जयनंदन की कहानी




संक्षिप्त परिचय

जन्म- 26 फरवरी, 1956 नवादा (बिहार) के मिलकी गांव में।
शिक्षा    - एम. ए. (हिन्दी)

कृतियां- अब तक कुल इक्कीस पुस्तकें प्रकाशित। ‘श्रम एव जयते’, ‘ऐसी नगरिया में केहि विधि रहना’, ‘सल्तनत को सुनो गांववालो’ (उपन्यास), ‘सन्नाटा भंग’, ‘विश्व बाजार का ऊंट’, ‘एक अकेले गान्ही जी’, ‘कस्तूरी पहचानो वत्स’, ‘दाल नहीं गलेगी अब’, ‘घर फूंक तमाशा’, ‘सूखते स्रोत’, ‘गुहार’, ‘गांव की सिसकियां’, ‘भितरघात’, ‘मेरी प्रिय कथायें’, ‘मेरी प्रिय कहानियां’ ‘सेराज बैंड बाजा’ (सभी कहानी संग्रह), ‘नेपथ्य का मदारी’, ‘हमला’ तथा ‘हुक्मउदूली’ (तीनों नाटक), ‘मंथन के चैराहे’ (वैचारिक लेखों का संग्रह) तथा ‘राष्ट्रनिर्माण के तीन टाटा सपूत’ (टाटाओं की जीवनी)।

देश की प्रायः सभी श्रेष्ठ और चर्चित पत्र-पत्रिकाओं में लगभग सवा सौ कहानियां प्रकाशित।

कुछ कहानियों का फ्रेंच, स्पैनिश, अंग्रेजी, जर्मन, तेलुगु, मलयालम गुजराती, उर्दू, नेपाली, मराठी, मगही आदि भाषाओं में अनुवाद।

कुछ कहानियों के टीवी रूपांतरण टेलीविजन के विभिन्न चैनलों पर प्रसारित। नाटकों का आकाशवाणी से प्रसारण और विभिन्न संस्थाओं     द्वारा विभिन्न शहरों में मंचन।
      
अब तक मेरी कहानियों पर राँची वि.वि., राजर्षि टंडन मु.वि.वि. तथा मगध वि.वि. से तीन शोधार्थियों द्वारा पी-एच.डी की डिग्री।

पुरस्कार- राधाकृष्ण पुरस्कार, विजय वर्मा कथा सम्मान, बिहार सरकार राजभाषा सम्मान, भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा सर्वश्रेष्ठ चयन के आधार पर युवा लेखक प्रकाशन सम्मान, बनारसी प्रसाद भोेजपुरी सम्मान, झारखंड साहित्य सेवी सम्मान, स्वदेश स्मृति सम्मान आदि।
संप्रति    - टाटा स्टील की गृह पत्रिकाओं का संपादन।



पूंजीवादी व्यवस्था कितनी निर्मम व्यवस्था है। स्वाभाविक रूप से इस व्यवस्था के अंतर्गत राजनीति भी क्रूर स्वभाव वाली होती है, जो लोकतंत्र का बाना ओढ़कर अपने को जनता का हितकारी बनाना चाहती है। यह व्यवस्था किस तरह मजदूरों के साथ पेश आती है और उन्हें बस अपना बंधुआ मजदूर बना देना चाहती है, इसका सटीक विश्लेषण जयनंदन ने अपनी इस कहानी 'गोड़पोछना' में  किया है। तो आईये पढ़ते हैं यह कहानी।

गोड़पोछना

                 रपचा बेसरा दिल्लगी में कहा करता था कि मजाल नहीं कि दोहारी के उठने के पहले सूरज उग जाये। एक दिन देर तक दोहारी सोयी रह गयी। संयोग से आसमान में बदली छायी हुई थी। रपचा ने उसे झिंझोड़ते हुए कहा, ‘‘अब उठ भी जाओ। देखो, सूरज तुम्हारे उठने का इंतजार कर रहा है। तुम उठोगी नहीं तो वह उगेगा नहीं। धूप के बिना कंपकंपी लग रही है। मुझे काम पर भी जाना है, खाने का डब्बा चाहिए। लगता है तुम्हें आज नहीं जाना।’’

ऐसी ही थी दोहारी। तड़के उठती थी, बासी घर को तरोताजा करती थी। खाना-पीना दे कर और लेकर काम पर चल देती थी। वह चलती थी तो उसके साथ एक ग्रुप चलता था, गीत चलते थे, रोशनी चलती थी, उम्मीद चलती थी, खुशी चलती थी, अल्हड़ता और बेफिक्री चलती थी। वह मेठ थी अपने ग्रुप की। ग्रुप में रेजा, कुली और मिस्त्री की संख्या काम के हिसाब से घटती-बढ़ती रहती थी। काम था ढलाई करना। कभी तीन हजार वर्गफुट, कभी पांच हजार, तो कभी दस हजार भी। कभी जमीन पर, कभी एक तल्ले पर, कभी पांचवें तल्ले पर, कभी सातवें तल्ले पर। सातवें या आठवें तल्ले पर जब ढलाई होती तो एक-एक रेजा अपने सिर पर सीमेंट, बालू और गिट्टी का गारा लेकर लगभग पचास-साठ बार चढ़ना-उतरना कर लेती।

दोहारी की एक मुंहलगी और करीबी रेजा माहो मुर्मू ने एक बार कहा था, ‘‘कुछ शहरी औरतें हिमालय चढ़ जाती हैं तो उसका कितना नाम होता है, उसकी कितनी वाहवाही होती है, लेकिन हम तो रोज हिमालय चढ़ते हैं और कई-कई बार चढ़ते हैं, अकेले, बिना किसी सहारे के। हमारे चढ़ने-उतरने से दीवार बन जाती है, छत बन जाती है, लेकिन हिमालय पर चढ़ने उतरने से कुछ नहीं बनता। सुनते हैं लाखो-लाख रुपये खर्च भी हो जाते हैं।’’

दोहारी ने उसका समर्थन करते हुए कहा था, ‘‘आदमी आदमी में बहुत फर्क होता है माहो। हम गरीब और अनपढ़ औरते हैं। हमारे होने और करने की कोई अहमियत नहीं है। हमारे दिन भर पसीना बहाने और हाड़ तुड़वाने की कीमत सौ रुपये से भी कम है, लेकिन ऐसे भी लोग हैं जो ठंढा घर में कुर्सी पर बैठकर हुक्म चलाते हैं और जिसकी कीमत हमसे पचास-साठ गुणा ज्यादा होती है। मतलब हम पचास-साठ दिन में जितना मुश्किल से अनिश्चय की स्थिति में कमा पाते हैं, उतना कोई आराम से एक दिन में कमा लेता है।’’

माहो ने कहा था, ‘‘हिमालय चढ़ने वाले को मदद करके चढ़ाने वाले शेरपा लोग सुनते हैं सामान लेकर कई बार ऊपर-नीचे होते रहते हैं लेकिन उनका कोई नाम नहीं होता, उनके बारे में कोई चर्चा नहीं होती।’’

‘‘अरे माहो, बड़ी-बड़ी जो बिल्डिंग बनती है वो किनके दम पर बनती है, हमारे दम पर। लेकिन वह बिल्डिंग जानी जाती है उसके मालिक के नाम से जो उसे बनाने में पैसा लगाता है। हम गरीब आदमी एक सामान की तरह होते हैं, जैसे कड़ाही, बेलचा, कुदाल। काम किया, घिस गये तो कबाड़ बन गये।’’

विधातानगर के पार्श्व में जो एक ऊंचा पहाड़ है, उसी की तलहटी में बसे एक गाँव चुंडू से आता था पूरा ग्रुप। वे अपने औजार, बेलचा, झूड़ी, कड़ाही, कुदाल, गैंता, कड़नी, पाटा, साहुल, सूता आदि से लैस होते थे। उनके साथ हंसी, ठिठोली और किस्सा, कहानी भी साथ चलती थी। वे हमेशा चहकते हुए दिखते थे, काम पर जाते हुए भी और काम से वापस आते हुए भी।

लौटती में वे चरबोदा सेठ की दुकान से सौदा-सुलुफ करते हुए जाते। चूंकि इस दुकान में उन्हीं के रंग, रूप और समाज का अलसा टुडू नौकर था, जो उनकी जरूरत की चीजें निकाल कर-तौल कर दिया करता था। वे उससे संथाली या हो भाषा में बात कर लेते थे। उसके होने से उनके मन में तसल्ली रहती थी कि वे यहां ठगायेंगे नहीं। अलसा की वजह से उन्हें वहां पांच-दस दिन की उधारी की सहूलियत भी बहाल हो गयी थी। वह काम दिलाने का भी एक माध्यम बन गया था। जिन्हें ढलाई करनी होती, वे अलसा को इत्तिला कर देते। फिर दोहारी उससे संपर्क कर लेती। बड़े-बड़े बिल्डरों-ठेकेदारों-मकान मालिकों के आने-जाने की वजह से सेठ का भी परिचय का दायरा विस्तृत हो गया था। ढलाई में जो सफाई, फुर्ती और गुणवत्ता की जरूरत होती है, उनमें दोहारी ग्रुप शहर में अच्छा नाम रखने लगा था। कुछ लोग तो इसके इतने कायल थे कि इनकी उपलब्धता के आधार पर ही ढलाई की तारीख तय करना उचित समझते थे। इन सभी पहलुओं के मद्देनजर दोहारी और उसके आदमियों का दुकान में आना सेठ को अच्छा लगता था, दुकानदारी के लिहाज से भी और उनकी जीवंत गपशप के लिहाज से भी।

सेठ देखता था कि वे हाड़तोड़ परिश्रम के बावजूद अभाव और मुश्किल में रहकर भी हंसी-ठट्ठा कर ले रहे हैं। जबकि वह रुपये-पैसे से लदा-फदा आराम के आसन पर बैठा रहता, फिर भी उसे हंसे हुए कई-कई हफ्ते गुजर जाते। वह रोज जोड़-घटाव कर इसी निष्कर्ष पर पहुंचता कि सुख का संबंध धन-दौलत से नहीं है। संतोष और बेफिक्री में रहने का अभ्यास हो तो फटेहाली में रह कर भी सुख की सवारी की जा सकती है।

बोदा सेठ दोहारी की अक्ल और प्रबंधन कौशल पर मुग्ध रहता....बिना पढ़ाई-लिखाई के कैसे यह औरत सौ-सवा सौ लोगों को एक सूत्र में पिरोक र खुश रखती है....कैसे बड़े-बड़े ठेकेदारो और बिल्डरों से डील कर लेती है। अलसा ने बताया था कि ग्रुप के सारे लोगों की दाल-रोटी और दवा-दारू ठीक से चले, इसका वह पूरा खयाल रखती है।

दोहारी का एक ब्रांड बनते हुए देखना बोदा सेठ को एक आंतरिक खुशी दे रहा था। यह जानते हुए भी कि स्थानीय लोगों का बाहरी लोगों की सुख-समृद्धि से गहरा खुन्नस और चिढ़ है। सेठ इसे स्वाभाविक मानता था और उसे ऐसे लोगों से कोई शिकायत नहीं थी। दोहारी के साथ दुकान में उसका मर्द रपचा बेसरा भी कभी-कभार आ जाया करता था। जल्दी छूट जाने पर काम से लौटते हुए वह साथ हो लिया करता था। एक दिन अलसा से संथाली में बात करते हुए वह कहने लगा था, ‘‘देखो, हमलोगों का खून चूंस-चूंस के साला सेठ अपना तोंद कितना बढ़ाता जा रहा है। चार साल पहले यह दुकान एक टुटपुंजिया जैसी मामूली दिखती थी, आज यह सेठ करोड़ से कम का मालिक नहीं होगा। हमलोग दिन भर पसीना चुआते हैं और खून जलाते हैं, तब भी पेट है कि साला भरता ही नहीं। हालत वैसी ही पतली की पतली।’’

अलसा जानता था कि सेठ जी संथाली भाषा समझने लगा है और थोड़ा-थोडा़ बोल भी लेता है। अतः उसने उसकी हामी नहीं भरी। उसका ध्यान उन लोगों की तरफ सरक गया जो मूलवासियों और आदिवासियों के तारणहार के रूप में जाने जाते थे। उसने संथाली में ही कहा, ‘‘अगर बाहरी लोग हमारे खून चूंसते हैं तो हमारे अपने कहे जाने वाले कौन से पीछे हैं। अलग राज्य बने हुए तो कितने साल हो गये, कितना भला हुआ यहां के गरीब-गुरबों का? जबकि हर बार मुख्यमंत्री और उसके साथ ज्यादातर मंत्री आदिवासी ही रहे। ओहदा और पावर जिसे भी मिला वह करोड़ों-अरबों का वारा-न्यारा कर गया। लेकिन तुम पहले भी विधाता स्टील में ठेकेदार मजदूर थे, आज भी हो। तुम्हारी घर वाली दोहारी और हम जैसे पहले थे, वैसे ही आज भी हैं।’’

रपचा कुछ देर निरुत्तर रह कर कहने लगा, ‘‘बात सोलह आने सच कह रहे हो, अलसा। राज्य के अनेक पूर्व मंत्री सरकारी खजाने में सेंध मारने के मामले में जेल की हवा खा रहे हैं। छह-आठ महीने के लिए मुख्यमंत्री बन कर एक ने तो ऐसी हाथ की सफाई दिखायी कि रुपये रखने और छुपाने तक की जगह उसके पास न रही। ऐसे में उसे अपने आसपास के धूर्त और चालबाज दोस्तों की मदद लेनी पड़ी। जाहिर है इस कोटि में बाहरी लोग ही आ सकते थे ठाकुर, चौधरी, शर्मा, पांडेय, अग्रवाल, श्रीवास्तव, गुप्ता। चूंकि मुंडा, कोड़ा, मरांडी, मुर्मू, बेसरा, लकड़ा जैसों को प्रपंच पुराण का ज्ञान तो कभी मिला नहीं.....कुर्सी छोटी हो या बड़ी, बुड़बक के बुड़बक ही रह गये सबके सब। मालामाल हो गये वे तिकड़मफरोश लोग, पुलिस खोज रही है उन्हें, पता नहीं कब पकड़ में आयेंगे। वे दुबई और सउदी अरब भागकर ऐश कर रहे हैं और बुड़बकलाल मुख्यमंत्री की दुम जेल की हवा खा रहा है।’’

अलसा ने कहा, ‘‘लूट तो सभी रहे हैं, लेकिन अपने लोगों को तो यह भी नहीं आता। कोशिश भी की तो फायदा खुद से ज्यादा दूसरों को पहुंचा दिया। जब जब हराम के माल डकारने की जुगत लगायी, कै-दस्त करके पूरी दुनिया में बदबू फैला दी।’’

बोदा सेठ को इनकी बातचीत का सार बिल्कुल सही लग रहा था। वह अपने बही-खाता देखने के बहाने अनदेखा सा करके कान इधर ही लगाया हुआ था। उसके दिमाग में भी यह कड़वा सच एक तरस उढ़ेल जाता था कि बाहर से आ कर लोग यहां अपना तंबू फैला लेते हैं, अपना रुतवा बढ़ा लेते हैं, लेकिन यहां के लोग सिमटे-सिकुड़े,  दबे-कुचले रह जाते हैं। वह रपचा से मुखातिब होते हुए टूटी-फूटी संथाली में कहने लगा, ‘‘तुम्हारा दर्द और शिकायत लाजिमी है रपचा, मुझे तो कारण बस एक ही नजर आता है कि तुम लोग पढ़ाई को प्राथमिकता देकर उसे अपना अस्त्र नहीं बना रहे। आगे बढ़ने की यही एक अचूक कुंजी है भाई। सब कुछ इसी में निहित है....होशियारी, समझदारी, ईमानदारी, बेईमानी, ठगी, दिशाबोध, कामयाब होने के अच्छे-बुरे हजार रास्ते।’’

‘‘वाह सेठ जी, आपने तो हमारी भाषा को भी अपना लिया। माफ कीजिए, मैं आपके लिए कुछ जली-कटी कह गया। आपसे हमें बहुत मदद मिलती है, मेहरबानी करके आप नाराज मत हो जाइएगा।’’

अरे नहीं रपचा, मुझे एकदम बुरी नहीं लगी तुम्हारी बात। तुमने जो कुछ कहा, उसमें गलत कहां है....।
‘‘थोड़ा सा गलत तो है सेठ जी,’’ दोहारी ने बीच में ही सेठ को रोक दिया, ‘‘आप हमलोगो का खून नहीं चूसते। बल्कि खून बढ़ाते हैं संपर्क केन्द्र के तौर पर हमारी मदद करके। यह तो ऐसे ही कुछ से कुछ बोलता रहता है। ब्लास्ट फर्नेस डिपार्ट में काम करता है न, दिमाग गरम हो जाता है इसका।’’ आंखें तरेर कर वह देखने लगी रपचा को।

सेठ ने उसे बरजते हुए कहा, ‘‘गुस्सा मत करो दोहारी, इसने जो कहा वह तो यहां के बहुसंख्यक लोगों की जुबान है। रपचा, देखो, तुम्हारी बहू कितना व्यावहारिक हो गयी है। दो-चार क्लास पढ़ लेती तो ऊंची उड़ान भरने के लिए पंख मिल जाता इसे। लेकिन देखना, यह जिस तरह अक्ल लगा कर मेहनत कर रही है, तुम भी एक दिन जरूर बड़े आदमी बन जाओगे।’’

‘‘अरे रहने दीजिए सेठ जी, चूहा मोटा होकर बाघ थोड़े ही न बन जायेगा। लाइए, एक बीड़ी पिलाइए।’’

अलसा ने बीड़ी का बंडल निकाला और जिस-जिस को चाहिए था, बांटने लगा। सेठ की तरफ से यह निःशुल्क सेवा थी। कभी कभी वह अपनी तरफ से सबको चाय भी पिला दिया करता था, कभी मूढ़ी और घुघनी या आलूचाप भी खिला दिया करता था।

दोहारी को खोजते हुए एक आदमी आ गया, जो शहर के एक प्रसिद्ध व्यवसायी रतनलाल बजाज के बन रहे आलीशान भवन (मॉल) के ठेकेदार का मैनेजर था। अठतल्ले पर छत की ढलाई करनी थी। पहले के सातों तल्ले की ढलाई भी दोहारी ग्रुप ने ही किया था। बात तय हो गयी। ढलाई में मेहनत ज्यादा होती है और हर हाल में एक ही सुर में काम खत्म करना होता है, भले ही शाम की जगह रात हो जाये। इसलिए दूसरे कामों के बनिस्वत इसमें रेट ज्यादा मिलता है। ढलाई के क्षेत्रफल के हिसाब से वह रेजा-कुली की संख्या घटा-बढ़ा लेती थी। इस बार आठ हजार वर्गफुट की ढलाई थी। इसके लिए लगभग डेढ़ सौ जोड़ी हाथ चाहिए थे। जमीन पर रखी मिक्सचर मशीन में नाप-नाप कर सीमेंट, बालू, गिट्टी और पानी डालना, फिर मिले हुए मसाला को कड़ाही में भर-भर कर बांस और फराटी से बनी अस्थायी सीढि़यों से चढ़ कर ऊपर तक पहुंचाना। वाइब्रेटर के जरिये मसाले को कसना और चिकने पाटा से ठोक-ठोक कर समतल करना। दोहारी कभी वर्ग फुट के हिसाब से तो कभी प्रति मजदूर के हिसाब से मजदूरी तय कर लेती थी।

जब मैनेजर फाइनल करके चला गया तो आदिवासी विकास सभा (आविस) के दो नेता आ गये दोहारी को ढूंढते हुए। वे कहने आये थे कि उनकी पार्टी के सुप्रीमो की आम सभा होने वाली है जिसमें उसे अपने सारे लोगों को लेकर पहुंचना है। ट्रक उसके गांव में भेज दिया जायेगा। सभा की तारीख वही थी जो अभी-अभी तय हुई ढलाई की तारीख थी। दोहारी ने साफ इंकार कर दिया, ‘‘हम नहीं आ सकते। अभी-अभी बजाज के ठेकेदार का मैनेजर हमें बयाना देकर चला गया है। एक दिन का नागा हमारे कई दिनों की रोटी छीन लेता है। हम अपने काम से बेईमानी नहीं कर सकते।’’

काम न रहा होता उस दिन तो शायद वह सबको ले कर भीड़ बढ़ाने चली जाती। ऐसी सभाओं में वह कई बार जा चुकी है। एक-दो बार तो वह मिले हुए काम को छोड़ कर भी जा चुकी है। मतलब गरीबी में आटा गीला करके। हर बार निष्कर्ष निकाल कर उसने देखा तो भेड़-बकरी की तरह भीड़ का हिस्सा होने के अलावा उन लोगों की कोई उपयोगिता नहीं....उनके हित में कुछ हुआ हो, होने वाला हो ऐसा भी नहीं। सिर्फ वे भीड़ दिखा कर अपनी नाक ऊंची करते हैं और उनसे जय जयकार करवाते हैं।

दोहारी के इंकार पर नेता की भवें तन गयी, ‘‘तुम ऐसा कह कर अपने बड़े नेता का अपमान कर रही हो। उन्हें पता चलेगा तो वे बहुत बुरा मान जायेंगे। उनका बुरा मानना तुम्हारे और पूरे कुनबे के लिए महंगा पड़ सकता है। वे तुम लोगों के कल्याण के लिए ही रात-दिन लड़ते, मरते और जूझते रहते हैं, बदले में तुम लोगों को एक दिन का समय निकालना भी दुश्वार लग रहा है। यह तो भलाई के बदले में भाला भोंकने जैसा काम हुआ।’’

‘‘उनके लड़ने, मरने और जूझने से हमें क्या मिला अब तक, जो भी मिला, उन्हें ही मिला? बड़ा ओहदा....बड़ा रुतबा...बड़ा नाम। आप जिसे एक दिन कह रहे हैं, वैसा एक दिन तो हम सालों से देते आ रहे हैं....अलग राज्य बनने के काफी पहले से लेकर अब तक दर्जनों बार दे चुके हैं। आपको नहीं मालूम कि जिसे आप एक दिन कहते हैं, उसके एवज में हमें कितना खोना-गवाना पड़ता है, हमारे अभाव की कांटेदार चादर में और कितने कांटे टंक जाते हैं।’’

संथाली में ही दोनों ने मुंह चोथउअल किया।
‘‘ठीक है हम चलते हैं। जो कहना था, कह चुके.....आगे तुम्हारी मर्जी।’’ आविस का गुर्गा भभकी दिखाकर चला गया।

दोहारी के इंकार और दो टूक जवाब से उसके सारे साथी खुश हो गये। सबकी आंखें एक स्वर में बोल रही थीं कि जो कहा, बिल्कुल ठीक कहा। बोदा सेठ भी उसे गर्व से देख रहा था। एक अलसा था जो थोड़ा असहमत था। उसने कहा, ’’इन लोगों से पंगा लेना ठीक नहीं है। ये बहुत ही खतरनाक लोग हैं। निशाने पर ले लेते हैं तो घाव देने से जरा-सा भी नहीं हिचकते। नहीं जाना था तब भी ना नहीं करना था। बाद में पूछने पर कुछ कारण गढ़ लिया जाता।’’

‘‘अरे अलसा भाई, देखा जायेगा जो होगा। किस किस से कितना डरते रहें हम। पराये तो पराये अपने लोग भी डंसने लगें तो भाग कर कहां जायें? जिस तरह ये लोग हमें अपना गोड़पोछना बनाये हुए थे, एक न एक दिन तो इनके पांव में चुभना ही था।’’

रतनलाल बजाज की छत ढलाई के दिन सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था। सवा सौ रेजा और पच्चीस कुली काम में भिड़े हुए थे। दोहारी बीच-बीच में कभी चाय, कभी बीड़ी-खैनी, कभी माल-मेटेरियल का इंतजाम देख कर खुद भी मसाले की कड़ाही अपने सिर पर उठा लेती थी। दोपहर में सबने दम भरके मूढ़ी और आलूचाप खाया। शाम होते-होते तीन चौथाई काम पूरा हो गया और बचे हुए एक चौथाई के लिए दो-ढाई घंटा और लगना था। तार खींच कर बत्तियां जला दी गयी थीं। ढलाई के मुहाने पर एक साथ दो ढाई दर्जन मसाले की कड़ाही उढ़ेली जा रही थी, जिसे एक दर्जन राजमिस्त्री समतल करने में भिड़ा था। दोहारी ने काम खत्म होने के बाद सबको हडि़या और मच्छी खिलाने का न्योता दे रखा था।

सब भाग-भाग कर काम में खुद को झोंके हुए थे, तभी अचानक एक-डेढ़ हजार वर्ग फुट की शटरिंग भरभरा कर सातवें तल्ले की छत पर गिर गयी। उसके साथ ही वहां खड़े दस रेजा और तीन मिस्त्री चपेट में आ गये। वे एक दूसरे पर आड़े-तिरछे बुरी तरह पटका गये और उनके ऊपर ढेर सारा सीमेंट, बालू और गिट्टी मिश्रित मसाला गिर कर लद गया। साथ के अन्य सुरक्षित मजदूर बचाव में जुट गये। मसाला हटा कर उन्हें निकाला और बजाज की गाड़ी से अस्पताल पहुंचाया गया। मगर दो रेजा दब कर मौके पर ही दम तोड़ गयीं। बाकी बचे ग्यारह इस कदर घायल हुए कि किसी का पैर टूट गया, किसी का हाथ तो किसी के सिर पर चोटें आयीं।

कैसे हो गयी अचानक यह दुर्घटना, जबकि शटरिंग को मजबूत सपोर्ट लोहे के पाइपों द्वारा दिया गया था और उसके पुख्तेपन तथा अविचलन की देखरेख करने के लिए नीचे कारीगर आदमी बहाल था? कहते हैं कि शाम हो जाने के बाद हर जगह रोशनी पर्याप्त नहीं थी। कौन कहां क्या कर रहा था, पता नहीं चला। ढलाई निरंतरता (कंटिन्यूटी) में खत्म करने की जल्दबाजी थी। कयास लगाया जाने लगा कि संभव है कि कोई शरारती तत्त्व सपोर्ट सिस्टम से छेड़छाड़ कर गया हो। कहीं भीड़ जुटाऊ नेता ने तो करामात नहीं कर दिया?

अलसा ने सुना तो सिर पीट लिया। जिसका उसे डर था, आखिर वही हो गया। अब इंसाफ पाने के लिए अथवा मुआवजा दिलाने के लिए जाओ फिर उन्हीं नेताओं की शरण में। जो कसूरवार है उसी से मुंसिफ होने की उम्मीद। बजाज इतना शरीफ तो होने से रहा कि खुद ही उदारता दिखा दे।

दोहारी ने अपनी कोशिशें शुरू कर दीं। वह चाहती थी कि नेताओं के यहां गये बिना दो मृत रेजाओं के परिवार को उचित मुआवजा मिल जाये और जो जख्मी हुए हैं उनके इलाज का खर्च और काम पर लौटने तक नागा वाले दिनों की मजदूरी की भरपाई हो जाये। मगर रतनलाल बजाज और उसका ठेकेदार टस से मस नहीं हुआ। अपने काम के नुकसान का रोना रोता रहा, उसे रेजा जैसे मामूली प्राणी की जान चले जाने का कोई अफसोस नहीं था। बाद में पता चला कि सस्ते में छूटने की दृष्टि से कुटिल व्यावसायिक बुद्धि का इस्तेमाल कर रतनलाल ने आविस सुप्रीमो की खिदमत में ही चढ़ावा चढ़ा आया और भयमुक्त हो गया।

रपचा ने कहा, ‘‘देखो, हमारे आंसू और कराह के सौदा कर लेने वाले ये ही हैं हमारे शुभचिंतक और तारणहार। इन्हीं के भरोसे बदलेगी हम आदिवासियों की फटी फूटी तकदीर।’’

अलसा भी बहुत गुस्से में था, ‘‘अगला चुनाव आने दो, हम खुलकर इनका भंडाफोड़ करेंगे। इनके दोमुंहापन को उजागर करना जरूरी है।’’

‘‘अभी तो चुनाव में बहुत देर है, इंसाफ के लिए तो हमें इसी समय कुछ करना होगा। आदिवासी विकास सभा के अलावा भी तो और पार्टी है और उनमें स्थानीय मूल के नेता हैं, क्या हम उन तक अपना दुखड़ा नहीं पहुँचा सकते? सेठ जी, क्या आप कोई उपाय नहीं बता सकते? अभी जिस पार्टी की सरकार है, उसके कार्यक्रमों में तो आपका भी आना-जाना लगा रहता है। आप भी खुद को उस पार्टी का सदस्य कहते हैं।’’ दोहारी ने सेठ जी का ध्यान आकृष्ट किया।

‘‘पार्टी का सदस्य तो वह भी है और आना जाना तो मुझसे ज्यादा उसका ही लगा रहता है, जिसके खिलाफ तुम्हें शिकायत करनी है। शहर में प्रायः सभी को पता है कि रतनलाल मुख्यमंत्री का नम्बर एक चाटुकार और जी-हुजूर  है। लोग उसे उसका फंड मैनेजर भी कहते हैं। सारी काली कमाई का गुमनाम शातिर निवेश वही करता है। तीन-चार साल पहले वह एक मामूली कबाड़ी था और आज उसकी एक इंडस्ट्री है। विधाता स्टील के लिए बहुत सारे उपकरणों का वह सप्लायर है। अभी वह करोड़ों की लागत से मॉल का निर्माण करा रहा है, जिसकी ढलाई करते हुए दुर्घटना हुई। संभव है कि मॉल का साइलेंट (गुपचुप) मालिक मुख्यमंत्री ही हो।’’


दोहारी समझ गयी कि इस भ्रष्टतंत्र में गरीब आदमी का कोई माई-बाप नहीं है। रपचा ठीक ही कहता है कि हम सब गोड़पोछना हैं, बड़े लोगो के पैरों की धूल पोछने वाले। उनके गुजरने के रास्ते में जमीन पर पड़े रहने वाले।

रपचा ने एक निर्णय पर पहुंचते हुए कहा, ‘‘रतनलाल और उसके मॉल से मुख्यमंत्री का चाहे जो भी रिश्ता हो, उसकी परवाह न करते हुए हमें उससे मिलना चाहिए। देखें तो चलकर कि हमारे शुभचिंतक होने का उसका मुखौटा कितना असली और कितना नकली है।’’

इस विचार पर सबकी सहमति बन गयी। अगले किसी एक दिन रपचा, दोहारी, माहो, अलसा तथा मृतकों व घायलों के परिवार जन इकट्ठे राजधानी पहुंच गये। मुख्यमंत्री आवास पर दरबान ने उन्हें बाहर ही रोक दिया। अलसा ने सबके नाम और आने का कारण लिखकर एक पर्ची भिजवायी। जवाब आया कि आज वे नहीं मिल सकते, कुछ विदेशी मेहमान आये हुए हैं, जिनके स्वागत में वे व्यस्त हैं। अब वे क्या करें, अपने शहर से चार घंटे की बस यात्रा करके यहां आये थे। अलसा ने सेठ जी को फोन किया। सेठ ने एक धर्मशाला में उनके ठहराने की व्यवस्था करवा दी। अगले दिन फिर वे मिलने पहुंचे। इस बार कहा गया कि मुख्यमंत्री अपने सूबे के एक प्रसिद्ध तीर्थधाम जा रहे हैं, जहां श्रद्धालुओं के ठहरने की एक नव निर्मित धर्मशाला का उद्घाटन करना है।

तीसरे दिन कहा गया कि सूबे में कारखाने लगा कर पूंजी निवेश करने वाले कुछ बड़े उद्योगपतियों से एमओयू हस्ताक्षर करने का आज दिन भर का कार्यक्रम है। वे किसी से मिल नहीं सकते। अब और भला कितना रुका जा सकता था। एक तो रोजी-मजूरी का हर्जा ऊपर से यहां खर्चा ही खर्चा। रपचा और अलसा ने आपस में मशविरा किया कि लगता है कि उनकी लुटी-पिटी शक्ल-सूरत और हुलिया देखकर साले बीच वाले लोग उन्हें टरकाये जा रहे हैं। जनता का सेवक कहाने वाला मुख्यमंत्री क्या इतना कमीना हो सकता है कि अपने ही घर-समाज के लोगों से जरा सा देखा-देखी करने में सौ बहाने बनाये?

रपचा कार्यालय खुलने के पहले सचिवालय के गेट पर आ गया। सोचा मुख्यमंत्री की कार ज्योंही आयेगी, वह हाथ हिला कर उसका ध्यान आकृष्ट करने की कोशिश करेगा। राजनीति में आने के पहले जब वह छूटभैयागिरी कर रहा था और दो पैसा कमाने के लिए कभी हडि़या कभी देसी दारू बेचने में हाथ आजमा रहा था, रपचा के साथ उसका कई बार मिलना-बैठना हुआ था। दो-तीन बार तो वे मुर्गा लड़ाई में एक ही मुर्गा पर बाजी भी जीत चुके थे। जीतने के बाद साथ-साथ दारू और मुर्गा की पार्टी हुई थी। उसे विश्वास था कि अगर नजर मिल गयी तो जरूर वह उसे पहचान लेगा।

थोड़ी ही देर में कर्कश सीटी बजाती हुई कारों का एक लंबा काफिला गेट में घूसने लगा। गेट से 100 मीटर पहले रोड के दोनों तरफ सिक्युरिटी के जवान खडे हो गये। रपचा से उनकी हुज्जत हो चुकी थी, शायद इसीलिए वे ज्यादा सतर्क हो गये थे कि पता नहीं यह जाहिल और गवार हुलिए का आदमी क्या गुल खिला दे।


रपचा को कुछ पता नहीं चला कि मुख्यमंत्री किस कार में बैठा है। वह भौंचक था कि एक आदमी के लाने में इतनी-इतनी गाडि़यां और आदमी लगे हुए हैं। इतनी भारी सुरक्षा में रहने वाला आदमी क्या आम जनता का प्रतिनिधि हो सकता है? जनता के प्रतिनिधि का क्या यही मतलब है कि वह जनता से अपनी जान को खतरा महसूस करने लगे और अपने को सबसे ऊपर व अलग समझने लगे?

स्साला अपने गांव-घर की छोकरियों पर लार टपकाने वाला, महुआ और हडि़या मार्का चवन्नी आदमी आज शहंशाह बन गया.....रपचा ढेर सारी गंदी गाली बुदबुदाते हुए गेट से ही लौटना चाह रहा था कि देखा रतनलाल की गाड़ी गेट के पास आयी। दरबान ने उसे रोका। खिड़की का शीशा हटा कर उसने बात की। दरबान ने सैल्यूट मारते हुए उसे अंदर जाने का रास्ता दे दिया। रपचा समझ गया कि यह मुख्यमंत्री कैसे लोगों का मुख्यमंत्री है और इसके दरबार में किस नस्ल के प्राणियों के घुसने की इजाजत है।

वह वापस धर्मशाला आ गया, जहां दोहारी, माहो, अलसा आदि उसका इंतजार कर रहे थे। अलसा ने उसके हताश चेहरे को देख कर भरोसा दिलाया, ‘‘कल सुबह हम लोग एक चढ़ाई और करेंगे। सेठ जी को हमने फोन किया है, उनका एक आदमी है यहां जो मुख्यमंत्री तक हमें पहुंचाने का जुगाड़ लगायेगा। यह जुगत भी फेल हो जायेगी तो कल हम लोग वापस लौट जायेंगे।’’

अगली सुबह अखबार में बड़े-बड़े विश्वप्रसिद्ध उद्योगपतियों के साथ स्मार पत्र पर हस्ताक्षर करते हुए मुख्यमंत्री की तस्वीरें छायी हुई थीं। अलसा टटोल कर पढ़ लेता था हिन्दी। उसने पढ़ कर सुनाया - एशिया के प्रसिद्ध उद्योगपति चतरथ गोयल के साथ राज्य में पाँच हजार करोड़ के निवेश करने का करार। मुख्यमंत्री ने इसे अपनी एक बड़ी उपलब्धि मानते हुए गोयल के साथ कई मुद्राओं में तस्वीरें खिंचवा कर ‘समृद्धि में साझेदार’ शीर्षक दे कर अखबारों में एक-एक पृष्ठ का सरकारी विज्ञापन प्रकाशित करवा दिया था।

रपचा एक गहरे पेशोपेश में घिर गया। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि यह उपलब्धि किस तरह है? अपने अनुभव से उसने देखा था कि यहां पहले भी जो उद्योग लगे थे, उससे यहां के स्थानीय आदिवासियों का कोई खास भला नहीं हुआ। वे अपनी भूमि से उखाड़ कर दूर खदेड़ दिये गये। जो जमीन के मालिक थे, वे अब मजदूर बन गये। सौ साल हो गये, लेकिन दस आदिवासी परिवार भी ऐसा नहीं होगा जो इन उद्योगों से अपनी काया-पलट करके तरक्की करने में सफल हो गया हो। नया राज्य बनते ही एक बार फिर थोक मात्रा में नये-नये उद्योगपति यहां बुलाये जाने लगे हैं। वह बुरी तरह डर गया कि फिर हजारों आदिवासी उजाड़े जायेंगे। क्या पता उसे भी दोबारा न उजड़ना पड़े।

एक समय था कि रपचा ने मुख्यमंत्री से बहुत उम्मीद बांध ली थी। उसे लगा था कि सत्ता की चोटी पर उसी की तरह के एक आदमी के पहुंच जाने से बिरादरी का जरूर कुछ कल्याण हो जायेगा। अपने हर भाषण में मुख्यमंत्री आदिवासियों के उत्थान की नयी-नयी योजनाओं की बातें करता था। वह कई सभाओं में उसे बोलते अपने कानों से सुन चुका था और उससे खासा प्रभावित था। उसे लगता था कि उसी की तरह की शक्लो-सूरत, काला, नकफुल्ला, ठोरमोटा, उसी की भाषा, ‘हो’, ‘संथाली’ बोलने वाला, उसी के खान-पान पानी-भात खाने वाला और हडि़या पीने वाला, उसी की तरह मांदर की थाप और पिपिहा की तान पर लोट-पोट हो कर नाचने-गाने वाला, उसी की तरह जंगल-पहाड़ और पशु-पक्षी से रिश्ता गांठने वाला, उसी की तरह टुसो, सरहुल, माघे, बाहा आदि पर्व-त्योहार मनाने वाला मुख्यमंत्री जरूर उसका कुछ भला करेगा।

चौथे दिन बोदा सेठ ने फोन कर दिया अपने एक रिश्तेदार को। वह एक स्टेशनरी सप्लायर था, जिसका सचिवालय में आना-जाना लगा रहता था। उसे हैरत हुई कि सचिवालय में प्रवेश करने में थोड़ी सी औपचारिक पूछताछ तो होती है, लेकिन सख्ती से रोक टोक तो बिल्कुल नहीं होती। वह समझ गया कि रपचा के मामले में कुछ विशेष कारण काम कर रहा है.....शायद उसका हुलिया या शायद उसके बारे में कोई विशेष हिदायत। उसने रपचा के साथ दोहारी को भी साथ कर लिया। औरत के सवाल पर हर जगह थोड़ी नरमी वाली प्राथमिकता तो होती ही है। रपचा को रोक दिये जाने पर दोहारी के लिए वह प्रयास कर लेगा।

संयोग अच्छा था कि ड्यूटी पर तैनात गार्ड, डायरी, कैलेंडर और बोदा सेठ के रिश्तेदार की दुकान से बच्चों के लिए मुफ्त कापी-कलम लेकर उपकृत था, अतः वह दोनों को आराम से साथ लेकर अंदर चला गया। मुख्यमंत्री के कार्यालय में उसे पहुंचा दिया। मुख्यमंत्री कक्ष से लगा भव्य और सुसज्जित हाल में अनेक कर्मचारी और अधिकारी कोई केबिन में, कोई बिना केबिन अपनी-अपनी कुर्सी पर विराजमान बहुकोणीय दायित्वों में व्यस्त थे। मुख्यमंत्री कक्ष में जाने के लिए उत्सुक लोगों को बिना अंदर गये काम हो जाने का झुनझुना थमाने वाला एक अधिकारी पारदर्शी पार्टीशन वाले कक्ष में बातों का जाल फैलाये बैठा था। रपचा और दोहारी अंदर गये तो एक बार फिर अचंभे में पड़ गये। रतनलाल बजाज वहां बेतकल्लुफ बैठकर मजे से चाय की चुस्कियां ले रहा था। वह पहले तो इन्हें एकटक हिकारत से देखता रहा, फिर कसैला सा मुंह बना कर व्यंग्योक्ति उच्चारने लगा, ‘‘तो तुम लोग यहां तक चले आये। जरा सी भी झिझक नहीं हुई। क्या सोच कर आये कि तुम जो कहोगे, मुख्यमंत्री मान लेंगे? मुझे मुआवजा देने के लिए बाध्य कर देंगे? मुझे जेल भिजवा देंगे?’’

दोहारी ने उसे उंगली दिखाते हुए आँखें तरेर ली, ‘‘हमें आपसे कोई बात नहीं करनी है रतनलाल। आपको जो करना था, कर लिया। हमें जो करना है करेंगे।’’

‘‘ठीक है, देखते हैं कि तुमलोग क्या कर लेते हो। कुछ कर लेने का जो तुम्हारा भ्रम है, वह अभी दूर हो जायेगा।’’ रतनलाल सामने बैठे अधिकारी से मुखातिब हुआ, ‘‘तिवारी जी, यही वो औरत है जो खुद को मेठ कहती है और अपने अधीन रख कर दर्जनों रेजा-कुलियों को खटवाती है। उनके बदले ज्यादा मजूरी वसूल करती है और उन्हें काफी कम का भुगतान करती है। अनाड़ी लोगों को कारीगरी वाले काम में लगा देती है, जिसके चलते काम तो बिगड़ता ही है, जान पर भी खतरा आ जाता है। मेरे माल के अठतल्ले की छत ढलाई को इसने बर्बाद कर दिया। मेरा लगभग चार लाख रुपये का नुकसान हो गया। कुछ लोग दब कर मर गये, जिसका सरासर यही औरत जिम्मेदार है। गुनाह करके अब सीएम से पुरस्कार लेने आयी है।’’

‘‘यह आदमी बकवास कर रहा है साहब। अपनी गर्दन बचाने के लिए हवा में कुल्हाड़ी चला रहा है। इससे पूछिए कि इसके पहले एक से लेकर सातवें तल्ले तक की ढलाई किसने की थी। हम गरीबों की लाश पर यह आदमी अपना महल खड़ा करना चाहता है। हमें मुख्यमंत्री से मिलने दीजिए, इसके इरादे हम कभी कामयाब नहीं होने देंगे।’’ रपचा अब सीधे मुठभेड़ की मुद्रा में आ गया।

‘‘तुम्हारी मुलाकात मुख्यमंत्री से नहीं, पुलिस के डंडे से होगी। तिवारी जी, पुलिस को बुलाइए और इसे हवालात भेजिए। ये लोग अंदर कैसे आ गये?’’

तिवारी ने अपने आफिस सहायक को जोर की आवाज लगायी, ‘‘मोतावर.......।’’

वह बाहर स्टूल पर इधर ही कान लगा कर बैठा था। भाग कर आया।

‘‘कंट्रोल रूम जाकर किसी हवलदार को कह दो - तीन चार जवान लेकर जल्दी आये।’’ तिवारी ने ऐसे कहा मानो रपचा और दोहारी कोई बेहद खतरनाक कांड करने जा रहे आतंकवादी हों।

रतनलाल अपने गोरे चेहरे पर एक कुटिल भाव लाकर मुस्करा रहा था, गोया बहुत बड़ा किला फतह कर लिया हो। रपचा हैरान रह गया। उसकी आँखों में गुस्से की ज्वालामुखी धधक उठी। ललकारते हुए उसने कहा, ‘‘जब हवालात ही भेज रहे हो तो गैरवाजिब कारण से क्यों, वाजिब कारण से भेजो। और ये रहा वाजिब कारण।’’ उसने फुर्ती बरतते हुए अपने बायें पैर से घिसी हुई पुरानी बदरंग चप्पल निकाली और तड़ातड़ उसकी मुंडी पर सात-आठ खींच दी। वहां कोहराम मच गया। पार्टीशन के बाहर से कुछ स्टाफकर्मी भाग कर आये और उन दोनो को ठेल कर बाहर करने लगे। अब तक कोहराम सुन कर अपने कक्ष से सीएम भी निकल कर बाहर आ गया। उसके साथ आदिवासी विकास योजना पर इंटरव्यू कर रही एक प्रसिद्ध अंग्रेजी पाक्षिक की दो महिला पत्रकार भी बाहर निकल आयीं।

तिवारी उन्हें बताने लगा, ‘‘ये दोनों सनकी और बदमिजाज हैं। पता नहीं कैसे अंदर आ गये। आपके कक्ष में घुसने की जिद कर रहे थे। रतन जी ने समझाने की कोशिश की तो मारपीट करने लगे।’’

रतनलाल अपना गाल सहला रहा था। सीएम उसके सर पर हाथ फेरते हुए हमदर्दी जताने लगा, ‘‘आप ठीक तो हैं रतन जी?’’

स्टाफ द्वारा बाहर ठेलाते हुए रपचा ने सीएम को पहचान लिया। अपनी भाषा संथाली में कहने लगा, ‘‘तुम्हारा यह पालतू चौकीदार तिवारी जिन्दा गाय खा रहा है। पार्थो, मैं रपचा बेसरा हूं, चिन्ह तो रहे हो न! कभी हम महुआ चुआने से ले कर मुर्गा लड़ाने तक में साथ हुआ करते थे। आज तुम बहुत बड़े हाकिम हो गये हो। हम न्याय की गुहार ले कर तुमसे मिलने आये हैं। रतनलाल ने हमारे साथ ज्यादती की है....अगर इसे तुमने दोस्त बना रखा है तो सावधान हो जाओ....यह आदमी हम आदिवासियों का दुश्मन है और एक दिन तुम्हें भी चूना लगा कर रहेगा।’’ रपचा धक्का खाते हुए भी कहता जा रहा था। अब तक हवलदार तीन जवान को लेकर आ चुका था। वे दोनों को साथ लेकर चले गये। सीएम उन्हें जाते हुए देखता रहा और रतनलाल की पीठ पर हाथ फेरता रहा।

कंट्रोल रूम में ले जाकर हवलदार ने जब उसकी पूरी बात सुनीं तो उसे सब कुछ साफ-साफ समझ में आ गया। वह भी उसी की माटी-पानी का एक स्थानीय मोहताज आदमी था। उसने रपचा और दोहारी को समझाते हुए कहा, ‘‘तुम्हारी हिम्मत की मैं दाद देता हूं। बदले में मैं यही इनाम दे सकता हूं कि तमाम जोखिम उठा कर तुम्हें घर जाने के लिए आजाद कर दूं। जाओ दादा। रतनलाल का ज्यादा कुछ बिगाड़ पाना मुमकिन नहीं है। सीएम और रतनलाल दो मुंह से खाते हैं और एक ही मलद्वार से निकालते हैं। अपने काम से काम रखो और जितना मुमकिन हो इन भेडि़यों से बचकर रहो।’’

रपचा बेसरा विधाता स्टील कारखाने में एक ठेकेदार मजदूर था। कंपनी ने अपना बहुत सारा काम ठेकेदारों को आउटसोर्स कर दिया था। रपचा ने वर्षों तक कुली-खलासी रहते हुए वेल्डिंग का काम सीख लिया और वेल्डर के तौर पर ठेकेदार का एक विश्वसनीय कारीगर बन गया। तनख्वाह उसकी थोड़ी सी ठीक-ठाक स्किल्ड मजदूर वाली हो गयी। एक दिन अचानक उसके सुपरवाइजर ने उसे फरमान सुनाया कि कल से उसे ब्लास्ट फर्नेस विभाग में जा कर काम करना है। उसने हैरत प्रकट करते हुए पूछा, ‘‘मुझे वहां जाकर क्या करना है, वेल्डिंग का काम तो उस विभाग में नहीं होता।’’

उसने कहा, ‘‘मुझे भी नहीं मालूम कि तुम्हारा वहां क्या काम है। बस मुझे जो कहा गया वो मैंने तुम्हें बता दिया।’’
रपचा समझ गया कि उसे जान-बूझ कर तंग करने का इरादा लिये कोई तुगलक ऊपर बैठा हुआ है, जिसकी डोर बहुत संभव है उसके चप्पल कांड से जुड़ी हो। वह दिलेर आदमी था। चलो, कहीं भी काम करना है, ब्लास्ट फर्नेस विभाग ही सही, आखिर वहां भी तो काम आदमी ही करता है।

ब्लास्ट फर्नेस विभाग में वह हाजिरी बजाने लगा। उसे उस जगह लगा दिया गया, जहां ठेकेदार का एक अनुभवी आदमी काम कर रहा था। उसका काम था हीट पूरा हो जाने के बाद हाट मेटल फर्नेस का टैप होल खोलना, जहां से तेज गति से पिघला हुआ मेटल निकल कर बनी हुई नाली से बहता हुआ प्लैटफार्म के नीचे रेल ट्रैक पर रखे लैडल में गिर कर जमा होता है। हरेक हीट के बाद रेत से बनी नाली की मरम्मत और सफाई में भी हाथ बंटाना उसके काम में शामिल था। सारा का सारा बहुत ही जोखिम से भरा काम। हाट मेटल का तापमान 1400 डिग्री सेंटीग्रेड। एक छींटा भी पड़ जाये शरीर पर तो गोली लगने की तरह का पीड़ादायक घाव। यहां काम करने वाले सारे लोग प्रशिक्षित और अनुभवी एक रपचा को छोड़ कर। रपचा सख्त मिट्टी का बना बलिष्ठ, जीवट और निडर आदमी था। उसे जोखिम से चुनौती लेने में मजा आने लगा। यहीं गलती हो गयी। वह मौके पर उपयोग में लाये जाने वाले सुरक्षा उपकरण और बरती जाने वाली सावधानियों का बहुत ध्यान नहीं रख पाया और एक दिन फंस गया।

टैप होल ज्यों ही खुला पूरे दबाव के साथ फब्बारे के रूप में पिघला हुआ गर्म लोहा शायद किसी अवरोध के कारण सीधे न निकल कर आड़े-तिरछे अनार छूटने की तरह छिटकने लगा। पास ही खड़े रपचा की देह पर इस तरह बरसने लगा जैसे पंप से पानी का बौछार किया जा रहा हो। बुरी तरह झुलस गया वह.....अफरा-तफरी सी मच गयी और उसे तुरंत अस्पताल के बर्न वार्ड में पहुंचाया गया। एकाध घंटे उसकी सांसें ऊब-डूब होती रहीं और अंततः उसने दम तोड़ दिया। जैसे एक विशाल पेड़ अचानक धराशायी हो गया। इस विभाग के लिए यह कोई नयी बात नहीं थी। पहले भी इस तरह की दुर्घटनायें होती रही थीं और लोग मरते रहे थे। लेकिन रपचा के मामले में यह अलग इसलिए था कि वह प्रशिक्षित नहीं था, सुरक्षा उपकरणों से लैस नहीं था, इस काम के लिए वह उपयुक्त नहीं था और यह काम अस्थायी प्रकृतिवाले ठेकेदार मजदूर के करने की श्रेणी में भी नहीं आता था।

दोहारी की तो जैसे किस्मत में ही आग लग गयी। वह उसे जी-जान से प्यार करने वाला और हर पल निछावर रहनेवाला बेहद दिलदार-वफादार और असाधारण पति था। वह कुछ कर लेती थी तो इसलिए कि कदम दर कदम पीठ पर वह अवलंब बन कर खड़ा रहता था। जब से रतनलाल का ढलाई प्रकरण हुआ, उसका काम बेपटरी हो गया। टीम भी बिखर गयी और काम में भी काफी कमी आ गयी। फिर भी पीडि़त परिवारों के लिए राशन पानी जुटाने का जिम्मा उसने अपने ऊपर ले लिया था। रपचा अपनी पूरी पगार ला कर उसके पल्लू में बांध दिया करता था। अब कैसे क्या करेगी वह?

अलसा टुडू और चरबोदा सेठ ने उसके धीरज के टूटे बांध को दुरुस्त करने की कोशिश की। अलसा ने कहा, ‘‘पस्त होने से काम नहीं चलेगा दोहारी। तुम्हारे सिर कई लोगों की उम्मीदें लदी हैं। तुम खुद को तैयार करो। विधाता स्टील प्रबंधन से मिलना है। उन्हें मुआवजा देना होगा, साथ ही तुम्हें स्थायी नौकरी भी।’’

‘‘जब हम रतनलाल जैसे एक अकेले बाजारू आदमी से एक कौड़ी वसूल नहीं सके तो विधाता स्टील तो बहुत बड़ी कंपनी है।’’

‘‘बहुत बड़ी कंपनी है इसीलिए वहां कुछ कानून-कायदा है। कंपनी ऐसे मामलों में, जहां नियम की अनदेखी हुई हो, तुरंत अगर समाधान नहीं दे देगी तो आगे उसे और भी फंसना पड़ सकता है। स्थायी और प्रशिक्षित प्रकृति के काम में एक ठेका मजदूर को कतई नहीं लगाना चाहिए था।’’ सेठ ने कहा।

‘‘वह ठेका मजदूर था, इसलिए कंपनी के खाते में तो उसका कोई नामोनिशान न होगा। प्रबंधन से हम कहेंगे तो क्या वह ठेकेदार की तरफ उंगली नहीं कर देगा?’’ दोहारी ने अपने संशय को दोहराया।

‘‘खाते में नाम हो न हो, दुर्घटना से मौत हुई, इसे कोई झुठला नहीं सकता। पहले ही मन में दुविधा को जगह क्यों देती हो। मन में ठान लो कि यह करना है, चाहे जैसे भी। साथ देने के लिए अलसा है, मैं हूं, तुम्हारी टोली के दर्जनों संगी-साथी हैं।’’

दोहारी ने खुद को जगाया और मिशन में लग गयी। विधाता स्टील के अधिकारियों तक आग्रह पहुंचाने का अभियान शुरू। सक्षम.....सक्षमतर.....सक्षमतम तक.....एक बार....दो बार....दर्जनों बार। सिर्फ आश्वासन.... गोल-मटोल फिर टाल-मटोल। अंततः ठेकेदार मजदूर यूनियन के नेता के दरबार में हाजिरी। दोहारी का माथा गरम। फिर नेता के रहमोकरम पर टकटकी। विडम्बना फिर पुरानी कि यह नेता भी ठहरा आदिवासी विकास सभा पार्टी की बिसात का मोहरा। आकंठ कीचड़ में सना और घूस की मलाई से औकात की बेनामी चिकनाई में इजाफा दर इजाफा करता हुआ। किसी पीडि़त, शोषित और जरूरतमंद के हितों की कीमत पर हर पल बिकने के लिए तैयार।

कुछ मुलाकातों के बाद ही लग गया दोहारी को कि उसके आंसुओं का भी सौदा होना सुनिश्चित है। और यही हुआ....प्रबंधन और ठेकेदार ने घूस के टांके लगाकर उस नेता के होंठ सिल दिये। अब चहबच्चे में खुद डुबकी लगाकर उसने दोहारी को प्यास बुझाने के लिए ओस चाटने की हिदायत थमा दी, ‘‘बहुत मुश्किल से ठेकेदार ने पचास हजार मुआवजा देने पर सहमति व्यक्त की है। तुम यह रकम ले लो और अपना काम फिर शुरू कर दो या ठेकेदार के यहां नौकरी कर लो।’’

दोहारी को लगा कि उसे एक खाई पार करना है और उससे कहा जा रहा है कि तुम्हारे लिए पुल उपलब्ध नहीं है। एक पतली सी रस्सी है जिस पर चलकर तुम्हें पार करना है? उसे फिर अपने मरद रपचा की चप्पल याद आ गयी। शुक्र था कि उसके पांव में चप्पल नहीं थी और इन दिनों वह खाली पैर ही कहीं भी आना-जाना कर रही थी।

अब क्या किया जाये?

अलसा ने कहा, ‘‘एक ही उपाय बचता है - मुकदमा। लेकिन इसके लिए बहुत सारा धैर्य और बहुत सारा धन भी चाहिए। कंपनी सुप्रीम कोर्ट तक गये बिना अपने खिलाफ कोई फैसला कभी स्वीकार नहीं करेगी। साधारण आदमी अमूमन थक कर मैदान छोड़ देता है। दोहारी के लिए तो यह बेहद मुश्किल होगा.....एक तो लड़ने का साधन जुटाना और फिर लंबा इंतजार करना।’’

‘‘लड़ाई कितनी भी लंबी चले और फलाफल चाहे जो हो, लड़ाई लड़नी चाहिए। लड़ाई से हममें बचे रहने की इच्छा बची रहती है। साधन की चिंता मत करो, मैं वादा करता हूं कि जहां तक भी जाना होगा, मैं साथ दूंगा।’’

‘‘आपकी बहुत मेहरबानी है सेठ जी। मुकदमा तो आखिरी औजार है, लेकिन उसके पहले कोई रास्ता निकल जाये, इस पर माथा लगाइए। मैं जानती हूं कि आप भिड़ जायेंगे तो सुराग ढूंढ ही लेंगे।’’

सेठ जब रास्ते का सिरा ढूंढने निकला तो उसकी आंखें चुंधिया गयीं। हर रास्ता रतनलाल बजाज के घर की ओर मुड़ रहा था। रपचा का जो ठेकेदार था, वह रतनलाल का संबंधी था। ब्लास्ट फर्नेस विभाग का जो प्रमुख था वह रतनलाल के मूल गांव बिहार में गया जिले के पिनकाहा का निवासी था। कंपनी के एच आर एम विभाग का जो जेनरल मैनेजर था, वह रतनलाल के दोस्त झारखंड के मुख्य सचिव का दामाद था। सीएम से नजदीकी के कारण कंपनी के एमडी के साथ क्लब में रतनलाल का खाना-पीना अक्सर चलता रहता था। बोदा सेठ समझ गया कि रपचा के काम बदलने से ले कर उसके मरने, मुआवजा देने तथा अनुकंपा बहाली न होने देने में कौन सा ग्रह आड़े आ रहा है। रपचा की चप्पल का निशान शायद उसके गालों के रास्ते कहीं गहरे में दर्ज हो गया था।

रतनलाल और बोदा सेठ काफी अर्से से एक-दूसरे को जानते थे। एक ही पार्टी में होने की वजह से कार्यक्रमों में अक्सर देखा-देखी हो जाती थी। व्यापारी समुदाय के सांगठनिक आयोजनों अथवा वैवाहिक समारोहों में भी उनका राम-सलाम हो जाया करता था। ज्यादा नजदीकी होने का कभी कोई प्रयोजन न रहा, इसलिए न हुए। फिर भी वह इतना आश्वस्त जरूर था कि मिलने जाने पर वह उसकी उपेक्षा नहीं कर पायेगा।

सेठ ने एक मध्यस्त की तरह दोहारी का मामला रखना शुरू कर दिया, कुछ इस अंदाज में कि दोहारी का भी भला हो और रतनलाल की चोट पर भी मरहम लगे। रतनलाल ने सेठ को अपना ही तरफदार समझ लिया, इसलिए कि वह उसी की तरह बाहरी आदमी था। यह दीगर बात थी कि वह बाहरी होकर भी एक स्थानीय सीएम का अव्वल पेल्हड़ बन गया था।

रतनलाल को लगा कि सूंढ़ में घूसने की कोशिश करने वाली चींटी अब उसके पैरों तले आनेवाली है। तीन-चार बार की बैठकी के बाद रतनलाल सेठ से खुल गया और नरमी की भंगिमा में आ गया। कहा, ‘‘ठीक है, दोहारी को मेरे पास भेज दो। अगर उसका रवैया मुझे ठीक-ठीक लगा तो हम उसे कंपनी में स्थायी नौकरी दिला देंगे और साथ ही मुआवजा भी।’’

रवैया ठीक होने का तात्पर्य क्या निकाला जाये, सेठ ने टटोलने की कोशिश की तो यही समझ में आया कि चाहता होगा कि पहले जो कुछ हुआ, उस पर अफसोस जताये, कोर्ट कचहरी और मानवाधिकार आदि में न जाया जाये......।
दोहारी ने काफी गुणा-भाग किया। जाये या न जाये!

अलसा ने उसे असमंजस से निकालने में मदद की, ‘‘जाओ, जरूर जाओ। जाने से ही पता चलेगा कि इसका जाल कितना फैला हुआ है और वो कितना जानलेवा है। इससे हिसाब चुकता करना है तो दूर से नहीं, नजदीक जा कर उसी की बंदूक लेकर उसी पर चलाना होगा। चूंकि अपन लोगों के पास न बंदूक है, न गोली है। तुम्हें उससे डरने का अब कोई कारण नहीं है, जितना बिगाड़ना था, वह बिगाड़ चुका।’’


रतनलाल के महल के द्वार से उसके ड्राइंग रूम तक जाने में दोहारी को कई दरवाजे और कई मुलाजिमों से गुजरना पड़ा। चिकने, चमकते और महंगी फर्श पर चलते हुए उसे लग रहा था जैसे कोई अपराध कर रही हो। रतन किसी शहंशाह की तरह एक आलीशान सोफा में धंसा हुआ था। दोहारी को सिर से पैर तक वह काफी देर नापता रहा फिर कहने लगा, ‘‘देर से ही सही, तुम्हें अपनी औकात समझ में आ गयी, यह अच्छी बात है। तुम्हारे हक में बेहतर होता अगर यह समझ तुममें पहले आ जाती।’’

दोहारी को लगा कि उसके जले पर रतनलाल ने तेज मिर्च रख दिया है। उसे फिर रपचा की चप्पल याद आ गयी। बड़ी मुश्किल से उसने संभाला खुद को। अपने गले से वह इतना ही निकाल सकी, ‘‘दुश्मनी अगर अब भी पूरी नहीं हुई हो तो बंदूक निकालिए और मुझे शूट कर दीजिए। ऐसे भी रपचा के मर जाने से आधा तो मैं मर ही गयी हूं।’’

‘‘रपचा ने जो किया था वह भुलाने लायक नहीं है दोहारी। मेरे घर में डकैती कर लेता, मैं माफ कर देता उसे, लेकिन राज्य के सबसे बड़े आदमी सीएम के आफिस में सबके सामने मेरे चेहरे पर उसने अपनी सड़ी हुई चप्पल से एक नहीं तीन-तीन बार प्रहार कर दिए। एक इज्जदार आदमी के लिए यह बेइज्जती मौत से भी बढ़कर है। खैर, कहो क्या चाहती हो?’’

‘‘मेरे चाहने से क्या होता है, आप कहिए, आप क्या चाहते हैं, मुझे जीना चाहिए या नहीं।’’

‘‘मैं चाहता हूं कि तुम्हें कोर्ट-कचहरी और मानवाधिकार संघ वगैरह में जाने की कोई जरूरत नहीं है। तुम्हें कंपनी में स्थायी नौकरी और मुआवजा चाहिए, मिल जायेगा। कैसे, यह मुझ पर छोड़ दो। लेकिन तुम्हें मेरी कुछ शर्तें माननी होंगी।’’

‘‘मैं जानती हूं कि आप बिना कीमत लिये कुछ भी नहीं देंगे।’’

‘‘तुम ठीक जानती हो, मैं एक व्यापारी आदमी हूं। मुफ्त या घाटे का कोई काम नहीं करता। तुम्हारे कारण उस रोज मुझे ढलाई में चार लाख का घाटा उठाना पड़ा, इसे तुम्हें चुकाना होगा, भले ही तुम तीन या चार साल में चुकाओ। तुम्हें इतने पैसे मिलेंगे कि तुम चुका सकती हो आराम से। तुम कंपनी की स्थायी कर्मचारी बन जाओगी तो साल में तुम्हें घर भत्ता, चिकित्सा भत्ता, यात्रा भत्ता, वार्षिक बोनस आदि तमाम सुविधाओं के साथ लगभग ढाई लाख रुपया पगार भी मिलेगा।’’

दोहारी का मन हो रहा था कि आसपास रखा कोई भी एक एंटीक पीस उठाये और उसकी खोपड़ी पर दे मारे। कई जानें गयीं, कई घायल हुए, जिसका भुगतान वह शायद ताउम्र करती रहेगी, फिर भी यह कमीना ढलाई खराब होने का जिम्मेदार उसे बता रहा है। जिनकी जान गयी उनकी कोई क्षति हुई, नहीं मानता और करोड़ों का मालिक होकर भी अपने मामूली नुकसान को चार लाख बता कर मरा जा रहा है।

‘‘तुम्हें अगर यह शर्त मंजूर हो तो आगे कहूं?’’ दोहारी की मानसिक अवस्था से बेपरवाह रतनलाल ने अपना बोलना जारी रखा।

दोहारी ने जब्त किया खुद को और आवाज में एक ठंढापन भर कर कहा, ‘‘हां बताइए, मुझे और क्या-क्या करना होगा।’’

‘‘कंपनी के एक बड़े अधिकारी हैं सुंदर चन्द्र पाहवा। स्थानीय लड़कियां उन्हें बहुत अच्छी लगती हैं। महीने में एक दो बार तुम्हें उनके पास जाना होगा। तुम्हें वे बहुत सारा फायदा दिलाते रहेंगे।’’

फनफनाकर पीछे मुड़ गयी दोहारी, ‘‘नहीं चाहिए मुझे नौकरी। मैं सीमेंट-गारा ढो कर जी लूंगी।’’ वह तेजी से बाहर की तरफ चल पड़ी।

रतनलाल सन्न रह गया। रस्सी जल गयी ऐंठन न गयी। उसने उसे रोका, ‘‘रुको दोहारी, रुको। गुस्से पर काबू करना सीखो। ठोकर लगने से आदमी चेतता है, तुम तो बिल्कुल चेतना नहीं चाहती।’’

दोहारी ठिठक गयी। आंखें लाल हो गयीं उसकी। गुस्से में ही उसने कहा, ‘‘हम उतना भी मजबूर और असहाय नहीं हैं, जितना आप समझ रहे हैं। जब किसी के सारे रास्ते बंद हो जाते हैं तो वह अपनी जान पर खेल जाता है। नरमी बरत कर हमने बहुत देख लिया, अब हम जान पर खेल कर लड़ाई लड़ेंगे। इस खेल में शिकार कौन कौन होगा, वक्त बतायेगा।’’

पल भर के लिए रतनलाल को लगा जैसे दोहारी ने उसके सीने पर तीर-धनुष तान दिया हो। संभलते हुए कहा, ‘‘तुम्हारे रास्ते बंद नहीं, खुले हैं दोहारी। तुम्हें जान पर खेलने की कोई जरूरत नहीं है। जाओ, तुम्हारा काम हो जायेगा। बस इतना ध्यान रखना कि मेरे नुकसान की भरपाई हो जाये।’’

दोहारी की कंपनी में नियुक्ति हो गयी। सबसे निचला पद आफिस हैंड के रूप में। आफिस की सफाई करना.....चाय-पानी पिलाना.....चिट्ठी-पत्री, फाइल-फोल्डर लाना-ले जाना, कुर्सी-टेबुल का झाड़-पोंछ करना.....साहब और आफिसकर्मियों की हर हांक पर हाथ बांध कर खड़ा हो जाना। तनख्वाह ठीक-ठाक हो गयी। इतना कि पीडि़त परिवारों में वह आराम से चावल-दाल पहुंचा सके। इस दायित्व को वह हमेशा अव्वल प्राथमिकता सूची में रखा करती थी। माहो मुर्मू को उसने अब अपने ग्रुप का मेठ बना दिया और ढलाई का काम फिर से पटरी पर लाने में मदद देने लगी।

विधाता स्टील प्रबंधन स्थानीय हितों के शुभचिंतक की छवि ओढ़े रखने के लिए समाज कल्याण की बहुत सारी गतिविधियां संचालित करता रहता था ताकि कोई स्थानीय विरोध का स्वर न उभरे। वह अपने कार्यक्रमों से बार-बार इसे प्रमाणित करने की पृष्ठभूमि तैयार करता रहता कि वह यहां से जो उपार्जन करता है, उसका एक बड़ा हिस्सा इसी क्षेत्र और यहां के लोगों के विकास में लगाता है। वह राष्ट्रीय स्तर पर कई ऐसे कार्यक्रमों का खुद को प्रणेता के तौर पर प्रचारित और विज्ञापित किया करता था। इन्हीं में एक शामिल हो गया महिला सशक्तिकरण का अभियान। उसने कंपनी में काम कर रही वैसी महिलाओं को, जो सबसे निचले पद पर थीं और उनकी अशिक्षा वगैरह को देखते हुए उनके ऊपर उठने की कोई गुंजाइश नहीं थी, तरक्की देने की एक योजना बनायी। इसके तहत उन्हें साक्षर बनाया जाने लगा और फिर ओवरहेड क्रेन आपरेटर, कोल्स क्रेन आपरेटर, लोको इंजन आपरेटर, डोजर आपरेटर, एक्सकेवेटर अथवा पोकलेन आपरेटर, मेकेनिक, फीटर आदि की ट्रेनिंग दी जाने लगी।

कंपनी को इस युक्ति से एक साथ दो फायदा दिखाई पड़ा - एक तो इन्हें तरक्की देने का अपने सिर पर सेहरा भी और दूसरा कम वेतन में उत्पादन से सीधे जुड़े जरूरी काम का निष्पादन भी। चूंकि न्यूनतम वेतनमान में दो या तीन वार्षिक वेतन वृद्धि का योग ही इनके इतरा उठने के लिए पर्याप्त था। इस युक्ति की जरूरत इसलिए भी महसूस की गयी कि ज्यादातर अनुकंपा के आधार पर बहाल इन महिलाओं के काम अप्रासंगिक हो गये। कम्प्यूटर के आ जाने से फाइल-फोल्डर और चिट्ठी-पत्री इधर-उधर करने की जरूरत खत्म हो गयी। बाकी जो काम साफ-सफाई और चाय-पानी का रह गया, उनका निपटान ठेकेदारों को सौंप कर बहुत सस्ते में किया जाने लगा।

कंपनी के कई दर्जन महिलाओं को लगा कि उसकी कायापलट हो रही है। इनमें ज्यादातर स्थानीय महिलायें ही थीं - सुरिया हेम्ब्रम, सलमा मरांडी, चैती हांसदा, हरजा सोरेन, बुंदी एक्का, शकुंतला कुजूर.....बहालेन लकड़ा, कुंती टेटे। उन्हें अच्छा लगा कि झाड़ू-पोछा लगाने, चाय-पानी पिलाने और जूठा कप-प्लेट धोने जैसे दाई-महरी वाले काम से मुक्ति मिल जायेगी और वेतन में भी वृद्धि हो जायेगी।

अधिकांश महिलाओं ने पढ़ना-लिखना सीख लिया और प्रशिक्षित होने में भी सफलता प्राप्त कर लीं। उन्हें अब पुरुषों वाला पैंट-शर्ट पहनना अनिवार्य कर दिया गया। जो हमेशा साड़ी-ब्लाउज और सलवार-कुर्ता पहनती रहीं वे अब नये लिबास में एक विदूषकीय लुक देती सी लगने लगीं। फिर भी वे खुश थीं, अभिप्रेरित महसूस कर रही थीं और उन्हें यह बदलाव अच्छा लग रहा था।



इन महिलाओं को एक नयी उपाधि दी गयी - ओजस्विनी। नयी-नयी जगहों पर वे पदस्थापित कर दी गयीं। किसी की ड्यूटी लोको क्रेन में, किसी की ओवरहेड क्रेन में, कोई पोकलेन चलाने में, कोई अर्थ मूवर चलाने में, कोई ट्रक चलाने में, कोई फोरक्लिप्स चलाने में, कोई फीटर के तौर पर, कोई मेकेनिक के तौर पर, कोई वेल्डर के तौर पर।

इन ओजस्विनियों में दोहारी बेसरा भी शामिल थीं। उसने हैवी व्हेकिल ड्राइविंग सीखी, लाइसेंस बनवाया और फर्राटे से पोकलेन और ट्रक आदि चलाने लगी। यहां भी वह सबसे आगे थी और कहीं भी जाना हो उसका नाम पहले आता था।

एक दिन दुकान में सौदा तौलते हुए अलसा ने कहा, ‘‘मर्दाना ड्रेस में एकदम मर्द लग रही हो। देखना, जरा अपनी औरत को बचा कर रखना।’’

बोदा सेठ ने दोहारी पर एक सरसरी नजर डालकर कहा, ‘‘क्या दिमाग लगाया है विधाता वालों ने। देखना, अब कंपनी इसे कितना भुनायेगी और पूरी दुनिया को अपना कायल बना लेगी कि समाज कल्याण और कारपोरेट सामाजिक जवाबदेही के निर्वाह में उससे आगे कोई नहीं हो सकता। इससे उसका प्रचार भी होगा, जय-जयकार भी और बाजार में उसकी साख को भी एक नयी चमक मिल जायेगी।’’

सच ही कहा सेठ ने, आखिर वह भी तो बाजार का ही एक खिलाड़ी था। इन ओजस्विनियों को लेकर कंपनी ने अपनी पीठ थपथपानी शुरू कर दी। कोई विजिटर आता, ओजस्विनियों से उनकी भेंट करवायी जाती - ‘‘देखिए इनके रूपांतरण को। कभी ये निरक्षर, अबोध और उपेक्षित श्रेणी में गिनी जाती थीं। आज कंपनी के सहयोग से परिश्रम करके एक समर्थ पुरुष की तरह खुद को सक्षम बना लिया और उनकी बराबरी में आकर एक कुशल (स्किल्ड) कर्मचारी के तौर पर अपनी सेवा दे रही हैं।’’

शहर के होर्डिंगों में इनकी तस्वीरों के साथ यह इबारत - ‘‘विधाता स्टील द्वारा महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक बड़ा कदम।’’ टेलीविजन के विभिन्न चैनलों और अखबारों में भी कंपनी के विज्ञापनों में प्रमुखता से यही संदेश। समय लेकर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से इनकी मुलाकात कराना और वाहवाही लूटना। श्रमदेवी पुरस्कारों के लिए इनकी नामजदगी। कुछेक को यह पुरस्कार हासिल। गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के मौकों पर कभी राँची, कभी दिल्ली, कभी भुवनेश्वर और कभी रायपुर की झांकियों में खुले ट्रक पर खड़ा कर इनका प्रदर्शन। विभिन्न शहरों के व्यापार मेलों में लगायी जाने वाली प्रदर्शनियों में क्रेन, ट्रैक्टर, ट्रेलर, बुलडोजर आदि चलाती हुई इन ओजस्विनियों की बड़ी-बड़ी तस्वीरों का समावेश। कंपनी के संस्थापक दिवस पर इन्हें पोकलेन, ट्रक और कोल्स क्रेन आदि चलाते हुए दिखाया जाना और तालियों की गड़गड़ाहट से इनका उत्साहवर्धन करना।

छत्तीसगढ़ और ओडिसा में भी कंपनी नये स्टील प्लांट लगाने की तैयारी में जुटी थी। अतः वहां भी जमीन देनेवालों को प्रभावित करने के लिए ओजस्विनियों को भेज कर एक उदाहरण की तरह पेश किया जाने लगा कि यह है नमूना कंपनी की उदारता का....सामाजिक उत्तरदायित्व वहन करने का.....वंचित तबकों को ऊपर उठाने की प्रतिबद्धता का। तात्पर्य यह कि जिनकी जमीन अधिग्रहीत होगी उनका भला ही भला होगा, क्योंकि उद्योग लगाने के पीछे कंपनी का मकसद स्थानीय लोगों के जीवन-स्तर को बेहतर बनाना भी है।

दोहारी को अच्छी तरह समझ में आने लगा कि कंपनी यह श्रेय इस तरह लूट रही है कि जो मिट्टी थी उसे उसने सोना बना दिया। मतलब जो किसी लायक नहीं थी उसे उसने बहुत लायक बना दिया। यही समझाने के लिए इन्हें मदारी के इशारे से संचालित होनेवाले करतबबाज की तरह पेश किया जाने लगा। कथित बड़े कुल-खांदान और आगे बढ़े घरों की उन औरतों की नुमाइश क्यों नहीं होती, जो पढ़-लिखकर बड़े पदों पर बहाल हो गयी हैं? इसलिए कि वे जन्म से ही सोना हैं और उन्हें सोना ही बना रहना है। कंपनी में ही तो दर्जनों औरतें बड़े पदों पर हैं, उनका प्रदर्शन क्यों नहीं किया जाता। उसका मन एकदम भन्ना गया। वह अब नहीं जायेगी कहीं भी।

कंपनी में दोहारी का अब लगभग दो साल पूरा होने जा रहा था। उसे वार्षिक बोनस के रूप में एक बड़ी रकम मिली। उसने सेठ से थोक मात्रा में राशन की खरीद कर ली, ताकि साल भर उसकी लाचार साथियों को दिक्कत न आये।

एक दिन उसे मानव संसाधन विभाग के जेनरल मैनेजर कार्यालय में बुलाया गया। किस बड़े पद पर कौन अधिकारी है, यह जानने में उसकी कोई रुचि नहीं थी। जब वह जीएम के आलीशान कक्ष में पहुंची तो वहां रतनलाल बजाज भी बैठा था। उसे अचंभा हुआ। समझ गयी कि इसी दुष्ट ने उसे बुलवाया है। जीएम ने उसे बैठने का इशारा किया। उसे बड़ा संकोच होने लगा, फिर भी बैठ गयी।

जीएम ने उसे संबोधित किया, ‘‘तुम्हें इसलिए बुलाया है दोहारी कि मेरे साथ ओजस्विनी की एक पांच सदस्यीय टीम को अमेरिका के वाशिंगटन में हो रही एक अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लेने के लिए जाना है। इस टीम में हमने तुम्हें भी रखा है।’’ जीएम ने रुक कर उसके चेहरे को पढ़ने की कोशिश की। वह बिल्कुल भावहीन थी।

उसने आगे कहा, ‘‘तुम्हें इस टूर से बहुत फायदा होगा। टीए-डीए में हरेक को कम से कम एक से डेढ़ लाख की बचत होगी। रतनलाल कह रहे हैं कि उन्हें एक बड़ी रकम तुम्हें चुकानी है। तुम आराम से इन्हें चुका सकोगी।’’

दोहारी ने काट खाने वाली नजरों से रतनलाल को देखा। रतनलाल जरा असहज हो उठा। कहने लगा, ‘‘इनके बारे में मैंने कहा था न दोहारी कि ये बहुत अच्छे आदमी हैं। इनका नाम तो जान ही गयी होगी तुम। यही हैं सुंदर चन्द्र पाहवा। जाओ इनके साथ अमेरिका.....इतना बड़ा मौका मिल रहा है तुम्हें। हवाई जहाज से जाओगी.....तुम्हारे तो कुल-खांदान का नाम तर जायेगा। पाहवा साहब तुम्हारा पूरा खयाल रखेंगे। तुम घूम भी आओगी और हमारे नुकसान की भी कुछ भरपाई हो जायेगी।’’

तमतमा कर उठ गयी दोहारी, ‘‘मुझे कहीं नहीं जाना है। मैं अपने माटी-पानी में ही खुश हूं। मुझे नुमाइश की चीज बनना अब गवारा नहीं है।’’

पाहवा के चेहरे का रंग विवर्ण हो गया। रतनलाल ने जब उसके इंकार की सूचना दी थी तभी से वह उसका मानमर्दन करने का संकल्प लिया हुआ था - मामूली सी चवन्नी छोकरी और गज भर की हैकड़ी। देखते हैं कंपनी में रह कर कब तक चंगुल में नहीं फंसती। उसे लगा था कि यह जाल तो अचूक है....इतने बड़े आकर्षण को ठुकराना किसी के लिए भी संभव नहीं। मगर इसने तो इसे भी नकार दिया।

पाहवा अपने पावर में आ गया, ‘‘कंपनी का फैसला है दोहारी। तुम्हें कंपनी ने नौकरी दी, ओजस्विनी बनाया। तुम उसके फैसले को नहीं मानोगी तो इसका अंजाम बहुत बुरा होगा। तुम्हें सस्पेंड होना पड़ सकता है। तुम्हारी नौकरी भी जा सकती है। तुम आखिर खुद को समझती क्या हो? किस चीज का घमंड है तुम्हें.....। रतनलाल जी के कारण तुम इस कंपनी में हो और इनके पैसे भी देने की तुम्हारी नीयत नहीं है?’’

रतनलाल ने भी अपनी फुंफकार छोड़ दी, ‘‘इसे मालूम नहीं है पाहवा साहब कि मैं क्या-क्या कर सकता हूं। इसका यही रवैया रहा तो सीधे इसके बैंक खाते से पैसे निकाल लूंगा। जितना मुरौव्वत कर रहा हूं उतना ही यह सिर चढ़ती जा रही है।’’

दोहारी दरवाजे की तरफ बढ़ गयी, ‘‘इस समय मेरा सिर चक्कर दे रहा साहब और कै करने का मन हो रहा है, मुझ जाने दीजिए।’’

‘‘ठीक है तुम जाओ। लेकिन यह समझ लो कि तुम्हें हर हाल में टीम के साथ जाना होगा, नहीं तो तुम संस्पेंड होने के लिए तैयार हो जाना।’’

दोहारी रतनलाल और पाहवा की धमकियों को अपने दिमाग में दर्ज कर कमरे से बाहर निकल गयी। उसे आज फिर रपचा की चप्पल की बहुत याद आयी। अपनी जमीन पर जब उसकी गंदी मुराद पूरी नहीं हुई तो विदेशी जमीन पर ले जाकर शिकार करने की ठान ली कुत्ते ने ताकि वहां वह अपने गले से आवाज तक निकालने के लायक न रहे। इतना शातिर महाजाल! सिर्फ एक जिद कि कुचल देना है उस स्वाभिमान को जिसे एक मामूली आदिवासी लड़की दिखा रही है। अन्यथा यह सच है कि वह कोई हूर नहीं है। उससे बहुत अच्छी-अच्छी लड़कियां उसे सहजता से उपलब्ध हो सकती हैं.....होती भी होंगी। यह सब रतनलाल का ही रचा-बुना जाल है। वह उसकी अस्मत कौ रौंद कर और उससे पैसे ले कर उसे हराना चाहता है, उसे नीचा दिखाना चाहता है, वरना उसके लिए दो चार लाख के क्या मायने हैं।

दोहारी के माथे में जैसे एक तूफान सा खड़ा हो गया। वह सेठ की दुकान पर पहुंची तो वहां माहो मुर्मू अपनी पूरी टोली के साथ मौजूद थी। ढलाई का एक बड़ा काम मिला था जिसे वे पूरा करके अभी-अभी लौटे थे। दोहारी को थोड़ी तसल्ली मिली कि चलो टीम फिर से खड़ी हो गयी। उसने कहा, ‘‘कंपनी में मेरा मन नहीं लगता। मैं फिर से अपने इसी काम में वापस होना चाहती हूं।’’

अलसा, सेठ और माहो सभी हैरानी से दोहारी के मुंह देखने लगे।

दोहारी ने किसी को बिना कुछ कहने का अवसर दिये फिर कहा, ‘‘आज सबके लिए मेरी तरफ से पार्टी होगी। हम एक साथ हडि़या पियेंगे और नाचेंगे....गायेंगे। हमारा न्योता अलसा और सेठ जी को भी है।’’

सेठ और अलसा के साथ दोहारी ने इस बारे में लंबी बातचीत की। पूरा माजरा सुन कर सेठ ने उसे इत्मीनान करते हुए कहा, ‘‘सिर्फ भभकी दे रहा है पाहवा। यह कोई कारण नहीं है कि इसके लिए किसी को सस्पेंड कर दिया जाये। तुम आराम से अपना काम करते रहो और इन्हें भौंकने दो।’’

अलसा ने असहमति दिखायी, ‘‘निजी कंपनियों का नियम-कानून उनकी अपनी जेब में होता है। मेरा तो विचार है कि दोहारी हो आये अमेरिका से। वहां इसके साथ कई और लड़कियां होंगी। किसी के मुंह पर इंकार का थप्पड़ मारने के लिए धरती चाहे अपने देश की हो या कि विदेश की, कोई फर्क नहीं पड़ता।’’

दोहारी ने उसे खारिज करते हुए कहा, ‘‘सवाल सस्पेंड होने का या थप्पड़ मारने का नहीं है। सवाल रतनलाल और पाहवा की मंशा का है कि वे आखिर क्यों पड़े हैं मेरे पीछे। खैर जो होगा, देखा जायेगा। न मैं इनसे डरती हूं और न डरूंगी। इस बीच मैं अगर कुछ कर जाऊं तो मदद के लिए आप लोग तैयार रहना। वक्त क्या करवायेगा, नहीं मालूम, लेकिन आप दोनों को और अपनी पूरी ढलाई टीम को अपने साथ देखती हूं तो मेरी हिम्मत बढ़ जाती है।’’

जिनका चयन हुआ था वे सभी ओजस्विनियां बहुत उत्साहित थीं और जाने की जोर-शोर से तैयारी कर रही थीं। दोहारी ने उन्हें दो टुक बता दिया कि उसे नहीं जाना है नुमाइश के लिए कहीं भी, चाहे वह अमेरिका ही क्यों न हो। वे उसे एक दुर्लभ मौका बता कर समझाने की कोशिश कर रही थीं और इसे किस्मत की एक बहुत बड़ी भेंट बता रही थीं। लेकिन दोहारी पर इसका कोई असर नहीं।

दोहारी को एक दिन बुलडोजर लेकर एक बस्ती उजाड़ने की ड्यूटी दी गयी। बस्ती कंपनी की लीज भूमि पर अवैध रूप से बस गयी थी, जिसमें सारे गरीब-गुरबा लोग थे। रिक्शा चलाने वाले, रेहड़ी लगाने वाले, कुली-कबाड़ी का काम करने वाले, सब्जी व फल बेचने वाले, गली-गली घूम कर जूता-छाता बनाने वाले। यह जमीन शहर के अंतिम छोर पर नदी के किनारे थी, जहां से कंपनी शहर के बाहर-बाहर एक सड़क निकाल रही थी ताकि उसके उत्पाद ढोने वाले ट्रक और ट्राली-ट्रेलर को शहर की भीड़-भाड़ में न घुसना पड़े। बस्ती में विरोध की कमान ज्यादातर महिलाओं ने संभाल रखी थी। इसलिए उनका सामना करने के लिए महिला चालित बुलडोजर भेजने की मंत्रणा की कंपनी और प्रशासन के अधिकारियों ने। पहले तो दोहारी इस नृशंस और बर्बर कार्रवाई के लिए तैयार नहीं हुई। लेकिन उसके ना करने पर फिर उसे करारी चेतावनियों का सामना करना पड़ा। इस बार तो ऐसा लगा कि निश्चय ही वह बच नहीं पायेगी। अंततः उसे मन मार कर जाना पड़ा। उसके बेड़े में एक महिला चालित और एक पुरुष चालित दो बुलडोजर और भी शामिल कर दिये गये।

मौके पर पुलिस बल की भारी तैनाती मौजूद थी। कंपनी और पुलिस प्रशासन के कुछ अधिकारी और कंपनी के खैरख्वाह स्थानीय नेता अपनी अपनी कारों और जीपों में बैठकर दूर से ही कार्रवाई का जायजा ले रहे थे, ताकि वे विरोध में चलने वाले रोड़े-पत्थर से बचे रहें।

बुलडोजरों ने झोपडि़यों और खोलियों को गिराना शुरू कर दिया। दोहारी को लग रहा था जैसे उसका अपना घर टूट रहा हो, उसकी अपनी बस्ती उजाड़ी जा रही हो। वह अपना बुलडोजर इस गली से उस गली घुमाती जा रही थी। सभी चालकों ने आंखों को छोड़ कर पूरे चेहरे को मोटे कपड़ों से लपेट लिया था और हेल्मेट पहन रखा था, इसलिए गाड़ी का नंबर देखे बिना दूर से समझना मुश्किल था कि कौन चालक क्या कर रहा है।

आंसू, विलाप, चीख, पुकार और मामूली विरोध व पत्थरबाजी के बीच बस्ती लगभग ध्वस्त हो गयी। बुलडोजर लौटने लगे। लौटते हुए दोहारी ने देखा कि एक लंबी चमकती कार में पाहवा और रतनलाल बैठा था, शायद उसी के आने की प्रतीक्षा कर रहा था।

पास आते ही पाहवा ने कहा, ‘‘हमने सब कुछ देख लिया है दोहारी और अपने कैमरे में कैद कर लिया है। इस भ्रम में मत रहना कि किसने क्या किया, हम जान नहीं पाये। अब तुम नहीं बच पाओगी।’’

दोहारी ने अपना बुलडोजर आगे बढ़ाकर तेजी से यू टर्न ले लिया और उसकी लंबी-चमकती कार में जोरदार धक्का मार कर उसे लगभग बीस फीट नीचे बह रही नदी में लुढ़का दिया। रोते-बिलखते बस्ती वाले क्षण भर के लिए खुश हो गये। चूंकि वे देख रहे थे कि सारे ध्वंस के सूत्रधार इसी कार में बैठे हैं और मोबाइल तथा स्पीकर से सबको निर्देशित कर रहे हैं।



सम्पर्क 
एस एफ - 3/116, बाराद्वारी सुपरवाइजर फ्लैट्स
साकची, जमशेदपुर - 831001
मोबाइल - 09431328758


(इस पोस्ट में प्रयुक्त पेंटिंग्स वरिष्ठ कवि विजेन्द्र जी की हैं।) 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमाशंकर सिंह का आलेख 'उत्तर प्रदेश के घुमन्तू समुदायों की भाषा और उसकी विश्व-दृष्टि'