी और छोटी दी के भयंकर विलाप ने मुझे मृत्यु की विभीषिका का पहली बार परिचय करवाया था। बड़ी दी की तब तक शादी हो चुकी थी। आंटी की मृत्यु के बाद छोटी दी और जाॅय उस घर में रहते थे।

हम लोग यूनिवर्सिटी में पहुॅच गये थे। जाॅय प्रायः कहा करता था कि मैं एम0 बी0 ए0 करूंगा और फिर एक बड़ी सी कार लेकर अपने मुहल्ले आऊँगा। छोटी दी किसी स्कूल में पढ़ाने लगी थीं। बड़ी दी के पति बैंक मैनेजर थे और शहर की एक पाॅश काॅलोनी में उनका आलीशान मकान भी था।

एक दिन जाॅय की छोटी दी की शादी भी हो गयी। उस शादी में मैने जाॅय की भरपूर सहायता की। छोटी दी के होने वाले पति को देख कर मुझे हल्का सा खटका हुआ। दूल्हा भाई और छोटी दी की जोड़ी कहीं से मैच करती नहीं दिख रही थी। कहाॅ छोटी दी गौरवर्ण, औसत कद की भरे पूरे शरीर वाली। बड़ी दी की तरह उनके भी घने लम्बे बाल थे। साथ ही अंग्रेज़ी साहित्य में एम0 ए0। कहां यह दूल्हा भाई। दुबले-पतले, चेहरे पर कोई आकर्षण नहीं। अंग्रेज़ी साहित्य क्या,किसी भी साहित्य से उनका दूर-दूरी तक का कोई रिश्ता नहीं दिख रहा था। बारात शहर के जिस मुहल्ले से आयी थी, वह मुहल्ला पंडों के मुहल्ले के रूप में विख्यात था। उनके साथ आये बारातियों को देखकर भी आश्चर्य हो रहा था। एक-एक बराती दस-दस पूडि़यां खाने के बाद भी और पूडि़यां मांगने की जि़द कर रहा था। मुझे पूडि़यां बांटते हुये बड़ी कोफ्त हो रही थी। इतने पेटू बाराती, इतनी बड़ी तादाद में मेरे हिस्से कभी  नहीं आये थे। मेरा किशोर मन मुझसे बार-बार एक ही सवाल कर रहा था। ‘‘ क्या छोटी दी की इस घर में निभेगी?’’
  
छोटी दी के चिड़चिड़े स्वभाव से मैं बचपन से वाकिफ़ था। मैंने उनको कभी खुश नहीं पाया था। आंटी की मृत्यु के बाद तो वह और चिड़चिड़ी हो गयी थीं। यह शादी संभवतः उन्हीं मामा जी ने तय करवायी थी जिनके पड़ोस में आ कर आंटी रहने लगी थीं। महीना बीतते न बीतते छोटी दी वापस मुहल्ले के उसी छोटे से क्वार्टर में लौट आयी थीं। उनकी अपने पति से न पटनी थी, न पटी। शादी टूटने के बाद छोटी दी पड़ोस के एक शहर में किसी स्कूल में नौकरी करने लगी थी।

मैंने भी यूनिवर्सिटी की पढ़ाई खत्म होते-होते शहर छोड़ दिया था। दूसरे शहर में एक सरकारी कार्यालय में मुझे नौकरी मिल गई थी। इस बीच जाॅय को बैंक में क्लर्क की नौकरी मिल गई थी। उसकी पोस्टिंग राज्य के एक सुदूरवर्ती शहर में हुई थी। जाॅय और मेरे बीच संवाद की स्थिति लगभग समाप्त हो चुकी थी। ‘‘वह कहां है, क्या कर रहा है, उसके हाल-चाल कैसे कैसे हैं? लगभग दस साल मैं इससे पूरी तरह अनभिज्ञ था।

मेरा तबादला प्रदेश की राजधानी में हो गया था, और कमोबेश उसी समय मेरी शादी भी हो चुकी थी। शादी के बाद अपनी नवविवाहिता को लेकर मैं अपने पुराने शहर में था। अपना मुहल्ला (जहां मैं पैदा हुआ था और पला-बढ़ा था), प्राइमरी स्कूल, इंटर कालेज, यूनिवर्सिटी सभी कुछ अपनी पत्नी को दिखा रहा था। शायद हर नौजवान शादी के बाद ऐसी हरकतों को अंजाम देता हो। अपने बचपन के एक दोस्त के घर डिनर में हम लोग गये थे कि उसने सूचना दी कि कुछ दिन पहले जाॅय से उसकी मुलाकात राजधानी में हुई थी। आजकल उसकी पोस्टिंग भी राजधानी में ही है। ‘‘जाॅय उसी शहर में है, जहाँ मैं हूँ ‘‘इस विचार ने मुझे रोमांचित कर दिया था। राजधानी पहुंचने के बाद जाॅय को ढूंढ निकालने का काम एक मिशन की तरह मैने ले लिया था। लेकिन मैं भूल गया था कि जाॅय कौन से बैंक में काम कर रहा है। मैं राजधानी के हर बैंक के क्षेत्रीय कार्यलय में जाकर जाॅय के बारे में पता करता। ‘‘आपकी किसी ब्रांच में जाॅय चक्रवर्ती नाम के सज्जन क्लर्क के रूप में पोस्टेड हैं?’’ मेरा एक ही सवाल होता। पर्सनल मैनेजर मुझे ऊपर से नीचे तक देखता। ‘‘हमारी तो बहुत सारी ब्रांचेज़ हैं, बहुत मुश्किल है, ऐसे पता करना।’’ एक सा जवाब शुरू में हर जगह मिलता। काफी अनुनय-विनय के बाद जाॅय चक्रवर्ती नाम के क्लर्क की खोजबीन होती। कई बार उपहास का पात्र बनना पड़ता। कई बार एक दफ़्तर से दूसरे दफ़्तर भेज दिया जाता। लेकिन कई महीनों की मेरी मेहनत रंग लायी और एक दिन मैं जाॅय के दफ्तर में था।

‘‘ओह जाॅय। तुमको साले कितने दिनों से ढूंढ़ रहा हूँ। आज हाथ लगे हो।’’ मिलते ही हम दोनों लिपट गये थे। लगभग दस वर्षों बाद हम लोग मिल रहे थे। मैं उत्सुक था जानने के लिए कि पिछले दस वर्षों में जाॅय के साथ क्या-क्या बीता।

‘‘मैंने शादी कर ली है और एक बच्ची भी है।’’ मैं लगातार उस जाॅय को ढूंढ़ रहा था जो बात-बात पर मुझसे बहस करता था बल्कि मेरी समाजवादी विचारधारा की खिल्लियाँ उड़ाता था। वह जाॅय जिसे एम0बी0ए0 करने के बाद किसी कंपनी का वाइस प्रेसिडेंट बनना था और एक लम्बी कार लेकर अपने मुहल्ले में पहुँचना  था। लेकिन वहां दूसरा जाॅय खड़ा था जिसे दफ़्तर के बाहर चाय पीने के लिए अपने बाॅस से इजाज़त लेनी थी। जिसके व्यक्तित्व से वह उत्फुल्लता और खिलंदड़ापन ग़ायब था जिसकी चपेट में मैं कई बार आ जाता था।

अपने दोस्त को कैसी बीवी मिली है, यह जानने की उत्सुकता मुझको जाॅय के घर खींच ले गयी थी। लेकिन जाॅय के शब्द बार-बार मेरे कानों में गूंज रहे थे।

    ‘‘छोटी दी के बारे में मेरी पत्नी के सामने कोई चर्चा न करना।’’

    जितनी देर मैं जाॅय के घर बैठा रहा, सोचता रहा कि क्या जाॅय ने अपनी पत्नी को अपने अतीत के बारे में सच-सच कुछ नहीं बताया होगा। मेरे प्रश्नों को अनुत्तरित ही रहना था, क्यूंकि जाॅय से वह मेरी अंतिम मुलाक़ात थी। जाॅय ने उस मुलाकात के बाद न कभी मेरे घर आने का प्रयत्न किया और न ही मिलने की कोई इच्छा जतायी। पिछले बीस वर्षों से एक ही शहर में रहते हुए दुबारा हम फिर कभी नहीं मिले।

लम्बे मैदानी रास्तों को पार कर, घुमावदार पहाड़ी रास्ते होते हुए हमारी गाड़ी जनवासे पहुंच चुकी थी। दिन भर की थकान मिटाने के लिए लड़की वालों ने अच्छा इंतजाम किया था। शाम को कमल की बारात एक बार फिर से सजी। यद्यपि इस बार न तो उतने बाराती थे, न ही सबमें पहले जैसा उत्साह। फिर भी अपने को भरसक खुश दिखाने में बारातियों ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी। कमल का घर एक बार फिर से बस रहा है, इसी की सबको खुशी थी। एक बेसुरे गले वाले गायक के गाने और उसका साथ देते घटिया कि़स्म के बैंड बाजे वालों की संगत में नाचते-गाते हम सभी बाराती, उस छोटे क़स्बे में लड़की वालों के दरवाजे़ पर पहुंच चुके थे। लड़की के पिता की बहुत वर्ष पहले मृत्यु हो चुकी थी। कमल की भावी सास ही दौड़-दौड़ कर सारी व्यवस्थाओं को अंजाम दे रही थीं। कमल की सास के हाव-भाव से मुझे लग रहा था कि उन्होंने किसी को पता नहीं लगने दिया है कि उनकी बेटी के वर की यह दूसरी शादी है। परंपरागत तरीके से द्वाराचार दूल्हे की सालियों द्वारा जूता चुराने की रस्म और कन्यादान सब कुछ पूरी औपचारिकता के साथ सम्पन्न किया जा रहा था।

एक नास्तिक होने के नाते मैं भगवान से कोई प्रार्थना करने की स्थिति में नहीं था लेकिन फिर भी बार-बार दुआ कर रहा था कि कमल का भविष्य का वैवाहिक जीवन सफलतापूर्वक बीते। मुझे और उसके रिश्तेदारों को भी, उसके तीसरे विवाह में आने का कोई अवसर न प्राप्त हो।   

सम्पर्क-

मोबाईल-  09452739500 

टिप्पणियाँ